CAT की परीक्षा में 99 पर्सेंटाइल लाने वाले इन जुड़वाँ भाइयों से जानिए सफलता के सूत्र

भारत की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षाओं में एक 'कैट परीक्षा' के रिजल्ट आने के बाद एक फिर से नए टॉपर उभर कर सामने आए। हर वर्ष न जाने लाखों छात्र भारतीय प्रबंधन संस्थान में दाख़िला का सपना लिए इस परीक्षा में बैठते हैं। हर कोई अपने स्तर से भरपूर मेहनत करता है लेकिन सफलता चंद छात्रों को ही मिल पाती है। आज हम ऐसे ही दो जुड़वाँ भाइयों से आपको मिला रहे हैं जिन्होंने अपनी मेहनत और तरकीब से इस परीक्षा में कामयाबी हासिल की है।

आईआईटी दिल्ली से इंजीनियरिंग कर रहे अनुभव गर्ग व अभिषेक गर्ग ने 99.99 और 99.97 पर्सेंटाइल के साथ सफलता हासिल की। अपने पिता को आदर्श मानने वाले इन भाइयों ने उनके द्वारा ही बताए राह पर चलते हुए प्रबंधन क्षेत्र में आगे बढ़ने का निश्चय किया। वे दोनों एक ही दिन पैदा हुए, लगभग एक ही समय। इंजीनियरिंग की परीक्षा जेईई में भी एक साथ बैठे और आईआईटी दिल्ली में शामिल हुए। इंजीनियरिंग की पढ़ाई के दौरान ही उन्होंने कैट परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी।

rnagbcfes7ymbkej6tybfcddztqnwqlm.jpg

उनकी मानें तो स्व-अध्ययन किसी भी प्रतियोगिता परीक्षा के लिए सबसे कारगर तरीका है। आप भले ही कोई कोचिंग ज्वाइन कर लें लेकिन फिर भी स्व-अध्ययन बेहद जरुरी है। साथ ही नियमित तौर पर मॉक टेस्ट में भाग लेनी चाहिए। अनुभव और अभिषेक दोनों ही आईआईएम-अहमदाबाद से एमबीए करने का सपना देख रहे हैं। 

दोनों ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और शिक्षकों को दिया है। उनका मानना है कि ऐसे परीक्षाओं को क्रैक करने के लिए आपके आसपास का माहौल भी बड़ी भूमिका निभाता है। सफलता की रणनीति के बारे में बताते हुए, अनुभव गर्ग ने मीडिया से बातचीत में कहा, दोहराए जाने वाले मॉक टेस्ट सफलता की कुंजी हैं। इसके अलावा, क्वांट सेक्शन पर विशेष ध्यान देने के साथ पूरे साल कड़ी मेहनत से ही मुझे सफलता मिली।

ggmkhtvy8zeisj9vdf8az7vw5gasknfv.jpg

आपकी जानकारी के लिए बताना चाहते हैं कि कैट अर्थात कॉमन एडमिशन टेस्ट में हासिल अंकों के आधार पर मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एम.बी.ए.) की पढ़ाई के लिए छात्र आईआईएम समेत अन्य प्रबंधन संस्थानों में दाख़िला लेते हैं। साल 2018 के परिणाम में 100 पर्सेंटाइल के साथ आईआईटी कानपुर के छात्र रहे रौनक मजूमदार समेत 11 लोगों ने टॉप किया है। 

Share This Article
1870