2018 में अपने साहसिक कारनामों से सुपरस्टार बनने वाले ये 7 हीरो हैं समाज के लिए मिसाल

साल 2018 भारत के लिए एक चुनौतीपूर्ण वर्ष रहा। प्राकृतिक आपदा से लेकर कई दिल दहलाने वाले हादसे हुए। हालाँकि इन हादसों के बीच कई गुमनाम हीरो उभरकर समाज के सामने आए। इन लोगों ने अपनी जान तक की परवाह किए बगैर विपत्ति में फंसे लोगों को बाहर निकाला और समाज के सामने एक मिसाल पेश की।

इस कड़ी में हम 7 ऐसे ही हीरो से आपको रूबरू करा रहे हैं जो गुमनामी के अँधेरे से निकलकर आज लोगों के लिए प्रेरणास्रोत हैं।

1) कृष्णा पुजारी 

hhpd7xqbmixpqv5ldybx3kppx2ynycix.jpg

कर्नाटक के उडुपी में इस 54 वर्षीय व्यक्ति की सजगता और हिम्मत से एक बड़ा रेल हादसा टला। बीमारी के चलते एक पैर कमजोर होने के बावजूद टूटी पटरी देखकर वह करीब तीन किमी की दौड़ लगाकर रेलवे अधिकारियों को सूचना दी। इसके बाद ट्रेनों को रोककर पटरी को दुरुस्त किया गया।

2) लता उन्नी

wxacxkwdt9sy83unzks2n8qdfjdj5rvg.jpg

35 वर्षीय लता उन्नी एक प्लेस्कूल बस में आठ छात्रों के साथ सवार थी और दुर्भाग्य से यह बस केरल के मारडु के पास कट्टीथरा रोड स्थित एक तालाब में जा गिरा। बिना कोई वक्त गवांए लता ने स्थिति की गंभीरता को समझा और बच्चों को बस से बाहर धकेलना शुरू कर दिया। लता शायद अपनी सुरक्षा पहले चुन सकती थी और अटकते हुए वाहन से भाग सकती थी, लेकिन उसने कुछ और करने से पहले बच्चों की जान बचाने को प्राथमिकता दी। इस दुर्घटना में दम घुटने से उनकी खुद की मौत हो गई।

3) गगनदीप सिंह

jyqw5ztw83fskq3yvgtmefqh8c2ychbv.jpg

सोशल मीडिया पर हीरो के रूप में उभरने वाले इंस्पेक्टर गगनदीप तो आपको याद ही होंगे। 22 मई को नैनीताल में जब उग्र भीड़ ने एक मुस्लिम युवक पर हमला बोला तो इस इंस्पेक्टर ने खुद को शील्ड बना कर उसकी रक्षा की। इस बीच मारपीट करती भीड़ में से एक शख्स ने गगनदीप को भी मार दिया, लेकिन वे डटे रहे और युवक को खुद से अलग नहीं किया। भीड़ को जैसे-तैसे शांत कर वे उस युवक को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने एन सफल रहे।

4) जेन सदावर्ते

2cwwu3u4hhmxrx4mphsyq9iqzrehnb6i.jpeg

मुंबई के परेल इलाके में जब एक बहुमंजिला रिहायशी इमारत आग की चपेट में आ गया तो कई लोगों को अपनी जान धोनी पड़ी। इस दर्दनाक घटना के बीच 10 साल की इस बच्ची ने अपनी सूझबूझ से अपने परिवार तथा पड़ोसियों की जिंदगी बचा ली। सबसे पहले, उसने अपने घर की खिड़कियां खोल दीं, जिससे हवा पास हो सके। फिर, उसने अपने सभी पड़ोसियों के दरवाजे पर जाकर आग के बारे में सचेत किया। उन्होंने सभी को घुटन से बचने के लिए अपने मुंह पर गीला कपड़ा रखने के लिए भी कहा।

5) दलवीर सिंह 

petdxwg3imqjrbqdbxduvmypsiu3jedt.jpg

साल 2018 की सबसे दर्दनाक घटनाओं में एक अमृतसर का रेल हासदा था, जिसमें 59 लोगों की जान चली गई थी। रामलीला के मंच पर रावण का किरदार निभाने वाले दलबीर सिंह ने भीड़ के सामने स्पीड में आती ट्रेन को देखकर बिना वक़्त गवाएं 8 से ज्यादा लोगों को धकेलकर उनकी जान बचाई। दुर्भाग्य से वह खुद ट्रेन की चपेट में आ गए और उनकी मृत्यु हो गई।

6) जेसीबी ड्राइवर कपिल

fjetu9trrrs8ywifidemr2vthdgmzwsm.jpg

तमिलनाडु के रहने वाले कपिल ने ऐसा कारनामा किया है, जिससे लोग उनकी तारीफ करते नहीं थक रहे। कपिल एक जेसीबी वाहन में अपनी नियमित शिफ्ट में काम कर रहे थे, तभी उन्होंने यात्रियों से भरे एक बस को खाई में लुढ़कते देखा। एक पल गंवाए बिना, उन्होंने अपना वाहन गियर में डाला और बस को फंसा लिया। और इस तरह 80 लोगों की जान बची।

7) कैप्टन पीएस राजपूत और को-पायलट मारिया ज़ुबेरी

ryncqvhzsssh4lhntdfwzuhxlqlw4vp8.jpg

मुंबई के जुहू एयरपोर्ट पर एक 12 सीटर चार्टर्ड प्लेन जो हादसे का शिकार हुआ, उसकी चपेट में आकर कई लोग मर सकते थे लेकिन कैप्टेन ने अपनी सूझबूझ से सबको बचा लिया। पायलटों ने दुर्घटनाग्रस्त लैंडिंग के लिए अपेक्षाकृत खाली स्थान खोजने के लिए अपने अंतिम क्षणों का उपयोग किया, और घनी आबादी और व्यस्त सड़कों के बीच एक निर्माणाधीन स्थल पाया। उस वक़्त श्रमिक दोपहर के भोजन के लिए बाहर गए हुए थेा। मौत के सामने भी, कप्तान और सह-पायलट ने सुनिश्चित किया कि इस दुर्घटना में लोगों की जान नहीं जाए। इस दुर्घटना में उन दोनों की मौत हो गई थी।

Share This Article
332