पिपलांत्री: हिन्दुस्तान का एक ऐसा गाँव जहाँ समृद्ध भारत की खूबसूरती देखने को मिलती है

बेंजामिन फ्रैंकलिन की कहावत ‘ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है’ अत्यंत प्रसिद्ध है। किताबों में तो है, मनुष्य के जीवन में यदि यह नीति ईमानदारी से लागू हो जाए तो परिवार, समाज और राष्ट्र का उत्थान निश्चित है। सरकारी योजनाओं का लाभ सही व्यक्ति तक नहीं पहुंचने की खबरें तो आम है लेकिन आज जिस गांव के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं वह सरकारी योजनाओं के सदुपयोग से आज इतना फल-फूल रहा है कि 157 गांव इस गांव के मॉडल को अपना रहे हैं। प्राचीन भारत जो सोने की चिड़िया कहलाता था उस भारत की झलक यह गांव प्रस्तुत करता है। उदयपुर राजस्थान के छोटे से गांव पिपलांत्री को 2007 में स्वछता मॉडल के लिए राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया था। 

केनफ़ोलिओज़ के साथ ख़ास बातचीत में पिपलांत्री के कायाकल्प के सूत्रधार श्री श्यामसुंदर पालीवाल जी से इतने अनोखे तथ्य पता चले कि महसूस हुआ कि यदि हर एक भारतीय नागरिक व्यक्तिगत तौर पर ईमानदारी को अपना ले तो भारत को सोने की चिड़िया पुनः बनाना कोई मुश्किल कार्य नहीं होगा। गरीब परिवार में जन्मे पालीवाल ने बचपन से ही कठिनाइयों को अपने करीब पाया लेकिन स्वयं को इस संकल्प के साथ बड़ा किया कि अपने गांव और गांववासियों के लिए बहुत कुछ करना है। नियति ने उनकी मंशा को भांप कर उन्हें सरपंच बनने का मौका दिया। उन्होंने इस पद का भरपूर सदुपयोग करते हुए गांव वासियों के लिए जागरूकता अभियान चलाए जिसमें उन्हें जल, पेड़ और बेटी को बचाने के लिए जागरूक किया। जल संचयन का महत्व समझाया, गांव की महिलाओं द्वारा वृक्षों को राखी बंधवा कर भाई बहन का अनोखा रिश्ता बनवा दिया, जिससे वृक्षों का कटाव रोकने में सहायता मिली। बेटी बचाओ अभियान के अंतर्गत गांव में बेटी के पैदा होने के उपलक्ष्य में वृक्ष लगाए जाने लगे। गरीब और असहाय परिवारों की बच्चियों को सहायता देने के लिए सक्षम परिवारों को प्रेरित करके इन बेटियों के लिए जमा योजना शुरू करवा दी जो उनकी पढ़ाई एवं विवाह में काम आ सके। 

pyfgwcjqet4l635pdgbi5ezv5tjfahnp.jpg

सबसे दिलचस्प बात यह रही कि गांव के जो लोग श्रमदान समझकर गांव में काम करते थे, अपनी मातृभूमि के प्रति उनकी भावनाओं को जागृत करके सरकारी योजनाओं का भरपूर सदुपयोग किया और गांव के प्रत्येक घर में योजनाओं का लाभ पहुंचाया। 

गांव में आ रहे बदलाव ने जनप्रतिनिधियों एवं सरकारी अधिकारियों का ध्यान अपनी और आकर्षित किया तो उनके सुझावों का भी स्वागत किया गया। स्वच्छता अभियान को बढ़ावा देने के लिए गांव में शौचालयों का निर्माण भी किया गया सकारात्मक लोगों के सुझावों से गांव दिन प्रतिदिन प्रगति करने लगा। महिलाओं विकलांगों, असहाय, गरीबों सभी को रोजगार मिलने लगा। इस तरह अपने गांव की जरूरतों के अनुरूप सरकारी योजनाओं के समन्वित प्रयोग से प्राचीन समृद्ध भारत का मॉडल पिपलांत्री में तैयार हो गया। 

wjnxvlufj8zeykyvy9sybjdn67fq3lre.jpg

पालीवाल के अनुसार ईमानदारी की असली परिभाषा है ‘कर्मशील ईमानदारी’ अर्थात काम के प्रति ईमानदारी। प्रत्येक गांववासी ने कर्मशीलता के साथ ईमानदारी से सरकारी पैसे को लेना शुरू किया तो गांव के साथ-साथ उनका जीवन भी बदल गया। 

यदि यह जागरुकता एक छोटे से गांव का नक्शा बदल सकती है तो देश को बदलना असंभव तो नहीं, बात तो बस शुरुआत की है जो पिपलांत्री गांव से हो चुकी है।

(यह आर्टिकल मेघना गोयल द्वारा लिखा गया है)

Share This Article
971