मिलिए केरल के दबंग IPS ऑफिसर से, जो वीआईपी ट्रीटमेंट लेने वालों को भी नहीं बख्शते

कानून और नियम सबके लिए बराबर होने चाहिये। चाहे वह नेता हो, अभिनेता हो या देश का प्रधानमंत्री ही क्यों ना हो। लेकिन सामान्यतः ऐसा देखने को नहीं मिलता। कई बार नियमों को ताख पर रखकर नेता, मंत्रियों को वीआईपी ट्रीटमेंट दिया जाता है।। चाहे वह कोई नेता हो या अफसर, एक बार ऊंचे पदों पर जाने के बाद वह उन लोगो को ही भूल जाता है जिनके बीच से वह खुद आया है। वह खुद को खास और दूसरों को आम समझनें लगता है। इसमें दोष सिर्फ उनका नहीं है बल्कि उस सिस्टम का भी है जो उन्हें ऐसा करने को ना सिर्फ इजाजत देता है बल्कि साथ भी देता है।

पर आज हम आपको एक ऐसे आईपीएस ऑफिसर के बारे में बताने जा रहे हैं जसनें नियम के सामने एक केंद्रीय मंत्री के रसूख को भी नहीं दी तरजीह। और मंत्री के निजी वाहन को भगवान अयप्पा के मंदिर परिसर में जाने से रोका।

hbudbdichjszusgfdg8jiqbkrh3ecqdh.jpg

इनका नाम है यतीश चंद्रा। 32 साल के यतीश एक 2011 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। उनको वहां 'दबंग' ऑफिसर के नाम से जाना जाता है। फिलहाल यतीश केरल के त्रिशूर जिले में एसपी के पद पर कार्यरत हैं। कुछ दिनों पहले भारतीय जनता पार्टी के केंद्रीय मंत्री राधाकृष्णन अपने काफिले के साथ सबरीमाला मंदिर जा रहे थे। पर मंत्री के निजी वाहनों के काफिले को आईपीएस यतीश चंद्र ने रोक दिया था। इस दौरान दोनों के बीच जमकर बहस हुई थी। मंत्री के निजी वाहन के प्रवेश पर रोक लगाने पर मंत्री, उनके समर्थकों और आईपीएस के बीच जमकर बहस हुई। इसका विडियो वायरल हो रहा है। इसमें दबंग आईपीएस स्पष्ट शब्दों में मंत्री को कह रहे हैं कि उनके निजी वाहन को परिसर में प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

tjqxdrw8ypnznybsmfablk9xr9cdcpvv.jpg

दरअसल राधाकृष्णन विपक्षी यूडीएफ गठबंधन के विधायकों और बीजेपी सांसदों के दौरे के एक दिन बाद श्रद्धालुओं को दी जाने वाली सुविधाओं का जायजा लेने के लिए पहुंचे थे। सुविधाओं की समीक्षा के बाद मंत्री ने आईपीएस अधिकारी से पूछा कि केवल केएआरटीसी के वाहनों को ही पंबा तक आने की इजाजत क्यों दी गई है? उन्होंने निजी वाहनों की आवाजाही की इजाजत देने की भी मांग की। इसपर आईपीएस चंद्रा ने कहा कि पंबा का पार्किंग एरिया अगस्त में आई बाढ़ में बह गया था। राज्य परिवहन सेवा की बसें पंबा में नहीं रुकेंगी और वह तीर्थयात्रियों को ले कर लौट जाएंगी। लेकिन अगर नजी बसों को आने की इजाज़त दी जाएगी तो उनसे यातायात जाम होगा और श्रद्धालुओं को दिक्कत होगी।

 बाबजूद इसके मंत्री उनपर वाहन अंदर ले जाने की अनुमति देने की मांग करते रहे। इसपर आईपीएस यतीश ने कहा कि वहां पर पार्किंग की समस्या है। सरकारी वाहन वहां वीआईपी को उतारकर वापस आ जाते हैं। अगर एक निजी वाहन जाने दिया जाएगा तो अन्य लोग भी वहां जाने का प्रयास करेंगे। अगर वहां ट्रैफिक की व्यवस्था खराब होती है तो क्या आप जिम्मेदारी लेने को तैयार हैं?' पर मंत्री नें किसी भी तरह की जिम्मेदारी लेने से इनकार किया और आईपीएस पर उनके निजी वाहन को अंदर जाने देने के लिए दबाव बनाने लगे। आईपीएस ने कहा, 'आप मुझे लिखकर दे दीजिए तो मैं आपके निजी वाहन को जाने की अनुमति दे दूंगा। बहुत दबाब के बाद भी आईपीएस चंद्रा नें नियमों के सामने मंत्री की एक नहीं चलने दी। अंत में मंत्री को सरकारी वाहन से ही मंदिर जाना पड़ा।

hnq2jxcy6afhpfex9rrpybzjzyrx5lru.jpg

आपको बता दें कि यतीश चंद्र बचपन से ही प्रतिभाशाली हैं। उन्होंने स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद बापू जी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलॉजी में दाखिला लिया। बीटेक की डिग्री प्यूडी करने के बाद उन्हें कैंपस प्लेसमेंट में कॉग्निजेंट टेक्नॉलॉजी में साफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर सलेक्ट कर लिया गया था। इसके बाद उन्होंने यूपीएससी की तैयार शरू की और सिविल सर्विसेज परीक्षा 2010 में सफलता भी हासिल की। उन्हे देश भर में 211वां रैंक मिला था। उनकी छवि को एक दबंग पुलिस अधिकारी की थी ही। पर जाहिर है इस घटना के बाद वो हिरो बन गए हैं।

Meet Aaron Who Rescues Pets Through Telepathy

Meet Aaron Who Rescues Pets Through Telepathy