45 सेकंड में लिए गए सूझबूझ भरे निर्णय से बच गई कई हवाई यात्रियों की जान

हादसे समय देखकर नही होते वो तो कभी भी कही भी किसी भी समय घट जाया करते है। लेकिन अगर सतर्कता और सावधानी रखी जाए तो बड़े से बड़े हादसों से भी बचा जा सकता है। कुछ इस तरह की सूझबूझ और सतर्कता सामने आई जब कोलकाता के एटीसी टावर ने मात्र 45 सेकंड में एक बड़े हादसे को रोक दिया।  कोलकाता में वायु यातायात नियंत्रण (एटीसी) टावर ने एक विमान को सही दिशा में आने और सामने से आ रहे दूसरे विमान को रास्ता देने के लिए 45 सेकण्ड के समय में तुरन्त निर्णय लेते हुए प्लेन की दिशा बदलने का आदेश किया जिससे की एक बड़ा हवाई हादसा होने से टल गया।

ezpc95izqyfnjt7huakqft3zqrijsnue.jpg

बुधवार को कोलकाता से उडी एक इंडिगो विमान उड़ान बांग्लादेश हवाई क्षेत्र में 36,000 फीट और दूसरी उड़ान भारतीय हवाई क्षेत्र में उड़े इंडिगो की उड़ान 35,000 फीट की ऊंचाई पर थी और जरा सी चूक के भीषण टक्कर का कारण बन सकती थी। भारतीय  हवाई अड्डे प्राधिकरण (AAI) के अधिकारियों ने बताया कि " भारत और बांग्लादेश के सीमावर्ती हवाई क्षेत्र में मध्य - हवाई टक्कर रोकने के लिए दो इंडिगो विमान को दिशा बदलने के निर्देश दिए गये क्योंकि वे बहुत ज्यादा करीब आ चुके थे।" संभावित टक्कर से केवल 45 सेकंड पहले ही कोलकाता में वायु यातायात नियंत्रण (ATC) टावर  ने स्थिति को भाप कर एक विमान को सही दिशा में जाने का आदेश दिया।

6fzswteangzmepmmmgd9cnptchskuhv2.jpg

कोलकाता हवाई अड्डे के एक वरिष्ठ अधिकारी  ने बताया कि " दोनों इंडिगो विमान  बुधवार की शाम को एक ही स्तर पर आए थे और जिससे दोनों विमानों के टकराने का खतरा था लेकिन सही समय पर लिए गये निर्णय से हादसा टल गया।" सही समय पर दोनों प्लेन के पायलट ने निर्देशों को समझा और निर्णय लिया जिसके चलते कई यात्रियों की जान बच पाई।

वाक़ई सही कहा गया है समय पर लिया गया सूझबूझ भरा निर्णय हादसों से सुरक्षा करने में सक्षम होता है।

Meet Aaron Who Rescues Pets Through Telepathy

Meet Aaron Who Rescues Pets Through Telepathy