टेक्नोलॉजी और क्रिएटिविटी के प्रयोग से अब अपडेट होने लगा है पुलिस विभाग

भारतीय पुलिस अपराधियों को पकड़ने के अनोखे तरीकों को लेकर अक्सर सुर्ख़ियों में रहती है।बात चाहे सोशल मीडिया की हो तो हमारी पुलिस भी तकनीक के उपयोग में कही पीछे नही है समय के साथ हमारी खाकी भी अपडेट हो रही है। आज की हमारी कहानी भी भारतीय पुलिस की रचनात्मकता को दर्शाती है आप सभी को याद होगा जुलाई मे जब ड्रेक के दुनिया भर में हिट हुए 'किकी' चैलेन्ज के बारे में।

wmpeapw5xnaknmynlvyvvexcqbq42tvj.jpg

इस चैलेंज को स्वीकार करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को एक चलती कार से उतर कर कार के साथ साथ रैंप पर डान्स करना होता था लेकिन यह चैलेन्ज बेहद खतरनाक और यातायात नियमों के खिलाफ था भारत में भी कई लोग इस चैलेंज को स्वीकार करने लगे और जान जोखिम में डालने लगे ऎसे में भारतीय पुलिस का चौकन्ना और सख्त होना जायज था। इस चैलेंज के हानिकारक पक्ष को देखते हुए भारतीय पुलिस ने तेजी से नियमों और विनियमों को जारी किया ताकि लोगों को इस चुनौती को स्वीकार करने से मना किया जा सकें और इसके दुष्प्रभावों को बताया जा सकें।

लेकिन इस बार जनता को जागरूक करने का पुलिस का तरीका कुछ अलग ही था मुंबई पुलिस ने इस बार गेम्स और तकनीकी का सहारा लोगो को जागरूक करने के लिए लिया उन्होंने  नेटफिक्स मूल श्रृंखला, 'सेक्रेड गेम्स' के एक स्नैपशॉट का इस्तेमाल किया और डिजिटल माध्यम से लोगों को जागरूक किया जो की पुलिस की एक रचनात्मक पहल थी जिसकी लोगो ने बहुत प्रशंसा की।

पुलिस का काम हमेशा बल का ही नही होता बल्कि यह बुद्धि और बल का सम्मिश्रण होता है। कई बार विपरीत परिस्थितियों में पुलिस को अक्सर दुश्मनों को दूर करने के लिए किसी चाल और रणनीति को अपनाना पड़ता है।

अब बात अगर उत्तर प्रदेश पुलिस की हो तो क्रिएटिविटी में वो भी पीछे नही है यूपी के संभल जिले में कुछ दिनों पहले घटी एक घटना में जहां अपराधियों को डराने के लिए जहाँ पुलिस ने "थाई थाई, भागो भागो" कहकर बंदूक की आवाज़ की नकल निकाल कर अपराधियों को पकड़ने की कार्यवाही की। पुलिस स्टेशन-प्रभारी ने पुलिस को डराने वाले हिस्ट्री शीटर को पकड़ने के लिए बन्दूक की आवाज़ का प्रयोग करना पड़ा। कई बार जब अपराधियों को अपने वाहन को नियमित चेकपॉइंट पर रोकने के लिए कहा गया तो अपराधियों ने बूम बैरियर को तोड़ दिया और भागने की कोशिश की उसके बाद स्थानीय पुलिस अधिकारियों द्वारा एक गहन ऑपरेशन किया गया और अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया गया। हालांकि इस दौरान मुठभेड़ भी हुई जिसमे अपराधियों की तरफ से गोलीबारी की गई जिसमे एक इंस्पेक्टर और कॉन्स्टेबल घायल हो गए थे।

वाक़ई हमारी पुलिस जिस तरह के नए नए प्रयोग कर रही है उसे देखकर आम आदमी के मन में पुलिस के प्रति विश्वास बढ़ा है और अपराधियों में ख़ौफ़ के माहौल है।

Share This Article
174