यह ऐप किसी भी व्यक्ति को सुपरहीरो बना सकता है, जानिए कैसे यह ला रहा है एक क्रांतिकारी बदलाव

परंपरागत रूप से भारत में, व्यापारिक संचालन समाज की बेहतरी से कोई सरोकार नहीं रखता है। लाभ की एक छोटी सी राशि और वह भी अनिवार्य सीएसआर की वजह से डोनेट करने के अलावा उनका दूर-दूर तक कोई वास्ता नहीं रहता। लेकिन समय के साथ अब इस क्षेत्र में भी क्रांतिकारी परिवर्तन देखने को मिल रहे हैं। सामाजिक उद्यमियों की वर्तमान लहर ने वाकई में एक नए दौर का आगाज़ किया है।

जिस प्रकार व्यापारिक उद्यमिता में नवाचारी उत्पादों या नवाचारी सेवाओं का बहुत महत्व है, उसी तरह सामाजिक उद्यमी के कार्य में सामाजिक नवाचार का बहुत महत्व है। नई पीढ़ी के युवा अब ऐसे स्मार्ट आइडियाज के साथ आगे आ रहे हैं, जो सामाजिक कल्याण को ध्यान में रखकर बनाया गया है। आज हम एक ऐसे ही स्टार्टअप की कहानी आपके सामने पेश कर रहे हैं, जो एक क्रांतिकारी ऐप के ज़रिये आपके भीतर की परोपकारिता को आपके फिटनेस के साथ जोड़ता है।

'इम्पैक्ट' नामक यह ऐप आपको टहलने या जॉग या दौड़ने के लिए प्रोत्साहित करता है और आपकी यह गतिविधि फंड इकट्ठा करने वाली विभिन्न परियोजनाओं में योगदान देती है। इस ऐप के सह-संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी इशान नदकर्णी ने केनफ़ोलिओज़ के साथ ख़ास बातचीत में प्रोजेक्ट के ऊपर विस्तार से चर्चा की।

sqzh6r8y4ckaqji8sjuywb2xvgpypqbq.jpeg

कैसे हुई शुरुआत

दो साल पहले इशान नादकर्णी और निखिल खंडेलवाल ने इस प्रोजेक्ट की आधारशिला रखी थी। दोनों पहले से ही एक क्राउडफंडिंग परियोजना पर काम कर रहे थे, जिसका उद्देश्य तकनीक के माध्यम से समाज की बेहतरी में योगदान देना था। इसी दौरान एक दिन निखिल ने इशान को एक चुनौती दी कि यदि वह जॉगिंग के लिए जाएगा तो वह उसे पैसे देंगे। खेल-खेल में दी गयी इसी चुनौती में उन्हें अपना स्टार्टअप आइडिया दिखा। 

फिर उन्होंने इस परियोजना पर काम करना शुरू किया। और जल्द ही तीन अन्य लोग इससे जुड़े। उन्होंने अगस्त, 2016 में अपना ऐप लॉन्च किया। वर्तमान में, उनके पास 12 लोगों की एक टीम है जो विभिन्न व्यावसायिक पहलुओं पर काम कर रही है। अब उनके पास 50,000 से अधिक उपयोगकर्ता भी हैं और अब तक उन्होंने ₹2.8 करोड़ से अधिक के फंड भी जुटाए हैं।

कैसे काम करता है यह ऐप

4v3w5z4bwsqwva9cccgfd92gdpl3tt3w.jpeg

ऐप डाउनलोड करने के बाद, उपयोगकर्ता को कई फंड इकट्ठा वाली परियोजनाओं में से एक को चुनने के लिए कहा जाता है। चयन करने के बाद, जब उपयोगकर्ता टहलने या जॉग या दौड़ने के लिए जाता है, तो ऐप कवर की दूरी का पता लगाता है और दूरी पूरा होते ही उस विशेष कारण पर काम कर रहे गैर सरकारी संगठनों को एक निश्चित राशि हस्तांतरित की जाती है। यह पैसा कॉर्पोरेट सोशल ज़िम्मेदारी (सीएसआर) की ओर से एक फंड के रूप में विभिन्न कंपनियों से आता है।

साल 2013 में सरकार द्वारा भारत में हर बड़ी कंपनियों को सीएसआर कानून अनिवार्य कर दिया गया था। इस अधिनियम के तहत, प्रत्येक कंपनी जिसका 500 करोड़ रुपये का शुद्ध मूल्य था या 1,000 करोड़ रुपये का कारोबार या ₹ 5 करोड़ का शुद्ध लाभ था, उन्हें सामुदायिक कल्याण के लिए अपने औसत शुद्ध लाभ का कम से कम 2 प्रतिशत खर्च करना पड़ेगा। इम्पैक्ट टीम इस कानून का उपयोग करती है और कंपनियों को इस कानूनी जिम्मेदारी में मदद करती है।

लोगों के बीच बड़ी तेजी से हो रहा है लोकप्रिय

ऐप के विपणन पर बहुत कम खर्च करने वाली टीम का मानना है कि लोगों के बीच लोकप्रिय होने का अपना तरीका है। एक प्रेरणा के रूप में दान के अलावा, ऐप में एक लीडरबोर्ड भी शामिल है जो उपयोगकर्ताओं को प्रतिस्पर्धात्मक अनुभव देता है। इसके अलावा, टीम मैराथन आयोजकों के साथ भी मिलकर काम करती है। वे उन कंपनियों के लिए कर्मचारियों की मेजबानी भी करते हैं जो मौद्रिक योगदान के लिए इच्छुक होते हैं।

एक विचार जो दो दोस्तों के बीच एक मजेदार चुनौती से शुरू हुआ, अब संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, मध्य पूर्व और चीन जैसे देशों में भी अपनी पहुँच बना चुका है। बहुत से लोग पैसे या समय की कमी की वजह से सामजिक कल्याण के कार्यों में योगदान चाहते हुए भी नहीं दे पाते। यह ऐप उनके लिए एक वरदान साबित हो सकता है।

gzw5sc5krpwsrdcnukcxwnful5hgwjmj.jpeg

चीजें हमेशा एक तरह से नहीं चलती और कभी-कभी चुनौतियों का सामना भी करना होता है। यद्यपि वे अपने लक्ष्यों तक तेजी से पहुंचते हैं, लेकिन कभी-कभी इसमें समय लगता है। ऐसे मामलों में, वे जितनी जल्दी हो सके लक्ष्य को पूरा करने के लिए अधिक से अधिक उपयोगकर्ताओं को प्रोत्साहित करते हैं ताकि एनजीओ समय पर भुगतान कर सकें।

इशान कहते हैं कि "मैं ऐसे समय का सपना देखता हूं जब हमारे उपयोगकर्ताओं की संख्या और उनकी सक्रियता इतनी अधिक होगी कि तुरंत ही किसी भी मुहिम के लिए फंड एकत्रित हो जाएंगे।"

इम्पैक्ट टीम वाकई में समाज में एक प्रभावकारी इम्पैक्ट लाने की दिशा में प्रयासरत है। उम्मीद है कि ज्यादा से ज्यादा लोग इस मुहिम से जुड़कर देश व समाज की बेहतरी में अपना योगदान दे सकेंगे।

यदि आप भी इस मुहिम का हिस्सा बनना चाहते हैं, तो ऐप को डाउनलोड करें:

mnpjqpqh5ujcfwt4zwm8qkasb6zcsevw.pngmjsr35xa3h9muid6vuqmabuzd6y29itq.png

Share This Article
2112