जब DSP पिता ने SP बेटी को गर्व से ठोका सलामी, पिता-पुत्री के प्यार और सम्मान को दर्शाता एक अद्भुत पल

किसी भी बेटी के लिए उसके पिता ही पहले हीरो होते हैं। वह अपनी हर समस्या के समाधान के लिए, समर्थन के लिए, प्रेरणा के लिए अपने पिता की ओर ही देखती है। और किसी भी पिता के लिए उससे ज्यादा गर्व की बात और क्या हो सकती, जब उसके बच्‍चे जिंदगी में सफलता पाने में उनसे भी आगे निकल जाते हैं। कुछ ऐसा ही नज़ारा तेलंगाना में देखने को मिला, जब डीसीपी पिता ने गर्व से अपनी एसपी बेटी को सलामी ठोका और वह भी हजारों लोगों की भीड़ के सामने। पिता-पुत्री के बीच प्यार और सम्मान को दर्शाता यह पल सच में बेहद प्रेरणादायक है।

गौरतलब है कि हैदराबाद के पास कोंगरा कलां में तेलंगाना की रूलिंग पार्टी टीआरएस की एक जनसभा हो रही थी। यहां वर्दी में तैनात एक डीसीपी पिता ने जब अपनी एसपी बेटी को सैल्यूट किया तो वहां मौजूद हजारों लोगों के चेहरे पर मुस्कान आ गयी। यह शख्स कोई और नहीं राशाकोंडा कमिश्नरी के मलकानगिरी के पुलिस उपायुक्त उमा मेहश्वरा शर्मा थे जो अगले साल रिटायर होने वाले हैं। उन्होंने सब इंस्पेक्टर की नौकरी से शुरुआत कर 30 वर्षों तक सेवा देने के बाद डीसीपी पद तक का सफ़र तय किया।

mxkljy2sswyrdbxjwdm2gu2xswpffrgh.jpeg

फोटो साभार: टीवी टुडे नेटवर्क

उनकी बेटी सिंधू शर्मा मौजूदा समय में तेलंगाना के जगतियाल जिला में पुलिस अधीक्षक के पद पर तैनात हैं। उनकी बेटी का आइपीएस में चयन चार साल पहले ही हुआ। 2014 बैच की आईपीएस अधिकारी सिंधू अपने पिता को ही अपना आदर्श मानती हैं और उनके ही नक्शेकदम पर चलते हुए उसने पुलिस सेवा ज्वाइन करने का निश्चय किया।

जब दोनों पिता और बेटी तेलंगाना राष्‍ट्र समिति के कोंगारा कालन इलाके में एक समारोह में आमने-सामने आए तो पिता ने गर्व के साथ बेटी को सैल्यूट किया। मीडिया से बातचीत में उन्होंने बताया कि यह पहली बार है जब दोनों एक पब्‍ल‍िक समारोह में सबके सामने आए और उन्‍होंने वही किया जो अक्‍सर करते हैं।

pmrivdxvudxltdmmpzextz2nc3z7xgky.jpeg

हालाँकि यह पहली बार नहीं है जब उन्हें अपनी बेटी के सामने ऐसे पेश होने का मौका मिला है। वह जब भी ड्यूटी के दौरान अपनी बेटी के सामने आते हैं तो सेल्‍युट करते हैं और अपने कर्तव्‍य का पालन करते हैं। वहीं जब घर पर होते हैं तो उनका रिश्‍ता एक सामान्‍य बाप-बेटी वाला होता है।

 


Share This Article
13130