छठी कक्षा में फेल होने के बाद यह लड़की सेल्फ स्टडी कर बनी UPSC टॉपर

भारतीय प्रशासनिक सेवा की परीक्षा देश की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाती है। इस परीक्षा में बैठने वाले लोग वे होते हैं जिनका पूरा करियर सफलताओं से भरा होता है, सामान्य विद्यार्थियों के लिए इस परीक्षा में पास होना सपने से कम नहीं होता। लेकिन रुक्मणी रायर हैं जो एक तरफ तो अपनी छठवीं की परीक्षा में फेल होती हैं और दूसरी तरफ बिना किसी कोचिंग के भारत की सबसे कठिन परीक्षा पास करती हैं।

अविश्वनीय किन्तु सत्य है, रुक्मणी को बहुत साल पहले डलहौज़ी के एक बोर्डिंग स्कूल में डाला गया। अचानक हुए परिवर्तन से रुक्मणी स्कूल में एडजस्ट नहीं हो पा रही थीं। बोर्डिंग स्कूल के दबाव से उनकी पढ़ाई पर भी असर हो रहा था। लगातार उनकी पढ़ाई का स्तर नीचे जा रहा था और छठवीं की परीक्षा में रुक्मणी फेल तक हो गई।

रुक्मणी रिजल्ट के बहुत दिनों तक डिप्रेशन में रही। नन्हीं सी रुक्मणी के दिल और दिमाग पर बेहद गहरा प्रभाव पड़ा।  वह अपने दोस्तों से, अपने परिवार वालों से और यहाँ तक अपने माता-पिता से भी बात करने में शर्मिंदगी महसूस करने लगी। लेकिन इन सबसे वे बहुत मज़बूती से बाहर आईं और यह उनके लिए जिंदगी का एक बड़ा सबक था और इस सबक से उन्होंने बहुत कुछ सीखा।

जब मैं छठवीं कक्षा में फेल हुई, मैं इस असफलता से बहुत डर गई। यह बहुत निराशाजनक बात थी। परन्तु इस वाकिये के बाद मैंने अपने मन को मजबूत किया। मैंने बहुत मेहनत की और अपना शत-प्रतिशत  दिया। मैं यह मानती हूँ कि कोई अगर ठान ले तो वह अपने हर बुरे दौर से बाहर आ सकता है और उसे सफलता प्राप्त करने से कोई रोक नहीं सकता। — रुक्मणी

रुक्मणी की जिंदगी फिर से चल पड़ी पूरे उत्साह के साथ। रुक्मणी ने अपनी इस असफलता से सीख हासिल की और इस तरह के दौर को वापस कभी अपनी जिंदगी में नहीं आने दिया। अपनी स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद रुक्मणी ने टाटा स्कूल ऑफ़ सोशल साइंस से सोशल इंटरप्रिन्योरशिप की डिग्री हासिल की। रुक्मणी ने अपने सारे सेमेस्टर में टॉप किया और असफलता ने उनको छुआ तक नहीं।

अपनी डिग्री पूरी करने के बाद रुक्मणी ने बहुत सारे एनजीओ के साथ काम किया और देश की बेहतरी के लिए समाज में उठाये गए क़दमों पर चली। समाज की स्थिति सुधारने के लिए रुक्मणी ने लोकसेवा के जरिये काम करने को सोचा। उन्होंने राजनीतिशास्त्र और सोशियोलॉजी को अपना विषय चुना और पूरी तरह से दृढ़ होकर बिना कोचिंग के पढ़ाई शुरू कर दी।

जब 2011 के यूपीएससी की परीक्षा का परिणाम आया तब रुक्मणी ने पुरे देश में दूसरा स्थान प्राप्त किया। मेहनत, योजना और हठ ही रुक्मणी का मूलमन्त्र है। रुक्मणी एक जीता-जागता उदाहरण है कि लोग अपनी असफलता से पार पाकर कैसे सफलता का स्वाद चख सकें।

अपने उदेश्य पर आगे बढ़ो। अगर मैं कर सकती हूँ तो हर कोई कर सकता है और कोई आपको सफल होने से रोक नहीं सकता। — रुक्मणी

Share This Article
6505