अवश्य पढ़ें: मिठाई बेचने के एक साधारण से आइडिया की बदौलत इस शख्स ने कैसे करोड़ों की कंपनी बना ली

एक शानदार भोजन बिना मिठाई के अधूरा लगता है। आज हम जिस शख्स की कहानी लेकर आये हैं, इन्होंने इसी मिठाई की मिठास के बीच से एक शानदार बिज़नेस आइडिया निकाल उसे आगे बढ़ाते हुए मिठाई की दुकान खोलने का मन बनाया। ज्ञानी गुर चरण सिंह हमारे आज के प्रेरक व्यक्तित्व हैं जो बतौर एक रिफ्यूजी पाकिस्तान के लायलपुर से आकर दिल्ली में शरण ली और मिलियन डॉलर का कारोबार बना लिया। इनका नाम उस अभूतपूर्व सफलता की कहानी कहता है जो लगभग सात दशकों से दिल्ली वालों की ज़ुबान पर मिठास का ज़ायका बनकर आज भी रचा-बसा है। 

qxpuvxnapryi8wxwgn6kcgjgkpmzpkqg.jpg

ज्ञानी जी ने 1956 में चाँदनी चौक में एक छोटी सी दुकान से अपनी शुरुआत की। शुरुआत में वे केवल एक आइटम- रबड़ी-फालूदा ही बेचा करते थे। यह दुकान जल्द ही बहुत मशहूर हो गई। दिल्ली के पुराने बाज़ार में जो लोग खरीददारी करने आते, चाहे शहर के हों या फिर गांव के, बिना रबड़ी-फालूदा खाये वहाँ से कोई जाता नहीं था। बिज़नेस का बढ़ता चलन देखकर ज्ञानी जी ने अपने मेनू कार्ड का विस्तार करने का सोचा और उन्होंने उसमें मिल्कशेक, हलवा,और आइसक्रीम को जोड़ाl और उनकी दुकान एक परफेक्ट स्वीट-शॉप में बदल गयी। इसमें उनकी सबसे बड़ी ताकत उनकी क्रीमी आइसक्रीम थी जो बहुत ही सस्ती और टेस्टी थी और मध्यम-वर्गीय लोगों में यह बहुत प्रसिद्ध हुई। यह शरणार्थी दिल्ली वालों (मिठाई ) की नब्ज़ पकड़ने में कामयाब रहे। 1962 में ज्ञानी जी ने अपनी पहली मशीन खरीदी वह भी सेकंड-हैण्ड 12,000 रूपये की लागत से जो उनके लिए एक बहुत बड़ा इन्वेस्टमेंट था।बाद में भारतीय अर्थव्यवस्था में बड़ा परिवर्तन आया और आर्थिक विकास की एक नई लहर, नई समृद्धि की शुरुआत हुई। जब पश्चिम स्टाइल शॉपिंग मॉल का चलन शुरू हुआ तब ज्ञानी जी ने यह महसूस किया कि नए ग्राहकों तक पहुँचने के लिए नए तरीके की भी जरुरत है और तब उन्होंने बस्किन रोब्बिन्स एंड गेलाटो स्टोर्स की नींव रखी।

 ज्ञानी जी ने समय के साथ-साथ बदलना शुरू किया। अपने नए ग्राहकों को लुभाने के लिए इन्होंने प्रोडक्ट के साथ कुछ नए प्रयोग भी किये।ज्ञानी जी ने इम्पोर्टेड मशीन इटली से मंगाई पर दूध उन्होंने अपने पुराने किसान साझेदारों से ही लेते रहना जारी रखा। यह समय ऐसा था कि जिसमें मंदी का दौर ने अच्छे से अच्छे लोगों की भी कमर तोड़ कर रख दी थी। लेकिन ज्ञानी जी ने उसे अपने स्मार्ट सोच से उस चुनौती को अपने लिए एक सुनहरे मौके में तब्दील कर दिया। इस समय किराया बहुत कम हो गया था और यही सही समय था दिल्ली के पॉश इलाके में कदम रखने का और उनके स्वाद को लुभाने का।अब गुरप्रीत जो इंग्लैंड के यूनिवर्सिटी ऑफ़ लीड्स से एमबीए कर अपना फैमिली बिज़नेस चला रहे हैं। इन्होंने इसमें बहुत सारे संगठनात्मक परिवर्तन किये हैं और ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुँचने के लिए फ्रेंचाइजी भी अपनाया है। जो पहले मिल्कशेक, हलवा और रबड़ी-फालूदा के लिए मशहूर था अब वह 38 तरह के स्वाद वाले आइसक्रीम, फलों के शेक और आइसक्रीम सोडा के लिए मशहूर हो गया है।“अधिकतर लोगों को लगता है कि फैमिली बिज़नेस करना बहुत ही आसान है पर मैं ऐसा बिलकुल नहीं सोचता। लोगों की उम्मीदें बहुत ज्यादा होती हैं और एक गलत निर्णय प्रतिकूल प्रभाव डालता है। लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरने के लिए अब चुनौतियाँ काफ़ी बढ़ गई हैं।

बाज़ार में अपने आप को बनाये रखने के लिए और प्रतिस्पर्धा की लड़ाई में बहुत सर्जरी चुनौतियाँ हैं।” — गुरप्रीतअपने पिता से गुरप्रीत ने बिज़नेस के बहुत से गुर सीखे हैं। वे अब आइसक्रीम बनाते भी हैं और उसके थोक विक्रेता भी हैं। कड़ी मेहनत और लगन में विश्वास करने वाले गुरप्रीत महसूस करते हैं कि असफलता अस्थाई होती है और किसी काम में समर्पण करने से जो मिलता है वह होती है सही मायने में स्थाई सफलता। ज्ञानी जी की सफलता की कहानी हमें बताती है कि कैसे आप बुनियादी सिद्धान्तों की छड़ी पकड़ कर विपरीत हो रही बाहरी स्थितियों के ख़िलाफ़ खड़े हो सकते हैं और अपनी सेवाओं की विरासत आगे जारी रख सकते हैं। 

Share This Article
990