एक आइडिया ने बदल दी इनकी दुनिया, जानिए कैसे अखबार बेच कर खड़ी कर ली 10 हज़ार करोड़ की कंपनी

दोस्तों आपने ‘स्लम डॉग मिलियनेयर’ फिल्म देखी होगी और फिल्म की कहानियां भी आपको बखूबी याद होगी। जिस प्रकार फिल्म में अभिनेता जमाल मलिक स्लम एरिया से निकलकर एक मिलियनेयर बन जाते हैं, ठीक उसी प्रकार आज जिस शख्स की कहानी आपके सामने पेश कर रहे हैं, उन्होंने इस फिल्म को अपने जीवन में ढालते हुए शून्य से करोड़पति बनने का सफ़र तय किया है।

झारखंड के धनबाद में एक गरीब घर में पैदा लिए अंबरीश मित्रा का बचपन अभावों में बीता। पिता उन्हें अच्छी शिक्षा देकर एक इंजीनियर बनाना चाहते थे। किन्तु अंबरीश को पढ़ाई में बिल्कुल भी मन नहीं लगता था। बार-बार फैल होने के बावजूद किसी तरह उन्होंने स्कूली शिक्षा पूरी की। अंबरीश को बचपन से ही कंप्यूटर में बड़ी दिलचस्पी थी।

buw5ghtmqygkesjbsk46ekeryn3k7yjv.jpg

पिता द्वारा पढ़ाई को लेकर बार-बार दवाब मिलने के बाद उन्होंने घर छोड़ने का फैसला कर लिया। महज़ 15 साल की उम्र में घर से भागकर वो दिल्ली आ गए। काफी ढूंढने के बाद भी रहने का ठिकाना न मिलने पर, अंबरीश ने स्लम में ही रहने का इरादा बना लिया और अखबार बेचकर ख़ुद का पेट भरने लगे।

एक दिन अखबार बेचने के दौरान अंबरीश ने एक ऐड देखा, जिसमे बिजनेस आइडिया मांगा गया था। साथ में अच्छे आइडिया देने वाले को 5 लाख रुपए का नकद इनाम था। अंबरीश ने महिलाओं को मुफ्त इंटरनेट देने के अपने आइडिया को पेश कर इनामी राशी अपने नाम किया।

इस पैसे से उन्होंने वुमेन इन्फोलाइन नाम की एक छोटी कंपनी शुरू की, लेकिन उन्हें नुकसान होने शुरू हो गए। फिर कुछ नया करने की चाह में उन्होंने साल 2000 में लंदन का रुख किया।

लंदन में ख़ुद के खर्चे उठाने के लिए उन्होंने एक बीमा कंपनी ज्वाइन की। इसी दौरान अंबरीश को शराब की लत लग गयी और वो बराबर पब जाने शुरू कर दिए। एक दिन लंदन के एक पब में शराब पीते-पीते आखिरी पैग के दौरान उन्होंने अपने दोस्त उमर तैयब के सामने 15 डॉलर रखे और मजाक में कहा, कितना अच्छा होता कि नोट से महारानी एलिजाबेथ बाहर आ जाती। मजाक-मजाक में उमर ने भी अंबरीश की फोटो ली और उसे महारानी की फोटो पर सुपरइंपोज कर दिया। इसी मजाक से उन्हें एक ऐसे ऐप बनाने का आइडिया सूझा।

8nlu6v6ztauushyz3mnvlpwe9nk2r8h2.jpg

फिर साल 2011 में उन्होंने ब्लिपर नाम की एक कंपनी बनाई जो मोबाइल फोन के लिए ‘ऑगमेंटेड रियलिटी’ ऐप बनाती है। इनके इस आइडिया ने सॉफ्टवेयर की दुनिया में धमाल मचाते हुए 170 देशों में अपनी पहचान बनाई। इतना ही नहीं इसने जगुआर, यूनिलीवर, नेस्ले जैसी दिग्गज कंपनियों के साथ टाइ-अप भी किया है। आज कंपनी का सालाना टर्नओवर करोड़ो डॉलर में है। 10 हज़ार करोड़ की कंपनी को चलाने वाले अंबरीश की गिनती आज भारत के सबसे अमीर युवा उद्यमियों में होती है।

उनकी सफलता हमें यह सीख देती है कि जिंदगी में परिस्थितियों का डटकर मुकाबला करना चाहिए और हमेशा बड़े सपने देखने चाहिए। आपकी जिस चीज़ में दिलचस्पी है, उसे दृढ़ निश्चय के साथ करें। सफलता आपके क़दमों तले होगी।

Share This Article
3858