KenFolios

KenFolios can be best defined as a social entrepreneurship project where every initiative is a step toward positive social change. Our evolution as a media house began in 2013 and we have come a long way since then.

Headquartered in New Delhi, our publishing wing is aimed at instilling hope and motivation in individuals while our community of changemakers and influencers works for a common goal - to cause change and make this a better society for all.

Our mission is to impact the world around us with a problem-solving approach and bring together knowledge and people.

Friends
Empty
Profile Feed

This is a fact that no amount of money can ensure job satisfaction or guarantee you peace of mind and happiness. While it has become a trend for the highly-paid professionals to quit their job and launch a start-up with their friends, there is a man from Chhattisgarh who traded his boring corporate job with a life of a farmer.

One would think it wasn’t a lucrative choice but his innovative strategies are bringing him a turnover of Rs 2 crore against his previous annual salary of Rs 24 lakh. Meet Sachin Kale from Bilaspur, Chhattisgarh who gave away a tiring city life and followed his heart.

Armed with a many degrees like Bachelors of mechanical engineering, MBA in finance, LLB, and PhD in Economy and Engineering, Sachin was living a life of luxury in the capital of the country. His first job took him to Nagpur in 2003 after which he switched to a company in Pune. In 2005, he cleared an examination and joined the coveted NTPC, Sipat. However, after three years he again went back to Pune when he was offered a package of Rs 12 lakh.

All this while whenever he came back to see his parents, his grandfather would tell him that there is no value one can get out of a 9 to 6 job. “We are not born only to earn a living. It is important that you create some value for the society,” he often told Sachin. He valued every insight of his grandfather and started evaluating his own life.

After three years, a company called him to Delhi in 2008 offering an annual salary of Rs 24 lakh. Life finally looked settled and he could afford a great house, a glimmering car and everything that one needs for a comfortable living. But as the years passed by, the city life started becoming dreary and depressing for him. Again and again he was reminded of what his grandfather told him.

Finally in 2014, Sachin took a major step, quit his job and returned home. This, obviously, stunned his parents, his father the most. He advised his son to join the family business but Sachin had already made his mind. He told him that he wants to take up farming in his native village of Medhpar. His plans took his father by surprise invoking a spontaneous dismissal but he let his son take the final call.

Sachin took on farming full-fledgedly; from plying tractor on his fields to selecting the crops. He knew he wanted to pursue this for life so he consulted the experts and spent hours researching on his own. He also wanted to introduce something of his own therefore he launched a company by the name Innovative Agrilife Solutions Pvt Ltd. His company arranges funds for farmers, keeps a tab of their expenses and also gets a share in their earnings.

This was a novel model which farmers tried out and saw their earnings go up season after season. Sachin began getting flooded with requests and within just two years his company touched a turnover of Rs 2 crore and benefited more than 70 farmers in the area.

Besides the traditional crops of paddy and pulses, Sachin also cultivates seasonal and leafy vegetables and organic produce. His success has earned him a lot of respect from farmers around the area who come to seek his advice and benefit from his experience.

 

एक अच्छी टेबल टेनिस प्लेयर और एक एमएनसी में बिजनेस एनालिस्ट की अच्छे पैकेज पर नौकरी। तो फिर जिंदगी में और क्या चाहिए। वो आराम से अपने शौक पूरे कर सकती है, दुनिया घूम सकती है, जिंदगी के मजे ले सकती है लेकिन असम की रहने वाली अंजलि ककाती को कुछ और ही मंजूर है। वे जिंदगी के मजे तो ले रही हैं लेकिन इसमें उसके साथी आवारा कुत्ते हैं।

जी हाँ, क्या आपने कभी सुना है कि एक लड़की कुत्तों की देखभाल और उनके खाने-पीने के खर्चे उठाने के लिए अपनी सैलरी का आधा हिस्सा ही उनके नाम कर देती हो। आज के स्वार्थी जमाने में जहाँ घरों में भाई-भाई में प्यार नहीं दिखता, वहां एक ऐसी लड़की भी है, जो कुत्तों पर निस्वार्थ प्यार लुटाती है। इसके लिए वो न सिर्फ उनके साथ समय बिताती हैं बल्कि अपनी सैलरी का आधा हिस्सा उनके खाने-पीने पर खर्च कर देती हैं। असम में पली बढ़ी यह लड़की टेबल टेनिस खेल के लिए कुछ साल पहले दिल्ली आई थी, अब यहीं रह कर जॉब कर रही है।

दरअसल, बात उन दिनों की है जब उनकी मुलाकात स्वीटी से हुई, उसके साथ समय बिताना, उसके साथ घूमना, उसके बारे में जानना, अंजलि को बड़ा रास आता है। स्वीटी कोई और नहीं बल्कि उनकी डॉग है जो 2014 में उनके पास आई थी।. वो उसका ख्याल रखती थी, तबसे उन्हें कुत्तों से लगाव हो गया। दिल्ली में काम करने वाली अंजलि एक कैम्पेन चलाती हैं, जिसका नाम है ‘ईच वन फीड वन’। इसके तहत स्ट्रीट डॉग को खाना मिलता है, उनका एकमात्र मकसद है कोई भी स्ट्रीट डॉग भूखा न रहे। अंजलि रोज सुबह उठकर कुत्तों को खाना खिलाती हैं, उन्हें देखकर बाकि लोग भी ऐसा करने लगे।

अंजलि की जिन्दगी में 2006 में बदलाव आया। यह वो वक़्त था जब अंजलि ने निर्णय किया कि उन्हें इन डॉग के लिए कुछ करना है। पहले उन्होंने कॉलोनी के दो कुत्तों को खाना खिलाने से शुरुआत की। उन्हें ये प्रेरणा एक पनवाड़ी से मिली जो उनके ऑफिस के पास कुत्तों को खाना खिलाता था। आपको यकीन नहीं होगा अंजलि आज 16 से 18 हजार महीना सिर्फ इन कुत्तों के खाने पर खर्च करती हैं। अंजलि अब असम में भी ऐसी मुहीम शुरू करना चाहती हैं। सोशल मीडिया पर अंजलि EachOneFeedOne नाम के हैंडल से सक्रिय हैं।

केनफ़ोलिओज़ से खास बातचीत में अंजलि ने बताया कि वे जल्द ही एक एम्बुलेंस खरीदना चाहती हैं ताकि कुत्तों को तुरंत इलाज मिल सके। सड़क पर तड़प रहे घायल कुत्तों के लिए यह बेहद जरूरी है।

अंजलि ने एक ऐसे मुहिम की शुरुआत की है जिसकी सच में जरूरत है। आवारा पशुओं की देखभाल के लिए यह मुहिम यकीनन लोगों के भीतर एक प्रेरणा का संचार करेगा।

 

One cafe, with 30 varieties of tea to serve, offers a free-spirit ambiance. Colorful interiors flocked with youngsters having a good time with friends. Everything sounds like a cafe next-door. But what makes it any different from all other cafes is the fact that over 85 percent of its crew have speech and hearing impairment. Welcome to Nukkad – The Teafe, nestled in a residential colony in Raipur, Chhattisgarh.

This place is a breath of fresh air to its customers and a boon to the people working here in more ways than just one. The owner has given a shot at equal employment opportunity for deaf and mute people which has worked like a charm.

What makes this even better is the fact that the owner Priyank Patel does not limit his employees to working in cafe, but also grooms them in numerous ways making them eligible for other jobs outside the cafe.

One such case is Rajeev. A young but shy guy, who had a hard time expressing himself, was groomed for three years by the proprietor of the cafe, went on to get a job at Union Bank of India at Raipur under reserved category for persons with disability.

This is a place where people rise above differences and join hands to make a spectacular life. Instead of reading out your order, you write it on a piece of paper and give it to the waiting staff. Well, that or sign language does the work. It a place you do not come across so often for more than just one reason.

Priyank Patel, the heart, soul and owner of the cafe, is an engineer, who was working with a leading corporate house. He joined a fellowship from ICICI Bank in 2011, which made him work in NGOs around Odisha, Maharashtra and Gujarat.

After the fellowship was over, Priyank was left for wanting for more to do for the underprivileged and the needy in the society. Thus, he started his journey to making a social enterprise to make the world a better place. To not get carried away by his emotions, he wanted to make a venture which will also be self-sustainable.

This got him the idea of starting a cafe and for staff recruitment, he remembered reading the story of daily operations of an NGO ‘Miracle Couriers’, which recruited hearing and speech-impaired personals for it’s activities. So, as he started with his search for this initiative, he ran into Neelesh Kushwaha, who runs an NGO for the hearing and speech impaired people.

Not only did Neelesh help with recruitment, but also helped the staff with the training in the hospitality side of the cafe.

At the start of the cafe, 20-30 percent of the cafe were these special persons in both kitchen and as waiters. To make the place more interactive and people to socialize with each other, Priyank came up with the idea to offer 10 percent discount to customers who submit their phone at the counter for a short, digital detox. They can have them back when they are to leave the cafe.

Initially, there were numerous challenges for the customers to communicate with the staff in sign languages and placing their orders. Customers had to write it down to them or order using sign languages. Huge placards and posters with sign languages were hung around to make it easier for the customers.

Some orders were messed up, some customers got furious with the hassles. But, slowly and steadily, people got used to the cafe and backed them because of their novel initiative. Soon the word about Nukkad and it’s unique story started spreading and people around the city began visiting it in huge numbers. Priyank also thanks some of his customers for coming up with ways of funding, sponsorship and helping with sign languages etc.

Years later now, Nukkad has two more outlets in Raipur, which 85 percent of the staff includes hearing and speech impaired personals. Priyank has gone one step further and added transgenders to its staff in Bhilai. He says, even though working with mute-deaf people is hard, people are open enough to the idea, but transgenders have a even harder time to get accepted in the society.

To change this mindset, he has recruited his staff in Bhilai especially from that community. To anyone who is visiting Raipur and Bhilai, Nukkad cafe is a must-visit spot to blow away your mind, with it’s ambiance and it’s equally special staff.

एक ओर जहाँ कम मुनाफे के कारण ज्यादातर किसान खेती को छोड़ने लगे हैं। तो वही दूसरी तरफ नई पीढ़ी के युवा किसान आधुनिक तरीके को अपना कर खेती के नए आयाम स्थापित कर रहे हैं। मतलब स्पष्ट है कि जैसे एक ही सिक्के के दो पहलू होते हैं उसी प्रकार खेतीे के भी दो पहलू हैं, खेती भी मुनाफे का सौदा बन सकता है बस जरुरत है तो सोच समझ कर आधुनिक तरीका अपनाने की। आज हमारा देश भी खेती की दिशा में दिन-ब-दिन हाइटेक होता जा रहा है। कई तरह की फसलें और फल-सब्ज़ियों की आधुनिक तरीके से खेती करने के बारे में आपने सुना होगा। लेकिन आज हम एक किसान द्वारा की जा रही ऐसे चीज़ की खेती के बारे में बताने जा रहे हैं, जो शायद ही आप जानते होंगे।

हम जिनकी बात कर रहे हैं उनका नाम है सत्यनारायण यादव। सत्यनारायण राजस्थान के खड़ब गाँव के रहने वाले हैं। सत्यनारायण सीप मोती पालन की खेती है। वे सीप को पालते हैं और उससे मोती पैदा कर बेचते हैं। इस काम में उनका साथ उनकी पत्नी सजना यादव देती हैं। दोनों आज साथ मिलकर इस सफल खेती को चला रहे हैं और सालाना 3 लाख रूपये की कमाई कर रहे हैं।

दरअसल सत्यनारायण भी पहले आम किसानों की तरह खेती-बाड़ी करके अपना परिवार चलाते थे। लेकिन कभी मौसम की मार, कभी फसल का सही दाम नहीं मिलना तमाम कारणों से उन्हें ज्यादा फायदा नहीं हो पाता था। फिर एक दिन उन्हें सीप पालन कर मोती उगाने की खेती के बारे में पता चला। उन्हें इस काम में मुनाफ़ा नज़र आया। भविष्य में अच्छी सम्भावना को देखते हुए उन्होंने इस विधि को सिखने की इच्छा जतायी और ओड़िसा के आईसीएआर भुवनेश्वर में 15 दिनों की ट्रेनिंग ली। ट्रेनिंग खत्म करने केे बाद वे अपने गाँव वापस लौट आये और सीप मोती की खेती करना प्रारंभ कर दिया।

शुरुआत में उन्होंने 10 हज़ार की लागत से इस काम की शुरुआत की। उन्होंने इसके लिए एक हौज़ का निर्माण करवाया जिसमें वह पानी भरकर सीप रख सकें। इस हौज़ में वे गुजरात, केरल और हरिद्वार से उन्नत नस्ल की सीप लाकर डालते थे। चूंकि यह मोती प्राकृतिक नहीं मानव निर्मित होती है, इन सीपों में शल्य कार्यन्वयन द्वारा मेटल ग्राफ्ट और उचित नाविक डाला जाता है। इसी के द्वारा सीप अपने अन्दर मोती का निर्माण करता है। फिर इस सीप को उपयुक्त वातावरण में करीब 8-10 महीने के लिए रखा जाता है जबतक की सीप में मोती का निर्माण न हो जाये। उसके बाद सीप को चीरा लगाकर मोती को निकल लिया जाता है। इस मोती की डिमांड मार्केट में काफी अधिक होती है, तो इससे उन्हें अच्छा खासा मुनाफ़ा भी मिल जाता है।

सीप से मोती निकाल लेने के बाद भी उस सीप से और भी कमाई होती है। दरअसल सीप सेल का इस्तेमाल लोग साज-सज़्ज़ा के लिये भी करते हैं। घर की खूबसूरती बढ़ाने के लिए, गमलों में, झूमर में, गुलदस्ते में, मुख्य द्वारा पर लटकने के लिए, व अन्य सजावटी चीजों में भी लोग सीप के सेल का उपयोग करते हैं। सीप निर्मित इस प्रकार के सामान को लोग अच्छे दामों में खरीदते हैं। यही नहीं सीप के सेल का उपयोग आयुर्वेदिक दवा बनाने में भी होती है। इस लिए सीप का सेल भी बहुत महँगे कीमत पर बिक जाते हैं।

सत्यनारायण के इस फायदे भरे अनोखी खेती को देख ढेर सारे लोग उनसे इसका तरीका सीखने आते हैं। अबतक वो आसपास के राज्य असाम, जम्मू, हरियाणा, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदश व पंजाब आदि के करीब 150 विद्यार्थियों को इसकी ट्रेनिंग दे चुके हैं। जहाँ वे लोगों को सीप पालन व मोती की खेती का पूरा तरीका सिखाते हैं। आज उनको देख कई सारे किसान और युवा भी इस खेती की ओर आकर्षित हो रहे हैं। अब वे भी इसे अपना कर इसमें अपना करियर बनाना चाहते हैं।

विशेषज्ञों की मानें तो अक्टूबर से दिसम्बर मोतियों की खेती के लिए अनुकूल समय होता है। 0.4 हेक्टेयर के तालाब में करीब 25 हजार सीप से मोती का उत्पादन किया जा सकता है और इससे सालाना 8 से 10 लाख रुपए की आमदनी आसानी से हो सकती है।

 

It is not uncommon for many of us to be forgetful and leave things behind. Most often than not we leave our belongings in a cab or an auto and realize our folly only after it is too late. Something similar happened earlier this month when a passenger left his bag full of valuables in a cab, never expected to get it back but did! It was followed by a kind gestured where all of Delhi chipped in to raise money for him.

Here’s a story where 24-year-old Debendra Kapri, a cab driver by profession, emerged as an absolute hero. Earlier this month, Kapri picked up a passenger from Delhi airport and way on the way to drop him at Paharganj. It was only while he was cleaning his car did he realise that the passenger had left behind a bag. This bag contained electronic goods, cash in US Dollars and important documents. Debendra could not recollect the identity of this passenger and went straight to the police station near the domestic airport and surrendered the the bag in police custody.

We live in times where people betray and cheat their friends for a few hundreds. Often teenagers steal money from their parents yet Debendra, despite all his poverty and financial limitations, did the right thing like a good Samaritan. A sum of Rs 8 lakh was enough to change his life forever and improve the living standard of his family, pay for his sister’s marriage, or build a better home back at his native place.

The passenger had no hope of finding the bag but was taken by a happy surprise when he got back his bag and its belongings intact. Debendra’s honest gesture was appreciated and the Deputy Commissioner of Police applauded his gesture on Twitter and also announced a cash prize for him.

They say goodness always turns around and comes as bigger good. In his recent interview with the popular FM channel Radio Mirchi, Kapri mentioned of how he had taken several loans and was now striving to return them. The channel administration threw in a fundraiser for him and the people of Delhi showed their appreciation by donating. Within an hour Rs 91,000 were raised.

Debendra Kapri hails from Bihar and moved to Delhi for work. He took loans for his sisters’ weddings and was working his way for repayments. He said he had no intention of taking something that didn’t belong to him. He lives in Mehrampur in a single room along with his fellow driver friends and is happy with all the appreciation he has received.

 

भारतीय प्रशासनिक सेवा की परीक्षा देश की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाती है। इस परीक्षा में बैठने वाले लोग वे होते हैं जिनका पूरा करियर सफलताओं से भरा होता है, सामान्य विद्यार्थियों के लिए इस परीक्षा में पास होना सपने से कम नहीं होता। लेकिन रुक्मणी रायर हैं जो एक तरफ तो अपनी छठवीं की परीक्षा में फेल होती हैं और दूसरी तरफ बिना किसी कोचिंग के भारत की सबसे कठिन परीक्षा पास करती हैं।

अविश्वनीय किन्तु सत्य है, रुक्मणी को बहुत साल पहले डलहौज़ी के एक बोर्डिंग स्कूल में डाला गया। अचानक हुए परिवर्तन से रुक्मणी स्कूल में एडजस्ट नहीं हो पा रही थीं। बोर्डिंग स्कूल के दबाव से उनकी पढ़ाई पर भी असर हो रहा था। लगातार उनकी पढ़ाई का स्तर नीचे जा रहा था और छठवीं की परीक्षा में रुक्मणी फेल तक हो गई।

रुक्मणी रिजल्ट के बहुत दिनों तक डिप्रेशन में रही। नन्हीं सी रुक्मणी के दिल और दिमाग पर बेहद गहरा प्रभाव पड़ा।  वह अपने दोस्तों से, अपने परिवार वालों से और यहाँ तक अपने माता-पिता से भी बात करने में शर्मिंदगी महसूस करने लगी। लेकिन इन सबसे वे बहुत मज़बूती से बाहर आईं और यह उनके लिए जिंदगी का एक बड़ा सबक था और इस सबक से उन्होंने बहुत कुछ सीखा।

जब मैं छठवीं कक्षा में फेल हुई, मैं इस असफलता से बहुत डर गई। यह बहुत निराशाजनक बात थी। परन्तु इस वाकिये के बाद मैंने अपने मन को मजबूत किया। मैंने बहुत मेहनत की और अपना शत-प्रतिशत  दिया। मैं यह मानती हूँ कि कोई अगर ठान ले तो वह अपने हर बुरे दौर से बाहर आ सकता है और उसे सफलता प्राप्त करने से कोई रोक नहीं सकता। — रुक्मणी

रुक्मणी की जिंदगी फिर से चल पड़ी पूरे उत्साह के साथ। रुक्मणी ने अपनी इस असफलता से सीख हासिल की और इस तरह के दौर को वापस कभी अपनी जिंदगी में नहीं आने दिया। अपनी स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद रुक्मणी ने टाटा स्कूल ऑफ़ सोशल साइंस से सोशल इंटरप्रिन्योरशिप की डिग्री हासिल की। रुक्मणी ने अपने सारे सेमेस्टर में टॉप किया और असफलता ने उनको छुआ तक नहीं।

अपनी डिग्री पूरी करने के बाद रुक्मणी ने बहुत सारे एनजीओ के साथ काम किया और देश की बेहतरी के लिए समाज में उठाये गए क़दमों पर चली। समाज की स्थिति सुधारने के लिए रुक्मणी ने लोकसेवा के जरिये काम करने को सोचा। उन्होंने राजनीतिशास्त्र और सोशियोलॉजी को अपना विषय चुना और पूरी तरह से दृढ़ होकर बिना कोचिंग के पढ़ाई शुरू कर दी।

जब 2011 के यूपीएससी की परीक्षा का परिणाम आया तब रुक्मणी ने पुरे देश में दूसरा स्थान प्राप्त किया। मेहनत, योजना और हठ ही रुक्मणी का मूलमन्त्र है। रुक्मणी एक जीता-जागता उदाहरण है कि लोग अपनी असफलता से पार पाकर कैसे सफलता का स्वाद चख सकें।

अपने उदेश्य पर आगे बढ़ो। अगर मैं कर सकती हूँ तो हर कोई कर सकता है और कोई आपको सफल होने से रोक नहीं सकता। — रुक्मणी

फसल उत्पादन के फेल होने, फसल की उत्पादकता कम होने, खड़ी फसलों का नुकसान होना, नये फसली कीटों और बदलते खेती के तरीके की वजह से खेती में नुकसान उठाना पड़ता है। महाराष्ट्र, जो हाल-फिलहाल फिलहाल भयंकर सूखे से गुजर रहा है। किसान बताते हैं कि जलवायु परिवर्तन कृषि के लिए सबसे बड़ा खतरा है। जलवायु परिवर्तन से मतलब है कि जलवायु की अवस्था में काफी समय के लिए बदलाव। जलवायु परिवर्तन प्राकृतिक आंतरिक बदलावों या बाहरी कारणों जैसे ज्वालामुखियों में बदलाव या इंसानों की वजह से जलवायु में होने वाले बदलावों से माना जाता है।

जलवायु परिवर्तन मनुष्य की ओर से

संयुक्त राष्ट्र ने जलवायु परिवर्तन पर हाल में बड़े स्तर पर एक सम्मेलन का आयोजन किया था। सम्मेलन का विषय था जलवायु परिवर्तन मनुष्य की ओर से। इसमें जलवायु परिवर्तन के प्राकृतिक कारणों में अंतर बताने की कोशिश की है। इस सम्मेलन में जलवायु परिवर्तन को इस तरह से परिभाषित किया गया कि जलवायु परिवर्तन सीधे-सीधे मानव जनित कारणों पर निर्भर रहता है। पूरे वातावरण पर प्रभाव पड़ता है। भारत में ग्रामीण क्षेत्रों के किसान ‘संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन फ्रेमवर्क सम्मेलन’ की वैज्ञानिक शब्दावली नहीं समझते हैं।  वह सबसे पहले जलवायु परिवर्तन से दो-चार होते हैं। जलवायु सीधे तौर पर उनके जीवनयापन और राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा पर प्रभाव डालता है।

इस साल दक्षिण-पश्चिम मानसून की शुरुआत भी देरी से हुई है। इससे किसान भी परेशान हैं। सामान्य मानसून के बावजूद देश के कई राज्य सूखे का सामना कर सकते हैं। नीति आयोग की रिपोर्ट के अनुसार, बारिश की अनियमितता और नहरों की सिंचाइ्र पर विश्वास नहीं किया जा सकता है। कई किसानों ने भूजल का अत्याधिक दुरूपयोग करना शुरू कर दिया है। वर्ष 1950-51 से लेकर 2012-13 के बीच शुद्ध सिंचित क्षेत्र में नहर की हिस्सेदारी 39.8 प्रतिशत से घटकर 23.6 प्रतिशत हो गई है, जबकि भूजल स्रोत 28.7 प्रतिशत से बढ़कर 62.4 प्रतिशत हो गई है।


पश्चिम सिक्किम जिले के हीपटेल गांव के इलायची के किसान तिल बहादुर छेत्री बताते हैं, ‘जब मैं नौजवान था और अब 92 साल के होने के बाद तक यहां की जलवायु में काफी तरह के बदलाव आए हैं। सर्दी के मौसम में गर्मी और सूखा होने लगा है। मानसून के सीजन में भी गिरावट दिखने लगी है’। कई फलों के पेड़ जंगल से गायब हो चुके हैं। नए-नए कीट फसलों पर हमला कर रहे हैं। इन पेस्ट्स की वजह से छेत्री बताते हैं कि उनकी खुद की पूरी फसल भी कीटों वजह से खराब हो गई। इंटरगोवमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेंट चेंज की क्लाइमेंट चेंज 2014  की रिपोर्ट में विस्तार से फसलों पर जलवायु परिवर्तन से पड़ने वाले प्रभाव को दिखाया गया है।


गेहूं और मक्के की उत्पादकता पर भी प्रभाव

वर्ष 2014 की इस रिपोर्ट में गेहूं और मक्के की खेती पर पड़ने वाले नकारात्मक प्रभावों सहित भारत के अन्य क्षेत्रों में भी जलवायु परिवर्तन से पड़ने वाले प्रभावों की बात कही गई है। उष्णकटिबंधीय और और अधिक तापमानी क्षेत्रों में 30वीं सदी के बाद तापमान में दो डिग्री सेल्सियस के इजाफा से नकारात्मक प्रभाव पड़ने की संभावना है। इससे गेहूं और मक्के की उत्पादकता पर भी प्रभाव पड़ेगा। इंटरनेशनल क्राप रिसर्च इंस्टीट्यूट के रिसर्च स्कॉलर ओम प्रकाश घिमिरे कहते हैं, बढ़ते तापमान की वजह से चावल और गेहूं के उत्पादन पर तगड़ा प्रभाव पड़ता है। जैसे-जैसे तापमान में इजाफा होगा। वैश्विक स्तर पर चावल और गेहूं के उत्पादन में भी करीब 6 से 10 प्रतिशत की गिरावट होने की संभावना है’।

कृषि क्षेत्र, जो भारत के रोजगार का लगभग 49% हिस्सा है, जलवायु परिवर्तन के कठोर प्रभावों के कारण सबसे अधिक प्रभावित होगा। कृषि और उसके संबद्ध क्षेत्र भारत के सकल राष्ट्रीय उत्पाद का 35% प्रतिनिधित्व करते हैं। क्षेत्र, जो पहले से ही कम वेतन दरों और खराब कामकाजी परिस्थितियों के साथ विवाहित है, आगे प्रतिकूल रूप से प्रभावित होगा, क्योंकि नौकरी की असुरक्षा तापमान में वृद्धि के साथ आनुपातिक रूप से बढ़ने की उम्मीद है।


कृषि और उसके संबद्ध क्षेत्र भारत के सकल राष्ट्रीय उत्पाद का 35% प्रतिनिधित्व करते हैं।

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के तहत नई दिल्ली स्थित एक भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (IARI) ने एक अध्ययन किया।क्षेत्र और फसल दोनों द्वारा कृषि पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को समझने के लिए। उनके अध्ययन ने सुझाव दिया कि तापमान में वृद्धि, अनुमानित 2%, ने देश के अधिकांश स्थानों में संभावित अनाज की पैदावार को कम कर दिया है। तापमान में वृद्धि के साथ, यह पैदावार कम करने के लिए आगे बढ़ रहा है, और देश के पूर्वी क्षेत्रों में अधिक प्रभावित होने की भविष्यवाणी की जाती है जिससे क्षेत्र में अनाज की पैदावार भी कम होती है। अध्ययन में अनुमान लगाया गया है कि अनाज की पैदावार में कमी से मक्का और गेहूं जैसी वर्षा आधारित फसलों के लिए अधिक स्पष्ट होगा, क्योंकि भारत में वर्षा परिवर्तनशीलता के लिए कोई मैथुन तंत्र नहीं है। वर्षा परिवर्तनशीलता, किसी भी क्षेत्र की जलवायु को तय करने में एक महत्वपूर्ण विशेषता है, वह डिग्री है जिसमें वर्षा की मात्रा एक क्षेत्र में या समय के माध्यम से भिन्न होती है।

भारत की पानी की आपूर्ति निकट भविष्य में घटने का अनुमान है। यदि पानी की आपूर्ति प्रति व्यक्ति 1700 क्यूबिक मीटर से कम हो जाती है, और भारत वर्तमान में हर साल 1700 से 1800 क्यूबिक मीटर के साथ प्रबंधन कर रहा है, तो एक क्षेत्र को जल-तनाव माना जाता है। नीति निर्माताओं को नुकसान को कम करने के लिए दो क्षेत्रों, जल नीति और अनुकूली उपायों पर प्रमुख रूप से ध्यान केंद्रित करना होगा। वर्षा आधारित और सिंचित फसलों दोनों के लिए कृषि के लिए पानी की उपलब्धता के संबंध में नीति डिजाइनरों को एक स्थायी योजना के साथ आना होगा, पानी की कमी एक आसन्न वास्तविकता है। कृषि पर जलवायु परिवर्तन का प्रभाव भविष्य में खाद्य सुरक्षा, आजीविका, व्यापार और जल नीति के क्षेत्रों में संभावित नीतिगत बदलाव के साथ नीतिगत डिजाइनों के आकार को बदलने जा रहा है।

बहुआयामी नीति के निहितार्थ कृषि में आजीविका के नुकसान से संबंधित मुद्दों के समाधान के लिए कुछ महत्वपूर्ण अनुकूलन की मांग करते हैं। सबसे बड़े क्षेत्रों में से एक जहां देश को अपरिहार्य जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए निवेश करने की आवश्यकता है और कृषि पर इसके प्रभाव पर शोध होगा। हाथ में संभावित कृषि उपायों के पेशेवरों और विपक्षों पर पर्याप्त शोध नहीं किया गया है। अनुसंधान के क्षेत्र को उससे आगे जाना है और देश के हर क्षेत्र के लिए उपयुक्त कृषि पैटर्न के नए और स्थायी रूपों के साथ आना है।

नीति निर्माताओं को बदलते कृषि पैटर्न का सामना करने के लिए नए और लचीले अनुकूली उपाय करने होंगे। सिंचाई तकनीक को बदलने के लिए वैकल्पिक फसलों का उपयोग करने के बीच यह कुछ भी हो सकता है। भारत का कृषि अनुसंधान परिदृश्य एक महत्वपूर्ण घटक है: एक डेटाबेस की उपलब्धता। देश को जलवायु परिवर्तन के प्रभाव पर एक डेटाबेस तैयार करने में और अधिक निवेश करने की आवश्यकता है जबकि क्षेत्रों को भूमि के प्रकार और क्षेत्र में पानी की उपलब्धता को अलग करना है। जलवायु परिवर्तन की भविष्यवाणी करते समय IARI अध्ययन उच्च परिशुद्धता का सुझाव देता है।

नेचर कम्युनिकेशंस द्वारा किए गए एक हालिया अध्ययन से पता चलता है कि जैविक कृषि, जिसे समकालीन कृषि प्रथाओं का एक बेहतर विकल्प माना जाता है, वास्तव में अन्य उपलब्ध माध्यमों की तुलना में जलवायु प्रदूषण में अधिक योगदान देगा। अध्ययन ने सुझाव दिया कि यदि वे उतनी ही मात्रा में भोजन का उत्पादन करने के लिए कम जगह लेते हैं तो जैविक खेती को एक बेहतर विकल्प माना जा सकता है। यह जैविक खेती के लिए उपयोग की जाने वाली अतिरिक्त भूमि है जो इसे पर्यावरण को बचाने के लिए लंबे समय में एक गैर-परिवर्तनीय विकल्प बनाती है।

हालांकि, भारत में किसानों को कृषि के अभ्यास के उन्नत तरीकों पर स्विच करने के लिए विशेषज्ञता और तकनीकी सहायता की कमी है, और वे क्षेत्र में किए गए किसी भी नए शोध से बहुत दूर हैं। भारत की जनसंख्या की विशालता इसे अनदेखा करने का निर्णय लेती है। देश द्वारा विशेष रूप से कृषि के क्षेत्र में जो नीतिगत निर्णय लिए जाते हैं, उनका विश्व स्तर पर जलवायु परिवर्तन पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा।

In the 1980s, an ordinary man became popular as “the takeover king”. In just four years this person had become one of the top ten business tycoons of India based on his strong strategies. Although today he is no more with us but his tremendous business strategy is still discussed among the corporate circle. It is truly amazing to someone start from a small electronic shop and become one the richest person of India in such a short time.

Yes, we are talking about Manohar Rajaram Chhabria, the founder of the Jumbo Group, a billion dollars worth company.

Born to a small business family in Mumbai, Chhabria was famous for buying companies in the 1980s. He had dropped-out from Siddhartha College of Commerce and stepped into the world of business. He joined his family business and began running an electronic shop. His unique takeover strategies made the big business houses vulnerable and they began to panic. With the help of his unique strategies, he joined the list of the top 10 business tycoons of India leaving behind large corporate houses like Godrej and Wadia Group.

It is noteworthy that during the 80s, Chhabria had tried to take over Larsen & Toubro which was the largest infrastructure company in the country. Since then, his takeover strategies had created panic in all business houses. Dreaded by the takeover attempt by Chhabria, the director of L&T took the help of Dhirubhai Ambani, one of the biggest industrialists of India and the founder of Reliance Industries Limited (RIL). Only then they could thwart the takeover attempt by Chhabria.

It was also the time when Chhabria family went to the Gulf countries and started their business named Jambo Electronics in Dubai. Their business gradually spread to countries like America, Britain, Oman, Japan, Hong Kong and Singapore and Chhabria became the owner of a $100 million company.

Manohar Rajaram came back to India with the intention of spreading his business. He pounded his takeover strategy in India at Liquor Company Shaw Wallace in 1985. Then one after another 11 big companies and subsidiaries came under his Jumbo Group of Companies. There was a lot of controversy between Mallya and Chhabria regarding the takeover of the Shaw Wallace Company. But after the demise of Chhabria in 2002, Mallya had regained the ownership of the company.

Despite having limited education and no business background, Chhabria had toppled the big business tycoons with his own ability and intelligence. His achievement was truly remarkable and unmatched in itself. It was only his courage and belief in himself that he competed.

कहते हैं ना सपने सच जरूर होते हैं, बस आपके अंदर वो जज़्बा और जुनून होना चाहिए। पर क्या सपने में आया कोई आइडिया 2 हज़ार करोड़ की कंपनी का मालिक भी बना सकता है? अगर आपको ये नामुमकिन लग रहा है तो आप गलत हैं क्योंकि अमेरिका के माइक लिंडेल ने सपने में मिले आइडिया को करोड़ों की कंपनी में तब्दील कर दिया और बन गए दुनिया के ‘पिल्लो किंग’।

माइक लिंडेल का जन्म अमेरिका के मंकतो, मिनेसोटा में हुआ था। लेकिन उनका जीवन चस्का नामक शहर में बीता।

माइक को अक्सर सोने में परेशानी होती थी, क्योंकि वो अपने तकिये को पसंद नहीं करते थे। तकिया आरामदायक ना होने से उसकी नींद पूरी नहीं हो पाती थी। एक रात सोते वक़्त अचानक उसकी नींद टूटी और उन्होंने अपने घर के हर कोने में ‘मायपिलो’ लिख दिया। और यहीं से उनके बिजनेस की शुरुआत हुई।

माइक ने सोचा की जब उनको इस छोटी सी चीज़ से इतनी तकलीफ होती है तो ऐसे और भी लोग जरूर होंगे। फिर क्या सबके लिए आरामदायक तकिया बनाने का जुनून उनके सर पर सवार हो गया। और आज पूरी दुनिया उन्हें ‘पिल्लो किंग’ के नाम से जानती है।

यह सब सुनने में जितना आसान लग रहा है असल में है नहीं। ‘मायपिल्लो’ कंपनी के सक्सेस से पहले माइक की ज़िन्दगी में अनेकों उतार चढ़ाव आये। एक समय था जब लिंडेल अपनी पढ़ाई का खर्च पूरा करने के लिए दो-दो नौकरी करते थे। उनको लगा की पढ़ाई में वह अपना समय बर्बाद कर रहे हैं। इसलिए उन्होंने कॉलेज की पढ़ाई बीच में ही छोड़ कर नौकरी ज्वाइन कर ली। लेकिन एक दिन उनका झगड़ा मैनेजर से हो गया और उनको नौकरी से बाहर निकाल दिया गया। इस बेइज्ज़ती ने उनके अंदर खुद का एक मुकाम बनाने की ललक पैदा कर दी।

नौकरी से निकल दिये जाने के बाद लिंडेल ने कई बिजनेस में हाथ-पैर मारे। कार्पेट क्लीनिंग के बिज़नेस से लेकर सूअर पालन तक में हाथ आजमाए। लेकिन किसी से सफलता नहीं मिली और तो और उनकी बचीखुची कमाई भी डूब गई। फिर उन्होंने एक बार में बारटेंडर की नौकरी शुरू की और यहां उन्हें ड्रग्स की बुरी लत लग गयी।

बार में नौकरी के दौरान लिंडेल को ड्रग्स की ऐसी लात लगी कि वह दिन-रात नसे की हालत में रहने लगे। इस वजह से उनका उनकी पत्नी से तलाक हो गया और वह अपना घर भी गवा बैठे। इतना कुछ बर्बाद होने के बाद लिंडेल को वापस सामान्य होने में करीब 10 महीने का वक़्त लगा। 2009 में एक पार्टी में लिंडेल ने आखिरी बार नशा किया। उसके बाद कोकीन और शराब को सदा के लिए अलविदा कहते हुए अपना पूरा फोकोस बिज़नेस पर लगा दिया। 2011 में एक स्थानीय समाचार पत्र ने लिंडेल की कंपनी के बारे में छापा था और फिर एक स्टोर नें उन्हें अपना रिटेल स्टोर खोलने की पेशकश की थी। पैसा नहीं होने की वजह से उसने कही से 97000 हजार (15000) डॉलर का क़र्ज़ लिया और अपना पहला स्टोर खोला।

पांच कर्मचारियों से शुरू हुई कंपनी में अब कर्मचारियों की संख्या बढ़कर 500 हो गयी। उनकी कंपनी ‘मायपिलो’ सालाना करीब तीन करोड़ तकिये बेचती है। उनका सालाना टर्नओवर करीब 2000 करोड़ से भी अधिक का हो गया है।

इसके अलावा उन्होंने समाज कल्याण के उद्येश्य से लिंडेल फाउंडेशन की स्थापना की। लिंडेल फाउंडेशन के प्लेटफॉर्म से तमाम सामाजिक मुद्दों पर आवाज उठाई जा सकती है। यह गारंटी देता है कि दान की गई सौ फीसदी राशि उन लोगों को सीधे जाती है, जो सभी ओवरहेड और प्रशासनिक लागतों का भुगतान करते हैं। दाता, उन व्यक्ति (व्यक्तियों) का चयन कर सकते हैं, जिन्हें वे सहायता करना चाहते हैं और सीधे उनसे संपर्क कर सकते हैं। अगस्त 2017 में तूफान हार्वे से प्रभावित लोगों की मदद के लिए भी फाउंडेशन ने काफी काम किया।


The passion with which this young man talks about cyber security is gripping and totally justifies his bag full of achievements. Not just in India but his name appears in the list of world’s top hackers and cyber security experts, too. He helps the Government of India, law enforcement agencies and several gigantic private entities to secure their data and websites.

Coming from a poorly-connected, rural part of south India this boy is an absolute inspiration to the youngsters.

Benild Joseph was born in a middle-class household in Wayanad, Kerala. He had a rough childhood after he lost his father to kidney ailment when he was only three-year-old. Supported by his working mother he remembers spending many hours in her office as a toddler. “It was manageable for her when I was small but as I grew up I created a lot of nuisance in her office,” he says.

His mother had to make a tough decision of prioritizing her livelihood over tending to her son. She left him at a nearby computer shop where he would play games for several hours. This went on for several years and Benild had now become quite familiar with computers.

When I reached STD 7 I was exposed to the social networking site Orkut and began thinking about what went behind developing the platform. “That is when I realized that I had developed an interest in technology, programming and coding,” he says.

Roger Grimes, Principal Security Architect with Microsoft, is working on a book where Benild will be featured alongside the top cyber security experts on the world.

By the time he reached STD 9, Benild had come up with his own social networking site named ‘Benzkut’. For his efforts he got into the Limca Book of Records at the age of only 14. This brought him international recognition and fueled his interest further in technology. His next goal became hacking his friend’s email ID. “I started looking for courses and found one in Calicut which was 100 km away from my hometown. I traveled 2.5 hours to take that course where my mentor taught my about the importance of being an ethical hacker and I gave up on the idea of getting into my friend’s email,” he says. Since then Benild has undergone 13 courses and spent innumerable hours practicing on his own, apart from finishing his engineering.

Now Benild extends his services in securing the cyber space for Government of India, several state governments and dozens of well-known private companies. “Although we have a robust team in the IT industry, we are very weak when it comes to IT security,” he says.

I don’t tell people I am a hacker because they get scandalized. However, they are impressed when I rephrase it and say I am a cyber security expert – Benild

Interested in traveling and outdoor activities, Benild, who is now based in Bengaluru, has also worked on various security projects at Cyber Crime Investigation Bureau (CCIB), Indian Information Security Research Organization (IISRO), International Cyber Threat Task Force (CTTF) and Cyber Security Forum Initiative (CSFI).

Benild has breathlessly chased his passion and has overcome all the hurdles that came his way. He did not have an edge that people from metro cities did but he is now a regular speaker at IITs and several other prestigious institution. All his projects are well-paying but earning money isn’t something that drives him. “I want to be an industry leader. I want to bring cyber security experts at one platform where we can together work on strengthening the e-fiber of our country,” he says.

 

आज कल कॉस्मेटिक्स और स्किन केअर का बाजार बहुत तेज़ी से फल फूल रहा है। लोग टीवी पर आ रहे विज्ञापनों को देख आकर्षित होते हैं और फिर महँगी से महँगी क्रीम, शैम्पू आदि खरीद कर ले आते हैं। पर कोई कभी गौर नहीं करता की इतनी रकम चुकाने के बाद भी आखिर उनको दिया क्या जा रहा है। कंपनियों को भी बस मुनाफे से मतलब होता चाहे इसकी कीमत ग्राहक का स्वास्थ्य ही क्यों न हो। इन कंपनीयों ने तो बेबी प्रोडक्ट्स को भी नहीं छोड़ा, ज्यादातर ब्रांड्स के बेबी केअर प्रोडक्ट्स में भी केमिकल और टॉक्सिक पदार्थ की मात्रा पायी गयी है। अब ऐसे में क्या हमें बस उन लुभावनें विज्ञापनों पर भरोसा कर लेना चाहिये। क्या हम एक नन्ही सी जान जिसे ज़माने का कुछ पता नहीं उसके स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ होने दे सकते हैं। इन्ही सवालों को लेकर एक माँ ने शुरू की थी अपनी ऑर्गेनिक बेबी प्रोडक्ट्स की कंपनी और आज उनकी कंपनी अरबों में कारोबार कर रही है।

आज हम बात कर रहे हैं अमेरिका की महिला उद्यमी जेसिका क्लीसॉय की। जेसिका आर्गेनिक बेबी प्रोडक्ट्स बनाने वाली अमेरिका की मशहूर कंपनी ‘कैलिफ़ोर्निया बेबी’ की फाउंडर हैं। 51 साल की जेसिका का जन्म अमेरिका के कैलिफ़ोर्निया में हुआ था। उनका बिज़नेस से कोई खास ताल्लुक नहीं था बल्कि वे तो शादी करके एक ख़ुशहाल जीवन बिता रही थीं। पर अपने बच्चे के प्रति उनकी ममता और सुरक्षा की भावना ने आज उन्हें दुनिया की एक सफल महिला उद्यमी की सूचि में ला खड़ा कर दिया है।

दरअसल जब जेसिका ने पहली बार अपने बच्चे को जन्म दिया तो वह भी अन्य माताओं की तरह बाजार से बेबी प्रोडक्ट्स खरीद कर इस्तेमाल करती थी। लेकिन एक बार उन्होंने प्रोडक्ट के लेबल पर गौर किया, उस समय उन्हें कुछ खास समझ नहीं आया। उत्सुकतावश एक दिन वो लाइब्रेरी से एक केमिकल डिक्सनरी ले आई। उन्होंने बेबी प्रोडक्ट्स में इस्तेमाल होने वाले इंग्रेडिएंट्स के बारे में रिसर्च करना शुरू किया और सच्चाई जानकर चौंक गयीं। उन बेबी प्रोडक्ट्स में बहुत ही हानिकारक केमिकल और टॉक्सिक पदार्थ मौजूद थे। उसमें खुशबु बढ़ानें के लिए सिंथेटिक फ्रेगरेंस और केमिकल का भारी इस्तेमाल था, जिससे बच्चे के बालों, स्किन और स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ सकता था।

उन्होंने उसी वक़्त इन प्रोडक्ट को इस्तेमाल न करने का प्रण लिया और खुद कुछ ऐसा बनाने पर विचार करने लगी जिसमे ऐसा कोई हानिकारक तत्त्व न हो। काफी रिसर्च के बाद उन्होंने अपने घर पर ही आर्गेनिक तरीके से शैम्पू बनाने की प्रक्रिया शुरू की। काफी मेहनत के बाद बेबी शैम्पू बनाने में उन्हें कामयाबी मिली। जेसिका अपनी इस कामयाबी को खुद तक ही सिमित नहीं रखना चाहती थीं और इसलिए उन्होंने इस सफल प्रयोग को लोगों के सामने लाने का फैसला किया।

साथ ही उन्हें इसे बेचने में एक बड़ी कारोबारी संभावना दिखी और साथ ही दूसरे पेरेंट्स को भी एक अच्छी क्वालिटी का आर्गेनिक प्रोडक्ट मिल सके। इसके लिए जेसिका ने बहुत मेहनत की, वे दुकानों में जाकर अपनें प्रोडक्ट्स के बारे में बताती थी, नए-नए ग्राहकों से बात करती थी। अपने संघर्ष के दिनों को याद करते हुए वो बताती हैं कि शुरू के 8 वर्ष उन्हें एक डेमो गर्ल की तरह उन्हें काम करना पड़ा था।

उनकी मेहनत रंग दिखाई और वर्ष 1995 तक जेसिका के प्रोडक्टस को लोग पसंद करने लगे थे। फिर अपने प्रोडक्ट्स को बड़े स्तर पर लोगों के सामने पेश करने के उद्येश्य से उसने एक आर्गेनिक बेबी प्रोडक्ट की कंपनी बनाने की सोची। लेकिन उनके पास इसके लिए पैसे नहीं थे और उन्होंने अपनी माँ से 2000 डॉलर (करीब 1.5 लाख रूपये) उधार माँगा। माँ को बेटी की आइडिया पर तनिक भी भरोसा नहीं था लेकिन बेटी के बार-बार कहने पर उन्होंने पैसे दे दिए।

समय के साथ जेसिका का आइडिया चल निकला और देखते ही देखते उनकी कंपनी लोगों के बीच अपनी पहचान बनाने लगी। आज उनकी कंपनी करीब 90 तरह के आर्गेनिक बेबी प्रोडक्ट बनाती है। उनके प्रोडक्ट्स आज अमेरिका के 10 हज़ार से भी ज्यादा स्टोर में बेची जाती है, जिसमें वॉल मार्ट, टारगेट, होल फ़ूड जैसे बड़े स्टोर्स शामिल हैं।

हालांकि जेसिका को अपनी माँ से उधार लिए पैसे को लौटाने में 5 साल का वक़्त तो लगा लेकिन आज वे अरबों की मालकिन हैं। उसने 100 एकड़ का फार्म भी खरीदा, जहाँ अपने प्रोडक्ट के लिए आर्गेनिक रूप से खेती करवाती हैं। उनके प्रोडक्ट्स की कीमत भी कम नहीं है, लेकिन गुणवत्ता की वजह से उसने लाखों ग्राहकों का भरोसा जीता है। फ़ोर्ब्स के अनुसार आज वे 1700 करोड़ की मालकिन हैं।

जेसिका की सफलता से हमें काफी कुछ सीखने को मिलता है। पहली चीज़ यह कि हमारे आस-पास ही कई कारोबारी आइडियाज होते हैं उन्हें बस ढूंढने की काबिलियत हमें खुद के भीतर पैदा करनी होगी। यदि ऐसा करने में हम कामयाब हो जाते तो फिर कामयाबी भी मिलते देर नहीं लगती।

If there’s a discussion on all the successful businessmen of our country, common names such as Tata, Ambani and Birla become the front runners. These are the names on everybody’s fingertips. These business veterans have taken several decades to imprint their names on every person’s heart. But with time many more people have made their entry in this elite list of successful and great industrialists. There are many such people who started from zero and reached the highest point of success with their sheer hard work. They even gave stiff competition and move shoulder-to-shoulder with Ambani and Birla. Surprisingly, we do not even know the names of many such people.

Today, we bring you a story of such a successful businessman who started his career with his father’s bearing business. Even after that business was shut down, he did not give up and continued his hard work. Today, he is the leader of India’s retail business. Not only that, he also left behind many big companies in the retail business such as Reliance and Birla.

We are talking about the success of Avenue Supermarts Limited (D-Mart) owner Radhakishan Damani. Today, Damani is included in the list of the richest people in India. Recently, his company issued IPO (shares), which was sold initially at a price of Rs 299. But, when it was listed on the market, it broke all the records and reached Rs 641 in no time. Everyone is now full of praise for the success of D-mart, but in reality it is the result of 15 long years of hardwork.

Damani started his business career with his father’s bearings business. Unfortunately, the business was forced shut after his father’s death. During this bad phase, his brother Rajendra Damani joined him. The Damani brothers then stepped into the stock broking business. In the beginning, Damani did not even understand how the business functions. He spent long hours to get the understanding of the market by acquiring information from other experienced brokers. Once he became a pro, the Damani brothers never looked back. He used his prudence and foresight and became a millionaire by investing in razor-making companies such as Gillette.

Damani wanted to start his own business from the beginning but he could not do it because of lack of initial capital. After making good money from the stock market, he had enough capital and decided to enter the retail market in 2000. After interacting with small businessmen and shopkeepers, he focused on small towns and moved to the retail market under the banner of D-Mart.

Today, there are about 118 stores of D-Mart in 45 cities across the country. One of the key facts behind D-Mart’s success is that it never rented any place for its store. D-Mart stores were always opened after buying that place. This enabled D-Mart to make a higher profit as a large part of the profit usually goes into rent. Not only this, with the help of the extra profit they were able to give the goods at lower price. You will be surprised to know that today the profit of D-Mart is much higher than any other retail groups in the country including Reliance and Future Group.

After the company issued an IPO, not only Damani and his family became rich, but all the officers and employees of D-Mart also became millionaires overnight. Among them is the Managing Director of D-Mart Neville Narona whose shares have been valued at Rs 900 crore. Narona had taken the risk of going out of Hindustan Unilever Company and join Damani a decade ago. Damani’s financial adviser became the owner of Rs 200 crore, while there are thousands of people who also became rich. The valuation of the company is over 40,000 crores.

Generally, the aristocrat who is away from headlines, always believes in living a simple life. Damani has always believed that it is better to progress in a business by focusing on proven areas rather than spreading the business in a big way across the country too soon. Radhakishan Damani is a winning example of this formula who successfully left behind the legendary industrialists of the country like Anil Ambani, Ajay Piramal, Rahul Bajaj.

 

... or jump to: 2019, 2018
Info
Organization Name:
KenFolios
Category:
Membership

Administrator

My Posts