KenFolios

KenFolios can be best defined as a social entrepreneurship project where every initiative is a step toward positive social change. Our evolution as a media house began in 2013 and we have come a long way since then.

Headquartered in New Delhi, our publishing wing is aimed at instilling hope and motivation in individuals while our community of changemakers and influencers works for a common goal - to cause change and make this a better society for all.

Our mission is to impact the world around us with a problem-solving approach and bring together knowledge and people.

Friends
Empty
Profile Feed

He carved out one acre, 15 feet deep pond and nothing could stop him.

Although two-thirds of our planet is water, we face an acute water shortage. India is now facing a water situation that is significantly worse than any previous generations have had to face. There are so many places in the country where human beings are deprived of drinking water, raising a question on their survival. People are losing their families because they could not satiate their thirst.

In the north-western part of Chhattisgarh lies Saja Pahad village in Koriya district, a place which is still in the dark, as it does not have electricity or proper roads. On top of that, the villagers are deprived of drinking water and had to fetch water from a handful of wells available in the area. That was when water crisis hit the village resulting in helplessness of the villagers.

iagsstynu5vvrnt2rbt2wvbc2i4yaqvv.jpeg

The cattles were dying and there was no water for agriculture. In such situation, there was nothing a person could do. But there was a young boy who emerged as a savior and did the unbelievable. Meet Shyam Lal who dug and enlarged an entire pond single-handedly, as a 15-year-old, to save the people in his village. He completed the daunting task in 27 years.

No one helped me in my work, neither the administration nor the villagers, said Shyam.

Shyam took it upon himself to solve the problem of water shortage in his village. He identified a spot where he could find water and started digging the ground with his spade. He carved out a one-acre, 15 feet deep pond on his own.

Shyam, who is 42 now, was subjected to mockery and laughter from the villagers, as they thought that his work is illogical. But that did not Shyam from doing his work, as he knew that someday the same people will reap the fruits of his hard work. And that was what happened.

Today, the villagers use water from the pond and are thankful to Shyam. For them, Shyam is a hero and their savior. The local MLA Shyam Bihari Jaiswal visited the village and rewarded Shyam with Rs 10,000 for his work. Narendra Duggal, the district collector of Koriya said, “I came to know about Shyam recently. His effort for his village is commendable and I will go to his village to provide him all possible help.”

It is people like Shyam who make us believe that hard work goes nowhere. If you are persistent and do your work with determination, success will definitely come at your feet.

Share this story and tell us what you feel about it in the comment section below. We read each and every comment. 

असफलताएं कुछ और नहीं बल्कि एक बार फिर से किसी काम को शुरू करने का अवसर होती हैं; वह भी पहले से बेहतर अनुभव और ज्यादा विवेक के साथ। जीवन में बहुत बार अवसर कठिन श्रम की जरूरत के छद्म वेश में सामने आते हैं, पर लोग उसे पहचान ही नहीं पाते। आम मान्यता के विपरीत जीवन कांटों भरा बिस्तर नहीं बल्कि संयोगों और मौकों का सेज होता है। आए दिन अवसर हमारे दरवाजे पर दस्तक दे जाते हैं, यह तो हम हैं जो उन्हें देख या पकड़ नहीं पाते।

लोगों की सफलता में वह कौन हैं और कौन सी हुनर रखते हैं यह इतना महत्वपूर्ण नहीं होता। महत्वपूर्ण यह होता है कि उन्होंने जीवन में क्या बनने का चुनाव किया। आज हम आपको इमरान सईद नाम के एक शख्स से मिलवाने जा रहे हैं, जिसने शून्य से शुरूआत कर अपने खुद के दम पर अपना साम्राज्य खड़ा किया। उन्होंने बॉलीवुड में बतौर कोरियोग्राफर बड़े सितारों के साथ काम करते हुए अपनी एक ख़ास जगह बनाई है।

मुंबई के बाहरी इलाक़े डोम्बिवली में इमरान पले-बढ़े। उनका बचपन ख़ुशनुमा नहीं था और उन्हें वे सुविधाएँ भी नहीं मिली जो आमतौर पर बच्चों को बचपन में मिलती है। उनके पिता शिप में काम करते थे, नौकरी स्थायी नहीं होने की वजह से उनका परिवार आर्थिक रूप से तकलीफ़ झेल रहा था। उनकी माँ ने बच्चों को क़ुरान पढ़ाना शुरू किया।

pk6mcmwrrdqregveaqvffybffjwvggbu.jpeg

इमरान ने केनफ़ोलिओज़ को दिए साक्षात्कार में बताया, “एक समय ऐसा आया जब मेरे पिता के पास नौकरी नहीं थी। मैं और मेरे भाई ने मिलकर घर की आर्थिक जिम्मेदारी उठाई। हमारी पहली नौकरी एक पेपर डिलीवरी बॉय की थी। उसके बाद हमने घर-घर जाकर दूध बेचा। उस समय हम स्कूल में पढ़ते थे।”

हर दिन इमरान चार बजे सुबह उठ जाते, घर-घर जाकर दूध बांटकर घर वापस आते और फिर पेपर बांटने चले जाते। उसके बाद वे एक टूर और ट्रेवल कंपनी में रिसेप्शनिस्ट की नौकरी करने लगे। वे अपनी पूरी ज़िन्दगी में तीन लोगों से ख़ासा प्रभावित थे अर्नाल्ड स्च्वार्ज़नेगगर, माइकल जैक्सन और ब्रूस ली।

इमरान को मार्शल आर्ट्स में भी ख़ासी दिलचस्पी थी और वे एक फुटबॉलर भी थे। कॉलेज में उन्होंने डांस शुरू किया। वे कहते हैं, “मेरे पिता मेरे डांस करने के ख़िलाफ़ थे। मैं प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए खिड़की से चोरी छुपे जाया करता था। मेरी माँ तटस्थ रहती थी और वे कांटेस्ट में भाग लेने पर कुछ नहीं कहती थी।”

इमरान डांसिंग में ही जाना चाहते थे। उन्होंने बहुत से इवेंट्स और फिल्मों के लिए ऑडिशन देना शुरू कर दिया। वे बिना बताये अचानक ऑडिशन में चले जाया करते थे। उन्हें ‘कभी खुशी कभी कभी ग़म’ फिल्म के लिए नहीं चुना गया और इससे चुनौती लेकर उन्होंने कई वर्षों तक कड़ी मेहनत की। तब जाकर उन्हें पहला ब्रेकथ्रू ‘मैं हूँ न’ फिल्म में मिला। उसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा।

धीरे-धीरे चीजें व्यवस्थित होने लगी और जल्द ही इमरान सहायक कोरियोग्राफर बन गए। IIFA और फिल्म फेयर से बॉलीवुड मूवीज तक वे तेजी के साथ आगे बढ़ते चले गए। उन्होंने बड़े-बड़े सेलिब्रिटीज, जैसे ऋतिक रोशन, कटरीना कैफ, सलमान खान के साथ मंच साझा किया। उन्होंने दीपिका पादुकोण और महानायक अमिताभ बच्चन के साथ ऐड फ़िल्में भी की।

ये तमाम चीज़ें इमरान को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करतीं। अपने खाली समय में इमरान किताबें पढ़ते और खाना पकाते हैं। उन्होंने एक कंपनी इमरान सईद एंटरटेनमेंट की स्थापना भी की है इसमें उनकी एक प्रोडक्शन कंपनी है और एक डांसिंग राइट नामक ऐप भी है।

“मैंने जिंदगी को बदलते हुए देखा है। जो लोग पहले मेरा अपमान करते थे मुझ पर तंज कसा करते थे और मुझे नीचा दिखाते थे; आज मेरी प्रशंसा करते नहीं थकते।”

इमरान मानते हैं कि कोई भी व्यक्ति डांस कर सकता है और कोई भी गलत डांस कर ही नहीं सकता। वे डांस के स्टेप्स को बड़ी सहजता से सिखाते हैं। उन्होंने प्रयाग नाम से एक NGO की शुरुआत की है जिसके द्वारा वह पिछड़े वर्ग के बच्चों को वे सारी सुविधाएं और अवसर सुलभ कराते हैं जो उन बच्चों को मिलनी चाहिए होती है।

dywfaszwuczih2hvk9ccfj5edmfqqtt6.png

इमरान कुछ रियलिटी शोज में बतौर जज भी जुड़े रहे हैं अभी बेकिंग और डांसिंग से जुड़े हुए डिजिटल प्लेटफॉर्म आधारित एक वेब सीरीज से जुड़े हैं।

इमरान कहते हैं; “जीवन अवसरों से भरा पूरा है और यदि मैं आज यहां पहुंच सकता हूं तो कोई भी यहां पहुंच सकता है। मेरे जीवन में बहुत बड़े बदलाव आए क्योंकि मैं ऐसा चाहता था। हमें यह महसूस करना होगा कि कोई एक मौका भी हमें हमारे सपनों से मिला सकता है, चाहे वह सपना कितना भी बड़ा और असंभव ही क्यों नहीं लगता हो।” इमरान मानते हैं कि हर व्यक्ति को बिना किसी स्वार्थ के लोगों की वैसी मदद जरूर करना चाहिए जो उसके वश में हो।

इमरान लाखों में एक ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने तमाम विपरीत परिस्थितियों पर विजय पाई और अपने जुनून को अपनी जिंदगी और अपने कामों में ढूंढा। वे उस हर व्यक्ति के लिए प्रेरणा के स्रोत हैं जो जीवन की रणभूमि में कुछ पाने के लिए संघर्षरत हैं।

(यह आर्टिकल अनुभा तिवारी द्वारा लिखा गया है)

No parent in the world wants to see that day when their child dies before them. The pain and trauma that they go through is devastating and cannot be compared to anything else. When an unfortunate accident took place in Delhi’s Punjabi Bagh area recently, it torn down the lives of the many families.

Seven youngsters were on their way to appear in an examination when their car rammed a flyover railing and fell 25 feet below near the railway tracks. Sanchit Chhabra (19) and Ritu Singh (18) were among the four who died in the mishap. Shaken by the irreparable loss, their parents were in a state of shock. Losing a young child is a wound that needs nursing for a lifetime. But even in these tough times, parents of Sanchit and Ritu did something which deserves an applauding.

They donated the eyes of their deceased children so that it can brighten up someone else’s life. “My son is gone, but at least two other people will be able to see the world through his eyes. Just thinking of this possibility makes me feel better,” said Sanchit’s father Raj Kumar Chhabra.

zbweyjupsfk3ykecpmkjgneauzxk6y3w.jpg

It did not take a second thought for Ritu’s father Malkhan Singh either. He, too, agreed to donate his daughter’s eyes without any hesitation. “The NGO has invited me to meet the two persons who will receive Ritu’s eyes. My daughter will live in those two persons forever. I will meet them and stay in touch with them my entire life,” said her father amidst tears.

My daughter will live in those two persons forever. I will meet them and stay in touch with them my entire life.

Chhabra said if the thought had stuck him on time he would have readily donated all the organs of his deceased son. “By the time an NGO approached us with request for donation, only eyes of my son were usable. We agreed to donate his eyes without a second thought. My son was a helpful and friendly boy. Even in his death, he will be helping people,” he said.

Organ donation is India is not popular mainly because of religious beliefs that the person will not attain peace if his/her body parts remain part of the mortal world. Such regressive and superstitious thinking stop people from making this important contribution to the society. Parents of Ritu and Sanchit must be looked on as an example for taking this step without any prior planning.

The fathers have urged that others, too, must come forward for organ donation as it is the greatest service for human kind. We could be born healthy but not everyone has such a privilege. We live in a society where people with physical disability have to face social stigmas and yet we do not come forward to make their lives better.

Share this story to salute what the two fathers did despite being in grief and encourage organ donation.

किसी ने सही ही कहा है पहचान से मिला काम, बहुत कम समय के लिए टिकता है, पर काम से मिली पहचान उम्र भर कायम रहती है।

आज के बदलते परिदृश्य में बहुत कम लोग होते हैं जो सफलता प्राप्त कर लेने के बाद एक बार पीछे मुड़कर समाज की तरफ जरूर देखते हैं और विचार करते हैं कि हम तो आगे बढ़ आए हैं और अब बारी समाज को आगे बढ़ाने की है। अपना दायित्व निभाने की यह भावना चुनिंदा व्यक्तियों में ही देखने को मिलती है जो देश के नमक का कर्ज अदा करना चाहते हैं। समाज में ऐसे ही सकारात्मक परिवर्तन  को लाने वाले अपने दायित्व को प्राथमिकता दी है बिहार की 28 वर्षीया गरिमा विशाल ने।

वैसे तो आमतौर पर आईआईएम जैसे संस्थान से ग्रेजुएट होने वाले स्टूडेंट्स का एक सपना होता है, लाखों करोड़ों के पैकेज वाली शानदार नौकरी का लेकिन गरिमा जैसे लोग पैसे का मोह छोड़ समाज के बारे में सोचते हैं। तभी तो गरिमा ने लाखों का पैकेज छोड़ मुज़फ़्फ़रपुर में गरीब बच्चों को पढ़ाने के लिए एक अनोखा स्कूल प्रारम्भ किया जिसका नाम है “डिजावू स्कूल ऑफ इनोवेशन“।

6dx32fhqlhnuxqfjsqdsekivgijqctm4.jpg

मधुबनी की बेटी और मुजफ्फरपुर की बहू गरिमा ने बच्चों को पढ़ा कर समाज को बदलने का रास्ता चुना। अपने स्कूल के माध्यम से गरिमा ने शिक्षा से वंचित बच्चों को शिक्षित करने के लिए देश में लागू शिक्षा प्रणाली से अलग हट कर नई शिक्षा प्रणाली लागू की, जो तीन स्तम्भ शिक्षा प्रणाली पर आधारित है। गरिमा के पिता रजिस्ट्रार थे और उनका समय-समय पर स्थानांतरण एक से दूसरे शहर होता रहता था यही वजह रही कि गरिमा की पढ़ाई बिहार और झारखंड के अलग-अलग स्कूलों से पूरी हुई। उस दौर में जब महिला शिक्षा को बहुत अधिक तवज्जो नहीं दी जाती थी, फिर भी उन्हें पढ़ाई के लिए हमेशा परिवार वालों से प्रोत्साहन मिला।

“मेरे पिता ने हमेशा मुझे और मेरे भाई बहनों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित किया क्योंकि वे आज के समाज में शिक्षा के महत्व को समझते थे। मैं अपने शहर की पहली स्नातक थी। मेरे माता-पिता की प्रेरणा ने मुझे मेरे दायित्वों का अहसास करवाया कि मैं दूसरे बच्चों को भी शिक्षित कर सकूँ।” — गरिमा विशाल

गरिमा ने अपनी 12वीं की पढ़ाई केंद्रीय विद्यालय, पटना से पूरी की और फिर आगे की पढ़ाई के लिए मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में दाखिला लिया। बचपन से ही पढ़ाई में अव्वल रही गरिमा का साल 2011 में पढ़ाई के दौरान ही कैंपस सेलेक्शन इंफोसिस जैसी देश की जानी-मानी कंपनी में हो गया। सामाजिक और व्यावहारिक पैमाने के हिसाब से उनके करियर की गाड़ी तेज रफ्तार से चल रही थी लेकिन उनके मन के अंदर छुपा शिक्षक सामाजिक बदलाव की सोच को साकार करने के लिए हमेशा बाहर आने की कोशिशें करता रहता। लेकिन तभी उनकी पोस्टिंग भुवनेश्वर में हुई तो वो उनके जीवन का एक परिवतर्नकारी दौर साबित हुआ, जिसने उनके अंदर के शिक्षक को अपना दायित्व निभाने का अवसर दिया।

केनफ़ोलिओज़ से ख़ास बातचीत के दौरान गरिमा ने बताया कि “जब मेरी पोस्टिंग इंफोसिस के भुवनेश्वर ऑफिस में थी। तभी एक दिन मैं शेयरिंग वाले ऑटो से कहीं जा रही थी। उस ऑटो में एक गुजराती परिवार भी अपने बच्चों के साथ था। उनके बच्चे आपस में हिंदी में बात कर रहे थे। मेरी उत्सुकता बढ़ी कि भुवनेश्वर में गुजराती परिवार के बच्चे इतनी अच्छी हिंदी में कैसे बात कर रहे हैं? उत्सुकतावश मैंने पूछ ही लिया कि वे किस स्कूल में पढ़ते हैं? तो जवाब मिला कि ये स्कूल में नहीं पढ़ते क्योंकि यहां के सरकारी स्कूलों में उड़िया भाषा पढ़ाई जाती है और प्राइवेट स्कूल में वे पढ़ा नहीं सकते क्योंकि उनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है। फिर क्या था उन बच्चों को पढ़ाने की जिम्मेदारी मैने अपने ऊपर ले ली और शुरू हुआ बच्चों को पढ़ाने का सिलसिला।“

गरिमा सुबह 7 से 9 बजे तक बच्चों को पढ़ाने लगी। धीरे-धीरे बच्चों की संख्या बढ़ने लगी और जल्द ही बच्चों की संख्या 30 तक पहुँच गयी। लेकिन नौकरी के दौरान ही उन्होंने एम.बी.ए करने के लिए IIM द्वारा आयोजित कैट की परीक्षा दी थी और कैट में अच्छी रैंक आने से उनका सेलेक्शन IIM लखनऊ में हो गया। जब आगे की पढ़ाई के लिए गरिमा को लखनऊ जाना पड़ा तो उस समय काफी मेहनत करने के बाद उन बच्चों का विभिन्न स्कूलों में दाखिला करवाया गया इसमें जो खर्च आया उसे गरिमा ने वहन किया और महीने की फीस का जिम्मा उनके माता–पिता को दिया।

एमबीए की पढ़ाई पूरी करने के बाद उनका कैंपस सेलेक्शन गुड़गांव में ZS नाम के एम.एन.सी में हो गया। लेकिन वो समाज के लिए कुछ करना चाहती थी देश के बेहतर भविष्य की निर्माता बनकर। गरिमा अपने सपने को साकार करने की जद्दोजहद को याद करते हुए कहती हैं “मैं बहुत असमंजस की स्थिति में थी कि मैं कैसे अपने सपने को साकार करूँ तभी इंजीनियरिंग के दौरान ही मेरे दोस्त रहे अभय (अभय नंदन) जो अब मेरे जीवनसाथी हैं, उन्होंने पढ़ाने में मेरी बहुत अधिक रुचि को देखते हुए सलाह दी कि तुम्हारा जो मन है, वही करो, ताकि जीवन में संतुष्ट रहो। अभय की बात मुझे बहुत पसंद आई और दिल–दिमाग दोनों उस हिसाब से सोचने लगा। फिर कुछ और दोस्तों और परिवार के सदस्यों से विचार–विमर्श के बाद स्कूल शुरू करने का रास्ता साफ हो गया।"

h5pdscw824igb5xikdshutxanfyznxyh.jpg

साल 2014 गरिमा के जीवन का सबसे परिवर्तनकारी साल सिद्ध हुआ। आई.आई.एम में दाखिला मिला और पांच दोस्तों के साथ मिलकर ऐसे स्कूल की स्थापना का निर्णय लिया गया जिसका अंतिम लक्ष्य शिक्षा के माध्यम से देश को एक सुनहरा भविष्य देना था। गरिमा ने जब नौकरी को अलविदा कहा उस वक्त उनका वार्षिक पैकेज लगभग 20 लाख रुपए का था लेकिन पढ़ाने की सामाजिक जिम्मेदारी उन्हें इन पैसों से भी महत्वपूर्ण लगी। सभी की सहमति मिलने के बाद बिहार में स्कूल खोलने की कोशिश शुरू हुई और आखिरकार मुजफ्फरपुर के माड़ीपुर में स्कूल की स्थापना का फ़ैसला लिया गया। स्कूल का नाम रखा “डेजावू स्कूल ऑफ इनोवेशन” डेजावू फ्रेंच भाषा का शब्द है, जिसका अर्थ होता है जुड़ाव महसूस कराने वाला इसलिए स्कूल के माहौल को घर जैसा बनाया और प्ले स्कूल से लेकर दूसरी क्लास तक की पढ़ाई का श्री गणेश हुआ। गरिमा का स्कूल 10 बच्चों से शुरू हुआ था और आज 2 साल के भीतर पांचवी क्लास तक लगभग 100 बच्चे पढ़ रहे हैं। बच्चों के परिवार की आर्थिक स्थिति को देखते हुए ही फ़ीस का निर्धारण किया गया है जो बेहद कम है क्योंकि गरिमा का लक्ष्य केवल गुणवत्ता युक्त शिक्षा उपलब्ध करना है। गरिमा अपने काम में कोई कोर कसर नहीं छोड़ती वे बच्चों की बेहतर शिक्षा के लिए शिक्षिकाओं को तो नियमित रूप से प्रशिक्षित करती ही हैं साथ ही बच्चों के अभिभावकों को भी समझाती हैं कि वे अपने बच्चे पर घर में किस तरह ध्यान रखें। उन्हें कैसा माहौल दिया जाए साथ ही टेक्नोलॉजी के उपयोग पर भी विशेष बल देती हैं। गरिमा की टीम में सभी डॉक्टर और इंजीनियर शामिल हैं जो समाज के लिए कुछ करना चाहते हैं। गरिमा के साथी सदस्य समय-समय पर उनके स्कूल आते हैं, बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण करते, बच्चों और उनके माता पिता की काउंसलिंग भी करते हैं।

मेरे लिए स्कूल स्टाफ का मतलब केवल डिग्रीधारी लोगों से नहीं है मेरे लिए स्टाफ का मतलब वे लोग हैं जिनमें जूनून हो कुछ अलग करने का, ऐसी शिक्षिकाएं जो छोटे बच्चों को मातृत्व की छांव में रखें। इसलिए मैं अपनी स्कूल में महिलाओं को प्राथमिकता देती हूँ क्योंकि मातृत्व का गुण महिला की पहचान होती है।

गरिमा को महिलाओं की क्षमताओं का अच्छे से ज्ञान है तभी तो शादी के बाद खुद के घर के कामों में लगा देने वाली महिलाओं के टैलेंट को वो खत्म नहीं होने देना चाहती, बल्कि उन्हें रोजगार देकर सक्षम बनाना चाहती हैं। गरिमा के इस अनोखे स्कूल में बच्चों की रूचि के अनुसार उन्हें प्रेरित किया जाता है जिससे बच्चे जीवन में वो करें जो वो करना चाहते हैं। गरिमा की मैनेजमेंट की पढ़ाई स्कूल प्रबंधन में बहुत काम आती है, जब वे बच्चों के व्यक्तित्व निर्माण में 360 डिग्री डेवलपमेंट का तरीका अपनाती हैं।

आज हमें गरिमा की सोच पर चलने वाले एक ऐसे युवा समाज की जरूरत है, जो ज्यादा से ज्यादा विकास में योगदान कर सके और अपने जुनून को अपनी आजीविका बनाने में सक्षम हो। 

(यह आर्टिकल हिमाद्री शर्मा द्वारा लिखा गया है)

While we read articles and swipe through videos on Facebook, we cannot ignore the pitiable state of our villages. India may be developing technically but our villages are not getting their due share. All through this race of growth, the villages in India continue to lag far behind. The urban population feels proud of being a part of the modern India and look down upon people from villages.

But is it not our collective duty and responsibility to develop our villages? Despite several schemes run by the government, there is no improvement in the situation of most villages. At some places, the situation is getting worse with every passing day. Such circumstances arose only because of the educated mass of our society are not working at grassroots level. So, the village people continue to face age-old problems and are unable to join the mainstream of development.

However, there are a few exceptions among the younger generation who are trying wholeheartedly to change the current scenario. Ritu Jaiswal is one such personality who has worked solely for the development of our villages. Her dedication as mukhiya of a village in Sitamarhi district, Bihar, has completely transformed its fate. The happy villagers compare their village with Ram Rajya (the perfectly-ruled state by Lord Rama).

zs5m8knk6pkdsxcy3ub9hebkatpxqsh4.jpeg

Ritu Jaiswal is the wife of IAS officer Arun Kumar Jaiswal from Delhi. You may be wondering why would a wife of an IAS officer choose to work for a remote village. After all there’s no reward or anything in return. It started when she discovered Sitamarhi, her in-laws’ place, and discovered that people were in acute misery here. She decided to resolve their issues and bring about a positive change.

Sticking to her resolve, Ritu bade goodbye to her dazzling life in New Delhi and started living in the village. She now became the head of Singhwahini panchayat in Sonbarsa block, Sitamarhi. Ritu, with her powerful leadership quality, has written a new chapter in the development of this panchayat.

It was not easy for Ritu to leave her two small children in Delhi with her family and shift to the village. But she finally took this decision for the betterment of so many deprived families of the village. Once, while she was going to the village, her car got stuck in the mud some distance away from the village. Even after repeated attempts, the car could not be pulled. She then tried to go to the village in a bullock cart. But that too got stuck in the mud after some time. Her own ordeal made her realize the fate of these villagers who have no chance in escaping this sorry state of even basic facilities.

My husband and daughter supported my decision. My daughter said, we will stay in the hostel and you go to the village to teach the children. Her words gave me courage and I enrolled her in a residential school and went ahead to transform the village panchayat.

In the year 2016, Ritu contested for the post of mukhiya from Singhwahini panchayat. Her victory was, however, not easy. There were a total of 32 candidates contesting for the post. Ritu spread awareness among the villagers and urged them to not to waste or sell their votes for caste or money. The villagers understood the point and made her victorious with a high margin. Now, the responsibility of the development of the village came on the shoulders of Ritu. She started reforming a village where there were no roads, electricity, mobile tower, or a robust education system even after 70 years of independence.

Instead of waiting for the government funds to arrive, Ritu started working for the development of the village from the very next day. She took an oath to use money from her own pocket. Initially, the villagers were not ready to give even an inch of their land for making the roads. But, after realising the efforts of Ritu they finally agreed. In the coming time, the village saw good roads after overcoming countless challenges. Currently, the village has paved roads all around.

nfxvah7ntrgdkfkcbpnwzyevvxwwzghx.jpeg

Photo: Patrika

For the first time in the history, electricity came to this village. This was the time when Ritu concentrated on improving the educational standard of the village. She made a documentary on the village and showed it to some NGOs. With their help, she started a tuition class for the children in the village. She got a reward soon when 12 girls from this village passed the matric examination. Her next objective was to build toilets in every home in the village. Earlier, 95 percent of the homes in the village did not have a toilet; people used to defecate in the open grounds. She converted the whole panchayat free from open defecation and built a toilet in every home of the village in just three months.

Ritu monitored all the developmental works herself. For this, she was even seen riding a motorcycle and a JCB tractor. For her outstanding work, she received the “Uchh Shikshit Adarsh Yuva Sarpanch (Mukhiya) award of 2016 as the mukhiya of the Singhwahini panchayat. Ritu is the only mukhiya from Bihar to receive this honor. 

It is really heartwarming to see a woman coming forward to help the development of the remote villagers after leaving behind her families including small children. Any praise will fall short for Ritu who also sacrificed her luxurious personal life in Delhi. 

 

बच्चों के अधिकारों के प्रति बढ़ती जागरूकता के बीच जहाँ स्कूलों में शिक्षकों को बच्चों को मारने या डांटने की भी मनाही आप शहरों में देख सकते हैं, वहीं ऐसे में कुछ समय पहले ऐसी तस्वीर सामने आई थी जिसमें स्कूल के हेडमास्टर, शिष्‍य के आगे घुटनों के बल हाथ जोड़ कर बैठे थे। ऐसे में निश्चित तौर पर लोगों को आश्चर्य होगा। चेन्नई के तमिलनाडु में यह तस्वीर आजकल देखी जा रही है। विल्लुपुरम के सरकारी स्कूल के हेडमास्टर, बालू अपने शिष्य के सामने हाथ जोड़े बैठे हैं। इसके पीछे की कहानी भी बड़ी भाव-विभोर कर देने वाली है। 

यह स्कूल छठी कक्षा से 12 वीं कक्षा तक का है। तकरीबन 1000 बच्चे यहां पढ़ते हैं, जो अत्यंत गरीब और पिछड़े परिवारों से आते हैं। इनके माता-पिता खेतीहर मजदूर या श्रमिक हैं। इनके परिवारों में पढ़ाई के लिए कोई विशेष स्थान ना होने के कारण स्कूल आना या ना आना इन बच्चों के लिए कोई महत्व नहीं रखता। बच्चों की उन्नति के लिए चिंतित बालू विशेष तौर पर 12 वीं कक्षा के छात्रों से प्रतिदिन हाथ जोड़कर उनके भविष्य के लिए प्रार्थना करते हैं कि वह स्कूल में अवश्य आएं। इतना ही नहीं स्कूल में नहीं आने वाले बच्चों के घरों पर जाकर भी वह इसी तरह हाथ जोड़कर उनके सामने स्कूल आने की प्रार्थना करते हैं। जिस युग में आज हम हैं वहां तो मनुष्य अपनों के लिए भी झुकने को तैयार नहीं होता। लेकिन बालू का बच्चों के भविष्य के प्रति उनके लिए विनम्र निवेदन उनकी सोच एवं सहनशीलता के गुण को दर्शाता है। अपनी छुट्टी के दिन भी बालू बच्चों के घरों पर जाकर उन्हें शिक्षा का महत्व समझाते हैं और स्कूल आने के लिए प्रेरित करते हैं। 

465zrycmckp4xscyenyf4cdvbkbyzf7u.jpeg

डांटने, मारने या प्रताड़ित करने से अच्छा वह विनम्रता को मानते हैं क्योंकि यह बच्चे जिस परिवेश में पलते हैं वहां जीवन की आधारभूत जरूरतों को पूरा करना शिक्षा से ज्यादा महत्वपूर्ण होता है, ऐसे में उन्हें यह समझाना नितांत आवश्यक है कि शिक्षा के द्वारा वह अपनी जरूरतों को आसानी से पूरा कर सकते हैं और अपने मां-बाप सहित अच्छी जिंदगी गुजार सकते हैं। इतना ही नहीं बालू बच्चों का मार्गदर्शन भी यह बताकर करते हैं कि बोर्ड के पेपरों के लिए उन्हें कैसी तैयारी करनी है और कॉलेज में कैसे आवेदन करना है। 

बालू की विनम्रता से शिष्य पहले शरमाते या हिचकिचाते हैं लेकिन ज्यादातर बच्चे उनकी बात मान लेते हैं। क्योंकि बालू स्वयं गरीब परिवार से हैं और सरकारी स्कूल में पढ़े हैं इसलिए उनका मानना है कि शिक्षक का प्रेम पूर्ण व्यवहार ही बच्चों एवं माता पिता का विश्वास जीत सकता है। हालांकि वह अपने द्वारा किए जा रहे कार्य को प्रत्येक शिक्षक द्वारा अपनाना जरूरी नहीं समझते लेकिन शिक्षक लेकिन शिक्षक का अहम बच्चों के साथ मधुर रिश्ते रखने के लिए आगे नहीं आना चाहिए, ऐसा उनका मानना है।

तमिलनाडु के स्कूलों में बढ़ रही बच्चों की आत्महत्या की घटनाओं ने बालू को मानो झकझोर दिया। 3 साल पहले उन्होंने यह तरीका बच्चों पर अपनाने का निश्चय किया। ऐसा करने से बच्चों ने स्कूल आने के साथ-साथ पढ़ाई में भी मन लगाना शुरु किया है हालांकि इस तरीके की सफलता कितने समय तक बनी रहेगी यह बालू भी नहीं जानते। 

wrvdbd5sbw7cruuwnhk6vvqukldcabjb.jpeg

तमिलनाडु ही नहीं पूरे देश में स्कूली बच्चे आत्महत्या जैसे कदम उठा रहे हैं जिसमें मुख्य भूमिका मानसिक तनाव होती है, जिसके कारण घरेलू या अन्य भी हो सकते हैं। ऐसे में एक सच्चे शिक्षक को समस्या की जड़ तक जाने के लिए बच्चे के व्यक्तिगत व्यवहार को समझना चाहिए, जो कि प्यार से ही संभव है। बालू एक शिक्षक होने के नाते इस कर्तव्य को बहुत अच्छी तरह से निभा कर अन्य शिक्षकों के लिए एक मिसाल भी पेश कर रहे हैं।

(यह आर्टिकल मेघना गोयल द्वारा लिखा गया है) 


बेंजामिन फ्रैंकलिन की कहावत ‘ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है’ अत्यंत प्रसिद्ध है। किताबों में तो है, मनुष्य के जीवन में यदि यह नीति ईमानदारी से लागू हो जाए तो परिवार, समाज और राष्ट्र का उत्थान निश्चित है। सरकारी योजनाओं का लाभ सही व्यक्ति तक नहीं पहुंचने की खबरें तो आम है लेकिन आज जिस गांव के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं वह सरकारी योजनाओं के सदुपयोग से आज इतना फल-फूल रहा है कि 157 गांव इस गांव के मॉडल को अपना रहे हैं। प्राचीन भारत जो सोने की चिड़िया कहलाता था उस भारत की झलक यह गांव प्रस्तुत करता है। उदयपुर राजस्थान के छोटे से गांव पिपलांत्री को 2007 में स्वछता मॉडल के लिए राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया था। 

केनफ़ोलिओज़ के साथ ख़ास बातचीत में पिपलांत्री के कायाकल्प के सूत्रधार श्री श्यामसुंदर पालीवाल जी से इतने अनोखे तथ्य पता चले कि महसूस हुआ कि यदि हर एक भारतीय नागरिक व्यक्तिगत तौर पर ईमानदारी को अपना ले तो भारत को सोने की चिड़िया पुनः बनाना कोई मुश्किल कार्य नहीं होगा। गरीब परिवार में जन्मे पालीवाल ने बचपन से ही कठिनाइयों को अपने करीब पाया लेकिन स्वयं को इस संकल्प के साथ बड़ा किया कि अपने गांव और गांववासियों के लिए बहुत कुछ करना है। नियति ने उनकी मंशा को भांप कर उन्हें सरपंच बनने का मौका दिया। उन्होंने इस पद का भरपूर सदुपयोग करते हुए गांव वासियों के लिए जागरूकता अभियान चलाए जिसमें उन्हें जल, पेड़ और बेटी को बचाने के लिए जागरूक किया। जल संचयन का महत्व समझाया, गांव की महिलाओं द्वारा वृक्षों को राखी बंधवा कर भाई बहन का अनोखा रिश्ता बनवा दिया, जिससे वृक्षों का कटाव रोकने में सहायता मिली। बेटी बचाओ अभियान के अंतर्गत गांव में बेटी के पैदा होने के उपलक्ष्य में वृक्ष लगाए जाने लगे। गरीब और असहाय परिवारों की बच्चियों को सहायता देने के लिए सक्षम परिवारों को प्रेरित करके इन बेटियों के लिए जमा योजना शुरू करवा दी जो उनकी पढ़ाई एवं विवाह में काम आ सके। 

pyfgwcjqet4l635pdgbi5ezv5tjfahnp.jpg

सबसे दिलचस्प बात यह रही कि गांव के जो लोग श्रमदान समझकर गांव में काम करते थे, अपनी मातृभूमि के प्रति उनकी भावनाओं को जागृत करके सरकारी योजनाओं का भरपूर सदुपयोग किया और गांव के प्रत्येक घर में योजनाओं का लाभ पहुंचाया। 

गांव में आ रहे बदलाव ने जनप्रतिनिधियों एवं सरकारी अधिकारियों का ध्यान अपनी और आकर्षित किया तो उनके सुझावों का भी स्वागत किया गया। स्वच्छता अभियान को बढ़ावा देने के लिए गांव में शौचालयों का निर्माण भी किया गया सकारात्मक लोगों के सुझावों से गांव दिन प्रतिदिन प्रगति करने लगा। महिलाओं विकलांगों, असहाय, गरीबों सभी को रोजगार मिलने लगा। इस तरह अपने गांव की जरूरतों के अनुरूप सरकारी योजनाओं के समन्वित प्रयोग से प्राचीन समृद्ध भारत का मॉडल पिपलांत्री में तैयार हो गया। 

wjnxvlufj8zeykyvy9sybjdn67fq3lre.jpg

पालीवाल के अनुसार ईमानदारी की असली परिभाषा है ‘कर्मशील ईमानदारी’ अर्थात काम के प्रति ईमानदारी। प्रत्येक गांववासी ने कर्मशीलता के साथ ईमानदारी से सरकारी पैसे को लेना शुरू किया तो गांव के साथ-साथ उनका जीवन भी बदल गया। 

यदि यह जागरुकता एक छोटे से गांव का नक्शा बदल सकती है तो देश को बदलना असंभव तो नहीं, बात तो बस शुरुआत की है जो पिपलांत्री गांव से हो चुकी है।

(यह आर्टिकल मेघना गोयल द्वारा लिखा गया है)

"हूँ आज उठा फ़लक नापता,

दिमाग से दिमागी फ़ितरत भांपता

अचेतन-अवचेतन का संगम

दिल में ज्वाला लिए क्रांति की

खड़ा हुआ हूँ बाहर से मैं

भीतर एक शमशान हूँ

शायद मैं इंसान हूँ

हाँ शायद मैं इंसान हूँ"

राम निरंजन रैदास की लिखी निम्नलिखित पंक्तियाँ स्पष्ट रूप से इंसान के टूटने की तड़प को दर्शाती हैं। और इन्हीं पंक्तियों को चर्चित करते दिखे पूर्व नक्सली कमांडर रमेश पोड़ियाम

वाक्या सोमवार को छत्तीसगढ़ के बस्तर इलाके का है। यहाँ पोलिंग बूथ बने केवरामुंडा सरकारी स्कूल में नक्सलियों के चुनाव बहिष्कार व हिंसक घटनाओं के बीच पूर्व नक्सल कमांडर रमेश पोड़ियाम उर्फ़ बदरन्ना अपनी पत्नी के साथ जब पोलिंग बूथ पर वोट डालने पहुँचे तो लोग उन्हें देखकर दंग रह गए। उनकी पत्नी लता भी उन्हीं की कमेटी में मैम्बर थीं।

pgmafik6ffur9vpufdaaan4vpm37fdiw.jpg

बासागुड़ा एरिया कमेटी के कमांडर रहे रमेश उर्फ़ बदरन्ना ने कहा कि "हमने ख़ुद को वोट डालने के लिए वोटिंग से पहली रात ही तैयार कर लिया था। जब नक्सली गलियारों में दाख़िल हुआ था तब मुझे वही नीतियाँ क्रांतिकारी लगती थीं। कुछ वक़्त बाद मैं जब शीर्ष पर पहुँचा तो एहसास हुआ कि किसी भी समस्या का समाधान बंदूक की नोंक पर नहीं किया जा सकता।"

वो आगे कहते हैं, "उसी वक़्त में ही मेरा विवाह लता से हो गया। फ़िर दोनों ने ही लोकतंत्र के रास्ते को अपनाया और "गन नहीं गणतंत्र" की विचारधारा के साथ सभी समस्याओं को सुलझाने की ठानी। हम दोनों ने सन् 2000 में आत्मसमर्पण कर दिया था। इसके बाद मेरी पत्नी पुलिस फोर्स में तैनात हुई जो कि अभी सहायक आरक्षक के पद पर हैं। मैं सरकारी स्विमिंग पूल में हूँ। हम दोनों ने अपना वोट उसे दिया जो बस्तर में शांति लेकर आये। मैं उम्मीद करता हूँ कि भटके हुए लोग भी जल्द ही गणतंत्र को अपनाएंगे और शांति के रास्ते पर चलेंगे। बस्तर में फ़िर से एक नया सवेरा आयेगा।" 

x2fuaxb9eyjmpd3dnrx6pcfdahf3a2xu.jpg

बता दें कि समर्पण करने और लोकतंत्र का रास्ता अपनाने के पश्चात रमेश उर्फ़ बदरन्ना व उनकी पत्नी लता तब से अभी तक सभी पंचायत और लोकसभा चुनावों में अपने मत का प्रयोग करते हैं। इसी के साथ वह लोगों को इस रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित करते हैं। वह अब साधारण जीवन बिता रहे हैं और सरकारी मकान में रहते हैं। 

उन्हें आइकॉन मान कर अब तक तकरीबन सत्तर नक्सली सरेंडर कर चुके हैं। बस्तर में पहली बार सरेंडर के बाद नक्सलियों के परिवार बसाने के लिए नसबंदी खोलने की शुरुआत बदरन्ना से ही हुई थी। अब समर्पण करने वाले सभी नक्सलियों को इनके बारे में ज़रूर बताया जाता है।

uew9r6rb2dgwmwyvjm9zxq4rrk5traa2.jpg

रमेश उर्फ़ बदरन्ना व उनकी पत्नी ने इस बात को समझा कि नक्सली रास्तों से कहीं बेहतर सुख शांति व लोकतंत्र का रास्ता होता है। हमें बुराई को त्याग कर अच्छाई की ओर कदम बढ़ाना चाहिए। इनकी ये सच्ची कहानी हमसे बस यही कहती है कि "आप कब बदलेंगे...?"

 

"दरिया हो या पहाड़ हो टकराना चाहिए,

जब तक न साँस टूटे जिए जाना चाहिए ,

यूँ तो क़दम क़दम पे है दीवार सामने,

कोई न हो तो ख़ुद से उलझ जाना चाहिए।"

निदा फ़ाज़ली साहब की ग़ज़ल का लिखा बेहद ख़ूबसूरत ये एक शेर इंसान को उसकी लड़ाई लड़ने के लिए बहुत सारी हिम्मत देता है, और वो बड़ा होकर इसे चर्चित भी करता है। मगर इस बार इसे चर्चित किया है उम्र की दीवार लांघ कर छोटे-छोटे बच्चों ने। खेलने कूदने वाली दस-बारह साल की उम्र में मुंबई के मुंब्रा इलाके के दो बच्चों ने अपनी सूझ-बूझ और हिम्मत से अपने भाई को अपहृत होने से बचा लिया। वाक्या शुक्रवार को उस वक़्त का है जब ठाणे के मुम्ब्रा इलाका स्थित ज़रीन अपार्टमेंट निवासी दो बच्चे अपने चचेरे भाई के साथ अपार्टमेंट के बाहर खेल रहे थे। तभी बुर्का पहने एक महिला ने वहाँ खेल रहे छोटे बच्चे से संपर्क किया और उसे अपने साथ लेकर जाने लगी। तभी वहाँ मौजूद उसके दस वर्षीय भाई ने उसे देख लिए और उसने अपने चचेरे भाई से घर पर ख़बर करने की कहते हुए उस औरत का पीछा करना चालू कर दिया। तक़रीबन आठ मिनट तक उस अज्ञात महिला का पीछा करने के बाद परिवार और लोगों की मदद से अपने भाई को बचा लिया। मगर भीड़ को इकट्ठा होते देख अपहरणकर्ता भाग निकली।

पीछा करने वाले भाई ने बताया कि "मैं उसके पीछे चल रहा था और बार-बार पूछ रहा था कि वह मेरे भाई को कहाँ लेकर जा रही है। जब मैंने उसे पकड़ने की कोशिश की, तो वह मेरे भाई को लेकर तेज़ी से दौड़ पड़ी।"

arzkcgnnxask8vpimpvmjk46vksmqxvq.jpg

उन दोनों भाईयों के चाचा खुर्शीद वारसी ने बताया कि "क्षेत्र में विवाह समारोह की तैयारी की वज़ह से काफ़ी भीड़-भाड़ थी। तकरीबन 01:30 बजे, तीनों बच्चे अपने घर के बाहर खेल रहे थे। तभी महिला ने पहले मेरे छोटे भतीजे को बातचीत के नाटक में शामिल करने की कोशिश की। फ़िर उसने उसे उठा लिया और जाने लगी। इस पर जब मेरे दस वर्षीय भतीजे ने उस महिला से सवाल किया, तो उसने ज़वाब दिया कि वह उसे चॉकलेट दिलवाने के लिए ले जा रही है। वह तुरंत सावधान हो गया और अपने बारह वर्षीय चचेरे भाई के पास पहुँचा और उसे परिवार को सूचित करने के लिए कहा कि वह घर जाकर बताये कि उसके भाई को एक अज्ञात महिला अपने साथ ले जा रही है, और ख़ुद शोर मचाते हुए उसके पीछे-पीछे चल दिया।"

वारसी ने कहा कि लड़के ने अलॉर्म देना जारी रखा जब तक वह रुक नहीं गई। जल्द ही मेरे रिश्तेदार और पड़ोसी बच्चे को बचाने के लिए जगह पर पहुँचे। उसने भीड़ को देख कर ख़ुद को घिरा हुआ पाया और वह लड़के को छोड़ कर भाग गयी।"

उसके बाद स्थानीय निवासियों ने मुंब्रा पुलिस को सूचित किया और महिला की पहचान करने के लिए क्षेत्र से निजी सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को खंगाला गया। कैमरों की एक फुटेज में साफ़ दिखाई देता है कि कथित अपहरणकर्ता किस तरह से ढाई साल के बच्चे को अपने साथ लेकर जा रही है और कैसे उसका दस साल का बड़ा भाई शोर मचाते हुए उसे रोकने की कोशिश कर रहा है। 
इस घटना के बाद, अपार्टमेंट के निवासी इलाके में खेलने वाले बच्चों के बारे में अधिक सतर्कता बरतने की योजनाएं बना रहे हैं। एक निवासी रिज़वान अंसारी ने बताया कि "हम बच्चों की सुरक्षा के बारे में बहुत चिंतित हैं और हम क्षेत्र में सुरक्षा की दृष्टि से बहुत जल्द सीसीटीवी कैमरों को स्थापित करेंगे।" 

मुंबई पुलिस के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक, किशोर पासलकर ने कहा कि "हमें निवासियों से बच्चे को अपहरण करने के प्रयास के सिलसिले में जानकारी मिली है। हम फ़िलहाल मामले की जाँच कर रहे हैं, लेकिन अभी परिवार ने इस घटना के बारे में आधिकारिक शिकायत दर्ज़ नहीं की है।

तो ये था दस साल के बच्चों का दिमाग और उनकी सूझ-बूझ जिसकी बदौलत उन्होंने अपने भाई को अपहृत होने से बचा लिया। यह सच्ची घटना ये बताती है कि हमें भी अपने बच्चों को इस तरह की घटनाओं के लिए तैयार करना चाहिए जिससे वक़्त आने पर वो ख़ुद अपनी लड़ाई लड़ सकें।


फ़ोटो:- प्रशांत नार्वेकर

Each one of us has seen a child beg for food outside restaurants or at the traffic signal and it is nothing less than heartbreaking. At an age when life is brimming with creativity and joy, these children are constantly worried about scoring their next meal and getting through one more day. It can't be contested that living in a world with well-fed children has been a collective dream for leaders across centuries but hasn't been realized till date. However, here's something amazing happening on your mobile screens right now that will get us closer to a nation where children aren't starving.

Inviting a friend to Impact App, a fitness plus kindness mobile application, is all you have to do to bring two meals to a child in need.

eaxmktenswwvn7h2nikrkngwh4sckbrp.png

If you have ever wanted to work for this cause let us tell you that it can't get any easier than this. The app has created a unique Share a Meal Challenge that shares meals with every download. It aims to feed 100,000 meals to needy kids with its users’ help before year end. This simply means that a couple of touches on your mobile screen will feed tiny tummies.

Kindness At Your Fingertips

In a consumer-app like Uber or Swiggy, users and their friends get a discount on their next ride or meal when they invite someone to the app. With Challenge, this app has shifted that incentive from ‘me to we’. The company is running this campaign in partnership with DHL and Akshay Patra who will fund the campaign and feed the kids respectively on behalf of the app’s users.

This exceptionally convenient and kind referral scheme is a celebratory gesture by Impact for crossing charity milestone of Rs 3 crore and raising an investment of $300,000 (more than Rs 2.20 crore) in its angel round.

How Impact works:

4cvjuxhedryxcyhmq6etd4ghkjgdfkqp.png

Impact app is a fitness plus charity app where every kilometer walked or jogged raises money for a social cause of the user’s choice. In the last two years, more than 60,000 users of this app have covered 30 lakh km to raise Rs 3 Crore to support 20+ nonprofits across the globe. Recently, the app raised its angel round from a series of angel investors. This campaign is their way to celebrate their recent successes. Download the app here.

 

She was born and raised in India’s second largest red-light district. Her stepfather sexually abused her until she was seven. Her mother threw her out of the house a few years later. What was she to do? Become a sex worker, right? Wrong. 

Leaving all the bitterness behind Sheetal Jain is now pursuing her dream of becoming a drummer. She went to the Levine School of Music in the United States, and also teaches children at an NGO. In talks with KenFolios, Sheetal talks about her journey from being in Kamathipura to living her dreams.

Sheetal’s maternal grandmother was trafficked by her husband to Kamathipura when she was pregnant. She gave birth to Madhu (Sheetal’s mother) and never allowed her to study. Madhu got married to a man she loved when she was 13 . Sheetal was born to her 14-year-old mother as a premature child. 

ew2wwc8qkgfre9sp63gkdpkj4dwqy2wj.jpeg

“My father lied to my mother to get married. After a few months, he left Mum to marry someone else,” Sheetal tells KenFolios.

Madhu took a job of a bar dancer, remarried shortly, and gave birth to Aditya. Little Sheetal loved her stepfather dearly as she did not know about her biological father. 

Beginning of abuse 

As a kid Sheetal was sent to a hostel in Goa to study. Her stepfather would bring her home during vacations. She remembers various incidents as a seven-year-old when she found herself naked after waking up. 

“One day while sleeping, I felt my father’s hands on my private parts. I was pretending to be in deep sleep but it was paining very much. Maine socha ki papa hain, pyaar kar rahe honge (I thought that my dad is being affectionate),” she weeps. The man asked Sheetal to dress up afterwards. That was when she realized that something is not right and started maintaining distance. 

Sheetal was forced to leave her studies after STD 4. Her mother left her job and turned into a drug addict. When Sheetal turned 12, her stepfather abandoned his family to marry someone else. 

Homeless yet hopeful 

Sheetal’s mother became mentally unstable after which she threw her daughter out of the house. She found support in her neighbor’s family who would force her to do all the household chores and beat her up. Tables turned soon enough when Sheetal found Kranti, an organization that works with children of sex workers in Mumbai.

As a child, she would see guys playing drums during Ganapati Visarjan and this fascinated her. She joined drum classes while in Kranti and chose drumming as a career. 

Golden present 

Hope crawled in after a few months when she bagged a scholarship for a year-long course in drums in US. After returning to India, Sheetal worked as a drum circle facilitator in Taal Inc Company. She went to UK for various shows. 

Sheetal wanted to do something for children from red light districts. She would go to various schools with her friends to conduct workshop for these kids. 

reksrubzhc9r225x7zbpgxehsrgvjllp.jpeg

Sheetal is now working in Bangalore with Make A Difference, a non-profit organization. She has sent her brother to an organization in Kolhapur for his education. Her mother has been admitted to rehab center of Kranti and she is getting better. 

“I could never imagine this life. I go for jamming sessions. I am learning a lot in MAD and preparing myself to do work for Kranti. Right now, I am just going with the flow,” Sheetal concludes.

It is people like Sheetal who give us hope that no matter whatever happens you must never give up in life. She is a true hero. We wish her all the best for her future endeavors. 

2005 में जब अलका की शादी हो रही थी तब पूरा घर खुशियां मनाने के बजाय पूरी तरह से उदासी में डूबा हुआ था l उसके बड़े भाई ने इस दिन के लिए ढेर सारे मनसूबे बाँध रखे थे, तब से जब से उसे नौकरी मिली थी l पर आज इस शुभ दिन को  देखने के लिए वह मौजूद नहीं था l इस घर के सबसे बड़े बेटे सत्येन्द्र दुबे को भरी दोपहरी में उस काम के लिए मार डाला गया, जिसे करने पर लोगों को मेडल और वाह-वाही मिलनी चाहिए थी l 

सत्येन्द्र एक साधारण परिवार से थे और अपनी मेहनत के बल पर ही उन्होंने अपने जीवन में उन्नति और स्थिरता प्राप्त की थी l उन्हें जब भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण में नौकरी हासिल हुई, तब उन्हें बेहद ख़ुशी हुई l परंतु यहाँ जो भ्रष्टाचार का माहौल था उसे देखकर सत्येन्द्र बहुत हैरान हो गए l उन्होंने इस सड़ी-गली व्यवस्था को ख़त्म करने की बहुत कोशिश की पर सफल नहीं हो पाए l अंत में उन्होंने अपने प्रधानमंत्री जी को खत लिखा, परंतु इसके एवज में अपने सर पर गोली का तोहफ़ा मिला l 

67lpvb85je4nb9cgcvnhgpsjtsbscry3.jpg

पांच लड़कियों और दो लड़कों के भरे-पूरे परिवार के सबसे बड़े बेटे थे सत्येन्द्र l उनका जन्म बिहार प्रान्त के सिवान जिले के शाहपुर गांव में हुआ था l अपने पिता को शक्कर की मिल में रात-दिन काम करते हुए देखा था उन्होंने l और तभी उन्होंने यह निश्चय किया था कि लगातार चल रही इस संघर्ष की जिंदगी से छुटकारा दिलाएंगे l कड़ी मेहनत और अपने नैतिक सिद्धांतों की बदौलत सत्येन्द्र अपने परिवार के तारण-हार बने l वे बचपन से ही बहुत ही प्रतिभाशाली विद्यार्थी थे और अपने पिता को यह विश्वास दिलाया था कि वह अपनी बहन की शादी अच्छे से करेंगे l 

सत्येन्द्र के प्रयासों का फल मिला और उनका दाख़िला देश के प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान आईआईटी कानपुर में सिविल इंजीनियरिंग के लिए हो गया l 1994 में उन्होंने अपना ग्रेजुएशन ऑनर्स के साथ पूरा किया l उसके पश्चात् उन्होंने काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा किया l 2002 में उन्हें भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण में परियोजना निदेशक का पद मिला l उनका पूरा परिवार अपने इस लाडले पर गर्व कर रहा था और सत्येन्द्र अपने काम के लिए बहुत संजीदा थे l 

समय ने तब पलटवार किया जब उन्हें स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना में काम करने का मौका मिला l इस परियोजना में काम करते वक्त उन्हें बड़े स्तर पर हो रहे भ्रष्टाचार और वित्तीय अनियमितताओं का पता चला l विभाग के ठेकेदारों और इंजीनियरों की साठ-गाँठ से भ्रष्टाचार का धंधा खूब फल-फूल रहा था l सत्येन्द्र ने अपने विभाग के कुछ भ्रष्ट अधिकारियों और इंजीनियरों के खिलाफ कार्यवाही की और उन्हें निलंबित किया l 

भ्रष्टाचार  के खिलाफ आवाज़ उठाने का नतीजा यह हुआ कि उनका ट्रांसफर झारखण्ड के कोडरमा से बिहार के गया कर दिया गया l देश की रीढ़ की हड्डियों को खोखला करने वालों को सत्येन्द्र छोड़ने वाले नहीं थे और वे और भी मजबूती के साथ इसके खिलाफ खड़े हुए l उन्होंने यह महसूस किया कि वे अकेले इसे खत्म नहीं कर पाएंगे इसलिए उन्होंने देश के तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी के नाम एक खत लिखा और उनसे यह विनती भी कि उनका नाम गोपनीय रखा जाये l क्योंकि उनको पता था कि अगर जरा सी भनक भी उन लोगों को लग जाएगी तो उन्हें अपना जीवन खोना पड़ सकता है l 

fqqka8fneg78k4rmcb36qtukeeuawitj.jpeg

फोटो साभार: गूगल इमेज

पर बाद में देखा गया कि सत्येन्द्र के अनुरोध के बावजूद कार्यालय के अधिकारियों ने उस पत्र को सत्येन्द्र के नाम के साथ अलग-अलग विभागों में पहुंचाया l नतीजा यह हुआ कि उनके नाम की भनक माफ़िया वालों को लग गई l एक दिन जब सत्येन्द्र एक विवाह समारोह से रिक्शे से लौट रहे थे तभी उन्हें गोली मार दी गई l सच की लड़ाई में उन्हें अपने प्राण गंवाने पड़े l यह उन सभी के मुँह पर एक करारा तमाचा था जो लोग नैतिकता के पथ पर आगे बढ़ना तो चाहते हैं पर अपना जेब भर कर l 

दुर्भाग्यवश सीबीआई ने इस केस की तहकीकात की और बताया कि सत्येन्द्र इसलिए मारे गए क्योंकि वे एक डकैती को रोक रहे थे l सत्येन्द्र की हत्या से राजनीतिक और सामाजिक स्तर पर एक भूचाल आ गया l 

शाहपुर गांव स्थित उस फुटबॉल प्लेग्राउंड में उनका अंतिम संस्कार किया गया जहाँ कभी सत्येन्द्र अपने दोस्तों के साथ खेला करते थे l उनके लिए माफ़िया के साथ हाथ मिला कर करोड़ों रुपये कमाने का विकल्प आसान था l पर उन्होंने सत्य, न्याय और पारदर्शिता का पक्ष लेना बेहतर समझा l उन्हें उम्मीद थी कि एक दिन देश ऐसा बनेगा जो हर टैक्स देने वाले ईमानदार नागरिक के योगदान की क़द्र करेगा, किन्तु अंधेरों के सौदागरों ने उन्हें खामोश कर दिया l भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में उनका नाम एक प्रकाश स्तम्भ की तरह भले लोगों को राह दिखाता रहेगा l

Info
Organization Name:
KenFolios
Category:
Membership

Administrator

My Posts