KenFolios

KenFolios can be best defined as a social entrepreneurship project where every initiative is a step toward positive social change. Our evolution as a media house began in 2013 and we have come a long way since then.

Headquartered in New Delhi, our publishing wing is aimed at instilling hope and motivation in individuals while our community of changemakers and influencers works for a common goal - to cause change and make this a better society for all.

Our mission is to impact the world around us with a problem-solving approach and bring together knowledge and people.

Friends
Empty
Profile Feed

The beauty of nature experienced in the Tibetan Himalayan peaks urge us to create our escapades, omitting our daily commute of the urban life. These peaks covered with white quilts are shared by the region of Ladakh, the best place to find peace and tranquility. The residents of Ladakh are a major reason to find nature in its indigenous form. But we never take into account the problems they face.

Apart from all the prevalent problems, water scarcity was the biggest one. However, it did not last for long as Chewang Norphel Came to rescue with an impulsive idea, earning him the title ofLadakh’s Ice Man.

aasyixjzuacjssdeslngepfwa3psxtgp.jpg

Emphasizing the problem

Water scarcity is an acute problem in Ladakh, where 80 percent of the population relies on farming. The region receives very low rainfall (about 50 mm a year on average) and the locals have to seamlessly rely on the water from melting glaciers during the summers to irrigate their fields. However, global warming had led to the melting of glaciers.

On his way to work on a bitingly cold winter’s day, Chewang spotted a pipe of running water outside his home which had flown into a nearby pit and was frozen there. A small stream of water had frozen solid under the shade of a group of poplar trees. The stream flowed normally elsewhere in the area. Chewang, a civil engineer, realized that slowing down a stream could help diverting it into valleys, which will stay frozen for longer seasons of the year, thereby creating an artificial glacier.

Work of an artificial glacier

The artificial glacier, as conceptualized by Chewang, is an intricate network of water channels and dams along the upper slope of a valley. During the months of November and December, water is diverted towards the shady side of the mountain where it can slow down and freeze (in a way that quickly flowing water will not). At each dip in the terrain, retaining walls are built that further slows down the flow of water (acting like mini-dams) and facilitate its freezing in the form of steps. The entire mountain slope then becomes an artificial glacier, and efforts are made to trap every drop of water in the winter, which would otherwise be wasted. 

The artificial glacier is located between a village and a natural glacier at different altitudes to ensure that the water melts at different times. The artificial glacier located closest to the village or at the lowest altitude melts first, and provides irrigation water at the crucial sowing time in the months of April and May. As the temperature rises, the next glacier, which is located at a higher altitude, melts. Since this process of glaciers melting at different times continues, there is assured irrigation for the fields below. 

Scaled, Mapped and Achieved

After researching on the situation, Chewang was ready with the remedy. With his hard work and motivation, he built 12 artificial glaciers, along with his team of volunteers, which has now significantly recharged groundwater in that area alongside providing water to remote villages for irrigation. The distance spanned by these glaciers vary from 500 feet to two km, and serve over 100 villages in the region.

A simple and low-cost project, Chewang’s artificial glaciers have convinced even the most skeptical farmers in Ladakh. Looking back, he says that the most challenging part of his activity was to make people understand about the new concept. “Everybody would laugh at me and my purposes and the way I ventured this project with my speed and dedication. Thank God, in the end it was a big success, and people approved of it.”

Chewang has received many prestigious awards including the Padma Shri in 2015. In 2012, award-winning documentary filmmaker Aarti Shrivastava directed a short film on his life namedWhite Knight.The film was screened in many festivals in India and abroad, bringing recognition to the man who sees no divinity in his achievements and owes his acts for the betterment of the society. 

एक साधारण दिनचर्या, साधारण व्यक्तित्व, साधारण जिंदगी, साधारण परिवार, साधारण सी नौकरी करने वाली एक महिला को पद्मश्री सम्मान मिलना अपने आप में असाधारण इसलिए है कि कितने ही लोग असफलता को साधारण जीवन से जोड़ कर हाथ पर हाथ धर के बैठ जाते हैं। यह असाधारण व्यक्तित्व हैं नेपाल की ‘’अनुराधा कोइराला’’ जिन्हें प्यार से सभी दीदी बुलाते हैं। क्या अप्रतिम कार्य किया दीदी ने भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री सम्मान दिया। आप भी जानेंगे तो श्रद्धा से नतमस्तक हो जाएंगे। 12000 से ज्यादा लड़कियों की जिंदगी बचाने वाली अनुराधा ने मानव तस्करी के खिलाफ आवाज उठा कर एक ऐसी लड़ाई का आगाज किया जो आज बहुत बड़ा रुप ले चुकी है। 

उनके इस संघर्ष की शुरुआत बहुत छोटे से दृश्य से हुई। वह रोज पशुपतिनाथ मंदिर के दर्शन को जाते हुए देखते थीं कि कुछ जवान हृष्ट-पुष्ट महिलाएं भीख मांग रही होती थी। उन्होंने जब उनके बारे में जानना चाहा तो पता चला कि प्रत्येक औरत के साथ घरेलू हिंसा, बलात्कार, यौन शोषण, खरीद फरोख्त जैसी घटनाएं घट चुकी हैं इसलिए वह भीख मांगने को मजबूर हैं। पेशे से शिक्षिका अनुराधा का दिल उनकी कहानी सुनकर रो उठा। अपनी बचत की गई कमाई में से उन्होंने 8 औरतों को एक-एक हजार रुपए देकर इस शर्त पर सड़क पर दुकानें लगवाई कि वह प्रतिदिन उन्हें 2 रुपए वापस करेंगी ताकि अनुराधा अपनी इस मदद को अन्य औरतों के लिए जारी रख सकें। 

vhy3ljvpjxwkkjbwqwcjgrfalrqfqbwy.jpg 

इन महिलाओं ने जब अनुराधा से अपनी लड़कियों के लिए मदद मांगी तो उन्होंने स्वयं के पास कुछ नहीं होते हुए भी उधार के पैसों से दो कमरे किराए पर लेकर उनकी बेटियों के खाने, रहने, दवाई और शिक्षा की व्यवस्था की। अनुभवी लोगों की सलाह पर अनुराधा ने एक एनजीओ बनाकर उसे रजिस्टर्ड करवाया जिसका नाम रखा ‘’माइती’’ यानि लड़कियों का घर ‘’मायका’’। 

समय के साथ-साथ अनुराधा ने मुख्यत: औरतों के खिलाफ हिंसा और लड़कियों की खरीद-फरोख्त के खिलाफ अपनी लड़ाई लड़ने के लिए गांव-गांव जाना शुरू किया। जो सच उनके सामने आया वह वाकई चौंकाने वाला था कुछ गांव तो लड़कियों की गैरकानूनी तस्‍करी के चलते लड़कियों से रहित हो चुके थे। घरेलू नौकरी और हस्तांतरण के नाम पर लड़कियों के शारीरिक और मानसिक शोषण के खिलाफ इस लड़ाई में कितने ही दोषियों को जेल की सलाखों के पीछे भी जाना पड़ा। अनुराधा जिस सफर पर निकल पड़ी थी वह चाहे खतरों से भरा था लेकिन उनके इरादे इतने नेक थे कि कारवां जुड़ता चला गया। 

अनुराधा अब तक 12 हजार लड़कियों को सेक्स के अवैध व्यापार से बचा चुकी हैं। इसी के साथ ही उन्होंने 45 हजार से ज्यादा महिलाओं और बच्चों को भारत और नेपाल सीमा में होने वाले तस्करी से बचाया है। माइती नेपाल' में उन सभी औरतों को जगह मिली है जिन्हें किसी ना किसी कारण से समाज ने बेदखल कर दिया है। इन महिलाओं को यहां सिलाई-बुनाई जैसी चीजें भी करनी सिखाई जाती हैं जिससे वह आत्मनिर्भर बन सकें।

hkstvvzbqcu6smtnaz9lfqjruhhilzvf.jpg

उनके योगदान को देखते हुए दुनिया के कई देशों ने उनकी मदद की और उन्हें सम्मान दिया। अमेरिका में उन्हें 2010 में 'सीएनएन हीरो अवार्ड' और साथ में 60 लाख रुपए से ज्यादा की मदद दी गई। उन्हें वैश्विक स्तर पर कई प्रतिष्ठित सम्मान से नवाजा जा चुका है।

समाज में समस्याएं तो सैकड़ों हैं लेकिन हर समस्या का समाधानकर्ता अनुराधा कोइराला जैसा हो तो नवीन समाज की सुखद कल्‍पना की जा सकती है।

India remains one of the 45 developing countries with less than fifty percent sanitation coverage. To eliminate the problem of open defecation, public toilets were built as a part of Swachh Bharat Abhiyan. However, many of those have overflowing commodes, stained urinals, blocked pipes, and non-working taps.

But long before the seeds of Swachh Bharat were sown, a US-based software engineer left his cushy job to provide safe and reliable community toilet facilities for the urban slum-dwelling poor in India. Swapnil Chaturvedi, also known as the Poop Guy has blessed more than 1.5 lakh people across 100 slums with his initiative.

40-year-old Swapnil completed his engineering from Bhilai Institute of Technology, Chhattisgarh, and moved to the US to work in 2001. Few years later, after his daughter’s birth, he came to India to visit his family. He was surprised to see the condition of the urban poor, which changed his life completely.

rs5fbnlaztnwszd2mg7wbl7pkdbxieny.jpg

“On one hand, there were big shopping malls and on the other there were these slums all over the city (with kids defecating in the open),” Swapnil says. His blindfolds were removed and he wanted to do something for these people. So he gave up his US residency in 2011 and moved back to India.

Swapnil surveyed different slums in Delhi, Bangalore, Kolkata, Gurgaon, and Raipur to understand the approach of slum dwellers towards community toilets. That was when he realized that more than building toilets, it was important to inculcate hygienic user habits as well as create a sense of ownership for the space. Thus, he introduced the Loo Rewards programs.

In 2013, Swapnil requested the Pune Municipal Corporation to give one community toilet for operation and maintenance on a pilot basis. The project clicked and he started taking over community toilets in different parts of the city with Rs 20 lakh as investment.

Samagra Sandas was designed to make toilets affordable so that the urban poor could meet their health and emergency expenses in need. In order to attract people to the space, Swapnil’s team ensured user-friendly designs and offered rewards like mobile recharge, loyalty programs, health insurance, etc., for the users. Gradually, the usage increased manifold and within a few months of its launch, more than half of the community started paying for usage, making the toilets self-sustainable.

Today, more than 1.5 lakh people across 100 slums are using over 3000 community toilets in the city daily, as part of Samagra Sandas initiative.

Swapnil aims to expand Samagra Sandas to 10 cities with a footfall of more than two million users in the next five years, thereby becoming the largest sanitation enterprise. His ultimate goal is vast and beyond, in the field of energy access, environment, nutrition, education and health.

Swapnil has brought a big change in the lives of so many people. He is eliminating the problems of open defecation and dirty public toilets gradually, solving the health problems. His journey is path breaking in the field of sanitation.

Having to choose between a job which puts you in a financially secured position and a job you have always wanted to do is a tough choice. Sometimes, a stable lifestyle trumps following a career of your choice because it comes with a lot of challenges we might not be ready to face.

Those who are daring enough to follow their hearts, however, stands out as a great inspiration for others! For so long, Mahesh Kavalaga did not acknowledge his desire of being a farmer and accepted a job offer in a software company in 2007. The reasons behind this move could be many. The fact that he was born in a family whose main source of income was farming, he witnessed the hardships of a farmer first hand.

Despite having more than 50 percent of population earning their livelihood via farming in our country, condition of a farmer is not very pleasing. Crop failure puts them in a position where they have to take loans. If they fail to pay this money, it often leads to horrible circumstances. Even if they are successful enough to get a good harvest, the prices at which they sell their crops is abysmal.

Needless to say, farming, then, emerges as a double edged sword. But Mahesh decided to not only get into this occupation but also bring a positive change in the farming ways. His aim is to grow 100 percent organic crops where the fertilizers or other market products have no role to play. He talks more about his bringing back the good, old (and, most importantly, healthy) times where everything was natural and cow-centric farming resulted in healthy lifestyle.

“My aim is to make my farm 100 percent self-independent so that nothing is purchased from the market. Unfortunately majority of Indian farms are solely dependent on the market for growing food be it seeds, fertilizer, or water; therefore the expenses increase day by day and farmers get plunged in debts with mounting interest rates. Finally, the end results are fatal,” Mahesh says.

About the preliminary hurdles he faces, he says, “Initially, I didn’t have sufficient cows to feed the soil with farming inputs so I bought most of the inputs from Bangalore located ‘Desi Cows for Better India’. However, now I have enough desi cows to take care of farming input requirements for the entire farm. One good thing, in our village we only have desi cows namely khillari, deoni and jawari.”

To make this dream of his a reality and to ensure that he is not putting the comforts of his family in a jeopardy, Mahesh works as an employ from Monday to Friday and goes on to willful his dream during weekends by travelling from than 600 km from Bangalore to Kawlaga and back!

Of course, he is a normal human being just like you and me and has 24 hours in a day but the way he is utilizing this time makes all the difference. He works seven days a week without any complain and the thought of not having a day off doesn’t deter him from his path to success. If anything, it acts as a driving force which helps him accomplish his goals.

Cheers to Mahesh and likes of him who goes that extra mile so that they can give life to their dreams.

“ये चढाई पाँव क्या चढ़ते इरादों ने चढ़ी है”; कवि दुष्यंत कुमार की यह  पंक्ति शेरिल-डेनिस की आज की सफलता-गाथा पर सौ फीसदी सटीक बैठती है l हर किसी को अपने सपनों को साकार देखने की इच्छा होती है, पर यह आसान नहीं होता l अपनी सहजता-वृत से बाहर निकलकर कुछ करना और बड़ा रिस्क उठाना सबके वश की बात नहीं होतीl भाग्यशाली होते हैं वे लोग जिन्हें अन्त: प्रेरणा मिलती है अपने सपनों को पूरा करने की l जब चेन्नई बेस्ड शेरिल हफ्टन की बेटी ने उन्हें उनकी नौकरी छोड़ने को कहा  तब उन्हें लगा कि उन्हें अपने पैर में कुल्हाड़ी मारने को कहा जा रहा हो l तब वह नहीं जानती थी कि इस चुनौती से गुज़रकर न केवल 40 लाख टर्न-ओवर का कारोबार चलेगा बल्कि गरीब महिलाओं की जिंदगी सुधारने का अवसर भी मिलेगा l 

2008  में जब उनकी बेटी डेनिस ने अपना एमबीए पूरा किया और खुद का कुछ अपना करने की ठानी l पर उन्हें यकीन नहीं था कि वह अकेले कुछ कर पाएंगी; तब उन्होंने अपनी माता पर नौकरी छोड़ने के लिए जोर दिया l यह शेरिल को मूर्खतापूर्ण निर्णय लग रहा था l शेरिल एक गवर्नमेंट स्कूल में सोलह सालों से नौकरी कर रही थींl उनके कन्धों पर बहुत सारी जिम्मेदारियों का बोझ था l अपनी कम तनख्वाह में उन्हें अपने माता-पिता, इन-लॉज़ और दो बच्चों की जिम्मेदारी उठानी पड़ती थी l शेरिल जोखिम उठाने के लिए ही बनी थी पर जोखिम उठाने की क्षमता उम्र के साथ कुछ कम हो गई थी l

x9gvbntt5hmuaxskmf2jh6ey3rekpukm.jpg

पर डेनिश जानती थी कि सुनहरा भविष्य उनके लिए प्रतीक्षा कर रहा है, वह तो सिर्फ कोशिश करने में लगी थी l डेनिश का आईडिया था कि पर्यावरण के अनुकूल सामग्री से डिस्पोजेबल नैपकिन और कपड़े बनाये जाएं l वह रात-रात जाग कर उनके डिजाईन पर काम करती थी l वह अपने सपनों को पूरा करने के लिए इंतजार नहीं कर सकती थी l पर कुछ ऐसा चौकाने वाली घटना हुई कि स्थिति उनके पक्ष में  बदल गई l 

डायबिटीज की वजह से लगभग दो दशकों से उनके यहाँ काम कर रही प्रेरणा नाम की महिला का एक पैर काटना पड़ा था l उसके दामाद ने उसे  बोझ समझ घर से निकाल दिया था l और वह शेरिल से मदद मांगने आयी थी l उस वाकिये ने शेरिल को हिला कर रख दिया था l और तब डेनिस की सलाह पर कुछ करने की संभावना का मूल्यांकन शेरिल ने शुरू कर दियाl और तब उन्होंने एक दिन डेनिश से कह दिया कि वह अपनी नौकरी छोड़ने को और उसके कहे बिज़नेस को अपनाने के लिए अब तैयार हैं l 

अपनी माता का फैसला आने के बाद डेनिश ने आगे बढ़ने का निश्चय किया और अपनी माता को विश्वास दिलाया कि वह प्रेरणा जैसे लोगों के भविष्य को सुधारने के लिए भी प्रयास करेगी l माँ-बेटी दोनों के पास शुरुआत करने के लिए केवल 500 रूपये ही थे l लेकिन उसके उत्साह, आत्मविश्वास और मेहनत में हर कमी को भर देने का जज़्बा थाl उन्होंने उस पैसे से कुछ कपड़े ख़रीदे और एक सिलाई मशीन उन्होंने इन्सटॉलमेंट में ले लिया l उन्होंने  चेन्नई के ब्यूटी-पार्लर्स में उपयोग होने वाले ब्रा, पैंटीज, नैपकिन्स के डिस्पोजेबल संस्करण के उत्पादन की शुरुआत कर दी l 

शुरुआत में कोई भी उनके प्रॉडक्ट को देखता तक नहीं था क्योंकि पार्लर में वही पुराना चलन था जिसमें कपड़ों का उपयोग किया जाता था l परन्तु शेरिल और डेनिश ने अपना भरोसा नहीं खोया l हर पार्लर में घूम-घूम कर वे अपने प्रॉडक्ट का प्रचार करते ताकि कोई तो उनके प्रॉडक्ट को अपने पार्लर में जगह दे l अंत में अलवारपेट में स्थित एक पार्लर उनका सामान खरीदने के लिए तैयार हो गया और उन्हें सिर्फ 5000 रुपये ही मिलेl वे बेहद खुश थे क्योंकि उनका मूल-धन  पहली बार में ही वापस आ चुका था l 

दो महिलाएं बिना किसी के मदद के इंटरप्रेन्योर बन गई थी l भारतीय युवा शक्ति ट्रस्ट का उन्हें सहयोग मिला और उनकी मदद से उन्हें 2.5 लाख का लोन मिला l हौसले के संचार के लिए इतना धन उनकी कंपनी ड्रीम वीवर्स  के लिए महत्वपूर्ण साबित हुआ l तब उन्होंने तीन और सिलाई मशीन खरीद ली l प्रेरणा का जीवन भी बदल रहा था और इस परिवर्तन को देख शेरिल और डेनिश ने यह तय किया कि वह और भी ऐसी महिलाओं को अपने यहाँ काम पर रखेंगी l 

उनका दूसरा ग्राहक हिंदुस्तान लीवर लिमिटेड था l इस जुड़ाव से उन्हें अपने काम के लिए बहुत सारा नैतिक बल मिला और बिज़नेस में लाभ भी l आज उनके बहुत सारे ग्राहक हैं और हर महीने लाखों का आर्डर उन्हें मिलता है l डिस्पोजेबल सामान के आज वे एक प्रमुख उत्पादक बन चुके हैं और इनके बनाये डिस्पोजेबल सामान  जैसे माउथ मास्क, डिस्पोजेबल टॉवेल्स, नैपकिन, पेपर बैग्स, हेड कैप्स, एप्रन, गाउन और लांड्री बैग का उपयोग स्पा में और ब्यूटी पार्लर में प्रचुर मात्रा में होता है l  

पर शेरिल को इसी बात से संतोष है कि उन्होंने लगभग दो दर्जन महिलाओं को आर्थिक रूप से अपने पैरों पर खड़ा करने में कामयाबी हासिल की है l उनका बिज़नेस अब दुबई, सिंगापुर, मलेशिया, थाईलैंड और ऑस्ट्रेलिया तक फैल चुका है l माँ-बेटी की यह जोड़ी आज उन सभी के लिए एक मिसाल बन चुकी हैं जो आर्थिक रूप से स्वतंत्र होना चाहतीं हैं और अपना भाग्य-विधाता खुद बनना चाहती हैं l 

There are times when a wonderful idea strikes your mind. An idea, which has the ability to change many lives. However, it takes a lot of courage and hard work to leave everything behind and bring that idea to life. Only a handful of people can do that.

Prof. Satya Mahapatra had everything- a perfect family, dream job, and a cushy life. But one day, he left everything behind to serve the society. When there was no proper medical facility in the state of Orissa, this man did something that deserves an applause.

ju8j7abvczd6t68bnkts2un9nuidgcex.png

A professor in Bhopal Medical College, Satya’s life changes when he was offered a job from the United States in 1995. But he did not have any idea of what was coming after. When one of his close relatives in Orissa developed a stroke, which left him paralyzed, Satya was asked to go and help him. “A stroke patient requires intensive care for a very long time and I could not do that alone. I felt very bad when I was informed that there is no proper medical facility available in Orissa,” says Satya in an interview with KenFolios.

He then went to his senior seeking suggestion, who said, “How would America develop with one Satya Mahapatra? You should not go there when your own people are suffering.” This enlightened Satya’s conscience and he decided to serve his compatriots with all of his knowledge and experience.

After reaching Orissa, Satya observed the lack of facilities for disabled people. “I was witnessing that as a professional for the past 35 years. It angered me because we were unable to provide the facilities at the right time,” he tells. He decided to establish a facility for every kind of disability, create suitable ecosystem where the person regains the functional skills and become independent.

Satya was working hard to execute his plan. However, he was unaware of the hurdles in his journey. “Everybody around me thought that I have gone insane and am under certain influence of some graha dosha. The respect I commanded in the medical college was replaced by laughter and mockery. People would say, Arey yeh toh goonge-behron ki baat kar k bheekh maangega (He will beg on the name of deaf and mute people)”, he recalls.

Satya discussed his plan with a handful of people but was unable to pool in sufficient money. He just had Rs 3000 for a project that required Rs 3 crore. The banks rejected to support the idea of disability rehabilitation and the government denied to give enough money for the infrastructure.

Finally, in 1995 their clinical work began when a god Samaritan helped them with an unused office space. Gradually people started volunteering without asking for salary and the patients who availed services started paying small amount. They kept on piling up their earnings and moved forward.

But what Satya thought would take a year or two, took ten years. After so much effort, in 2004, Institute of Health Sciences was established in Bhubaneshwar that took two more years to become fully functional (2006). Today, Institute of Health Sciences is one of the largest therapeutic service provider in the nation. They treat children with autism, mental retardation, cerebral palsy, seizure disorders etc., to make them a part of the mainstream.

Satya’s story displays what a person can achieve with constant hard work and determination to do something. He is changing the lives of so many people. Today, the result of his efforts is a center of hope for people with disabilities.

जहाँ बिज़नेस का अर्थ अमीरों की जेब से कैश निकाल लेना माना जाता रहा है, वहीँ इस एक व्यक्ति ने इस मिथक को तोड़ दिया कि  ग़रीब न तो टेक्नोलॉजी में रूचि रखता है और न ही टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल उसके बूते की बात होती है l    

रमन मैग्सेसे अवार्ड जीतने वाले हरीश हांडे ने अपने सोलर इलेक्ट्रिक लाइट कंपनी, जो सेलको के नाम से जानी जाती है, के द्वारा गरीबी से त्रस्त लोगों के लिए सोलर-पावर की लाइट की व्यवस्था करते हैं l 49 वर्षीय हांडे आज के विद्यार्थियों के लिए प्रेरणा बन गए हैंl वे चाहते हैं कि और भी बहुत सारे लोग उनसे जुड़ें ताकि वे समाज के सभी वर्गों को विकास की छतरी के  नीचे ला सकें l 

zt24efm2hetssycmmjjzydgjlw5emmv7.jpg

हरीश कहते हैं कि अपने जीवन का सबसे खूबसूरत पाठ उन्होंने एक खोमचे वाले से सीखा और वह यह कि 300 रूपये महीना भारी लगता है किन्तु 10 रूपये प्रतिदिन तो कमाया जा सकता हैl  

1995 में स्थापित बैंगलोर स्थित सेलको कंपनी देश के सबसे बड़े आविष्कार-उन्मुख कंपनियों में से एक है l उनकी एक सबसे बड़ी परियोजना “लाइट फॉर एजुकेशन” में कर्नाटक के लगभग 30,000 बच्चों शामिल किये गए हैं l यह कंपनी सोलर पेनल्स को स्कूल के अहाते में इनस्टॉल करते हैं और बैटरी को, जिसका वजन एक टिफ़िन डब्बे के बराबर है, बच्चों को दिया जाता l बच्चे जब स्कूल आते तब वे बैटरीज को चार्ज करते l अगर वे स्कूल नहीं आते तो उनके घर उस दिन अँधेरा होता l 

“हमने यह आईडिया स्कूल के मध्यान भोजन से चुराया है l चुराया और उसे नए रूप में दुनिया के सामने लेकर आये l”

इनकी टीम ने सोलर-फायर्ड हेडलैंप बनाया है जिसका उपयोग दाई का काम करने वाली, फूल तोड़ने वाले और रेशम के कीड़े पालने वाले गांव के लोग करते हैं l और इन्होंने सोलर-लिट् सिलाई मशीन का भी ईजाद किया है l उन्होंने ऐसे और भी बहुत से नए प्रयोग किये हैं l सेलको लाखों लोगों तक पहुंच कर 1,50,000 घरों, माइक्रो-इंटरप्राइसेस और सामुदायिक सुविधाओं के लिए सोलर लाइट इनस्टॉल कर रहे हैं l विनम्रता से भरे हुए हांडे सफलता के लिए अपने कर्मचारियों को जिम्मेदार मानते हैं l 

“हमारी फिलॉसॉफी एक ओपन सोर्स संगठन बनाने की है और हम आशा करते हैं कि दूसरे युवाओं के लिए यह एक मिसाल बने और वे उसे दोहराएं l न केवल दोहराएं बल्कि और भी बेहतर करें l”

आईआईटी खड़गपुर से एनर्जी इंजीनियरिंग की डिग्री लेने के बाद हांडे अपनी मास्टर डिग्री के लिए यूनिवर्सिटी ऑफ़ मेसाचुसेट्स गए और रूरल इलेक्ट्रिफिकेशन में डॉक्टरेट किया l इस शिक्षा के बल पर वे अमेरिका में ही बेहद शानदार और आराम से अपना जीवन बिता सकते थे पर उन्होंने भारत लौट कर ज़मीनी स्तर पर काम करने का का निश्चय किया l

“ग़रीबों की सोच बेहद ज़मीनी होती है, यह बड़े दुःख की बात है कि उन्हें हितग्राही माना जाता रहा है बजाय इसके कि  उन्हें भागीदार की तरह देखा जाए" 

170 कर्मचारियों के साथ सेलको ने गांव के परिवार के उत्थान के लिए बहुत कुछ किया है l गांव के लोग महीने में 2000-3000 रूपये कमाते हैं और अपने घरों को रोशन करने के लिए 100-150 रूपये केरोसिन और कैंडल पर खर्च कर जाते हैं l सेलको उनके लिए सोलर लाइट, वाटर हीटर और कुकिंग स्टोव किश्तों में दिलाते हैं और उनकी किश्तें ग्रामीण बैंक में जमा करते हैं l 

pxhfvfmduxqcbzuxybcuuwqnjfvavzgh.jpg

“गरीब लोग हमेशा जीवन को बेहतर बनाने वाली सुविधाओं के लिए पैसे खर्च करने को हमेशा तैयार रहते हैं l”

आज के युवा और पुराने लोग चीजों के बेहतर न होने के लिए  सरकार को जिम्मेदार मानते हैं और उनकी आलोचना करते हैं l पर एक व्यक्ति  ऐसे भी हैं जिन्होंने समस्याओं के उपाय के लिए स्वयं काम किया l अपने पीएचडी ग्रांट के 1000 रूपये से शुरुआत कर उन्होंने उन असंख्य लोगों की ज़िन्दगी पर गहरा प्रभाव छोड़ा है जो 6 बजे शाम  के बाद अँधेरों में रहने को मजबूर हुआ करते थे l

It is very easy to dream but it takes a huge amount of hard work and determination to chase them. Many people give up on their dreams just because they do not have the capacity and patience to follow them, but there are a few who brave odds and succeed.

Anila Jyothi Reddy is one of them. Smitten by poverty, Jyothi’s father put her in an orphanage telling that she was motherless. She spent her entire childhood in the orphanage. But those little eyes and innocent mind had big dreams. Jyothi did not know what was going to come her way. all she knew was she was not going to give up.

jxhwwu5yp8cbec8ht3w69pjaybx55pue.jpg

Jyothi got married at a young age of 16 to a man who was 28-year-old. Marrying an older man was quite customary in those days and Jyothi did not like it. Her husband was a farmer with little education. For the first few years of her marriage, from 1985 to 1990, Jyothi toiled in the field, working hard, earning just Rs 5 per day.

She became a mother when she was just 17 and delivered her second baby the next year. Jyothi would do all the household chores, take care of both her daughters, and work on the field. Since her family was not financially stable, she had to run the house with meagre resources.

She did not even have enough money to buy medicines or toys for her children. Exasperated from her situation, Jyothi wanted to untangle herself from all the challenges.

She would work hard in the fields to make ends meet. Jyothi did not want her children to be illiterate and wanted them to get the best of education. Since she could not afford a good English medium school, she sent her children to Telugu medium school where the fees was Rs 25 per month that she would pay from her hard earned money.

Gradually, Jyothi began overcoming all the restrictions and started teaching people in the nearby farms. Eventually, she got recognition and also a government job, where she had to visit nearby villages in Warangal to conduct stitching classes for women. Jyothi started earning Rs 120 per month from her new job.

Jyothi wanted to study MA in English at Kakatiya University in Warangal, which could not happen. She always dreamt of a nameplate outside her house reading Dr Anila Jyothi Reddy. But that was a far-fetched dream.

It was when Jyothi met her NRI cousin who inspired her and told her that she can do big in life. That’s when she decided to go to America. Without wasting any time, Jyothi enrolled for computer software classes. She would commute to Hyderabad daily because her husband did not like the idea of her living away from home. She was greedy to go to the US to get a better life for her children.

Finally, Jyothi got the visa for the US with the help of her cousin and she headed to New Jersey. To sustain herself financially in the new country, she took up odd jobs. She worked as a sales girl, room service assistant, babysitter, gas station attendant, and software recruiter.

But she never gave up on her dreams of becoming an entrepreneur. She would walk three miles to work as she did not have enough money to pay for traveling. Finally, she started her own company.

6cmiet3sr4ajw7tm9unk4nfrutvbrter.jpg

Today, Jyothi is the CEO of a $15 million dollar IT company Key Software Solutions based in Phoenix, Arizona. She has six houses in the US and two in India and has everything she had to compromise with as a child.

Even though Jyothi is settled in the US, she never fails to visit India on August 29 every year, which is her birthday. She visits orphanages and gifts the children with goodies, while remembering her past.

Beyond everything, Jyothi is one strong woman who had the urge to chase her dreams against all odds. After conquering all challenges, she has proved that nothing is impossible if you have the passion to do something. She is indeed a beacon of light to the youth in India.

आज हम जो कहानी लेकर आपके पास आये हैं, वह लगभग एक परी-कथा की तरह लगता हैl कुछ महिलाएं 80 रुपये उधार लेकर एक नई शुरुआत करती हैं और तब उन्हें खुद ही पता नहीं था कि वह अपने जीवन काल में 334 करोड़ का सालाना कारोबार का एक विशाल साम्राज्य खड़ा कर पायेंगी l 

ये सारी महिलायें  मुम्बई की गिरगाम में एक साथ रहती थीं और पति और बच्चों के चले जाने के बाद इनके पास बहुत सारा खाली बक्त बचता  था l अपने खाली समय का उपयोग करने के लिए इन्होंने यह काम शुरू किया l जसवंती बेन पोपट ने 15 मार्च, 1959 के उस दिन अपनी छह गृहणी सहेलियों के साथ मिलकर उधार के 80 रुपयों से दालें और मसाले खरीदा l उस सामान से गुंधे आटे से पहले ही दिन इन्होंने 80 पापड़ बनाये और पास ही के स्थानीय बाजार के दुकान पर इन पापड़ के चार पैकेट्स को बेचाl दुकानदार को पापड़ पसंद आये और उन्हें दूसरे दिन और पापड़ बनाने को कहा l पंद्रह दिनों के बाद वे उधार ली हुई उस राशि को लौटा पाने में सक्षम हो पाए और इस तरह लिज्जत पापड़ का जन्म हुआ l 

gvbsdbjnf6yakhvc9z4fzks9h5nbskkh.png

“पहले ही साल लिज्जत पापड़ की 6,196 रुपये की बिक्री हुई l तब उनका आत्मविश्वास बढ़ा और उन्होंने और महिलाओं को इसमें शामिल करने के लिए आमंत्रित किया l” 

उनका यह अनोखा मॉडल ही लिज्जत की ताकत बनी क्योंकि यहाँ जो महिलाएं काम करती थीं उन्हें इस काम में ख़ुशी मिलती थी l कुछ महिलाएं इकट्टी होकर सुबह से ही पापड़ के लिए आटा गूँधना शुरू कर देतीं थी l आटा गूंध जाने के बाद उसे थोड़ा-थोड़ा महिलाओं में वितरित कर दिया जाता था l  महिलायें अपने-अपने घर ले जाकर पापड़ बनातीं  और दूसरे दिन उन्हें सेंटर में जमा कर देतीं l नई मेंबर उन सब विधियों को देखतीं और अपने बड़ों से पापड़ बेलना सीखती थीं l 

आज लिज्जत के पास 40,000 मेंबर हैं जो लगभग 90 लाख पापड़ बेलती हैं l इस संस्था का हेड ऑफिस मुम्बई में है और इसे उन्हीं 21 महिलाओं की एक समिति चलाती है जिन्होंने इसे शुरू किया था l यह वह जगह है जहाँ हजारों महिलायें अपने पैरों पर खड़ी हैं और आर्थिक रूप से अपने परिवार की मदद भी कर रहीं हैं l यह महिलायें अपने इस काम को पसंद करती हैं क्योंकि इसमें घर में ही रहकर काम हो जाता है और उन्हें काम के लिए कहीं बाहर नहीं जाना पड़ता l यह महिलायें एक दिन में लगभग 400 -700 रुपये तक कमा लेतीं हैं और वह अपने बच्चों की पढ़ाई और शादी में सहयोग दे पाती हैं l 

“बहुत सी महिलाओं को अपनी खुद की ताकत बनते देख मुझे ऐसा लगता है कि मेरा जीवन सफल हो गया l मैं यह महसूस करती हूँ कि मेरी सारी कोशिशों का प्रति-फल मुझे मिल गया l”-जसवंती बेन पोपट 

लिज्जत के 63 सेंटर्स और 40 डिवीज़न हैं और लिज्जत अब घर-घर की पहचान बन चुका है l इसमें जो प्रॉफिट होता वह मैनेजमेंट द्वारा सारी महिलाओं में वितरित कर दिया जाता है l इसीलिए सभी महिलायें जो पापड़ बेलतीं हैं वह कंपनी की मालिक मानी जातीं हैं l 

fwvjuk3wvgnab789ejykl7qqnuyczv2v.jpg

आकाश छूती बिक्री और अपार सफलता के लिए जसवंती बेन कहतीं हैं कि “गुणवत्ता के लिए कभी भी समझौता नहीं होना चाहिए l महिलाओं में आटा वितरण के पहले मैं स्वयं ही पापड़ का आटा टेस्ट करती हूँ l अगर मुझे जरा भी लगता है  कि क्वालिटी में कुछ कमी है तो मैं पूरे आटे को ख़ारिज कर देती हूँ l गुणवत्ता नियंत्रण हमारी खासियत है और फिर स्वाद और स्वच्छता में निरंतरता हमारा उदेश्य है l हम “नो क्रेडिट”और “नो लॉस”के आधार पर काम करते हैं इसलिए नुकसान का सवाल कभी नहीं उठता है l” 

जसवंतीबेन की भावना असाधारण है और इरादा मजबूत भी, जो किसी को भी प्रेरित करने के लिए काफी है l वह रोज सुबह 4.30 बजे उठ जातीं और अपना काम 5.30 बजे से शुरू कर देती थींl उनका उद्देश्य स्पष्ट और बुलंद है कि  अपने मन की करें और ईमानदार मेहनत  में कोई कसर न छोड़ें l सहकारिता-इतिहास के आकाश में लिज्जत की गाथा किसी ध्रुव तारे का स्थान रखती हैl  

The younger generation, today, is coming up with brilliant entrepreneurial concepts in various sectors. From agriculture to dairy, we can witness new techniques being adopted; are not just going organic. These practices also bring good money to farmers.

With increasing awareness around animal abuse int the country, people are gradually cutting down on their consumption of animal products like meat and dairy items. Little by little, people are adopting veganism and house after house is replacing its paneer with soybean, and animal milk with vegan milk.

To promote the idea, 22-year-old animal lover Abhay Rangan started a vegan milk business, encouraging people to shun animal milk and eliminate animal cruelty. Abhay established his business along with his mother and today, the mother-son duo has made their place in the dairy industry.

xfpfa77eezxvan2nrcext2nxrmt9yrkj.png

Vegan milk is prepared from various fruits and flowers rather than extracting it from an animal. While most milk comes from factory farms, and is extracted from confined animals, vegan milk refrains from using cattle.

“I want people to use this milk so that we can stop animal abuse,” says Abhay in an interview with KenFolios.

Abhay, an engineering student, does the manufacturing and marketing of the milk. He is currently pursuing his higher studies abroad. A few months back, he started his venture along with his mother. He would travel 500 km every week to get a steady supply of vegan milk. He would cover the entire South India from Bengaluru to achieve his supply target.

However, his exhausting journey ceased when he finally started his website and started selling the products online. He tells that he had to face a lot of hardship in the beginning. A major part of the milk was spoilt because of the journey, also resulting in losses.

Initially, Abhay would prepare milk using household utensils, which was a challenging task. Gradually, he bought the required machinery and began his start up Veganarke. He also started his own website. Today, he sells different types of vegan milk online. He says that even though there are many animal activists, not many people are working on this level, as the technique is expensive.

Abhay wanted to bring these products in the market at an affordable price. Gradually, his hard work started paying off. As a student, he began researching on cheaper methods for manufacturing so that the investment could be controlled. He started with almond and coconut milk as they were cheap and easily available. As people became more aware, they started purchasing his products.

According to Abhay, his company is the first in India to supply vegan yogurt. The best thing about that product is that it doesn’t require any refrigeration systems for preserving. Abhay believes that his concept will play an important role in the near future to minimise the cruelty on cattle.

vkb7lgrpzh5drw7vet7sdjekfmbw4fxx.png

Along the journey, he met another animal activist. He loved Abhay’s concept and his work to prevent animal cruelty. He raised funds of Rs 2.5 crore for the venture. Abhay plans to utilise the funds for massive expansion of his business.

Abhay also started a non-profit organization SARV (Society for Animal Rights and Veganism), at the age of 16, to promote veganism and animal rights. With the help of its volunteers, SARV was active in more than 10 cities.

Abhay’s concept will not only minimise animal abuse but will also set an example for the youth who desires to establish themselves in the dairy industry. With more people adopting veganism, we hope that we will be able to prevent or animals and give them love.

This is a scene from Bhudarpura locality in Ahmedabad. More than 150 slum kids gather on a footpath every evening for their daily tutorials. This footpath school offers quality education, along with dinner, for more than 15 years now. Thanks to the effort of Kamalbhai Parmar (65), who himself a school dropout but has managed to show the right path to these slum kids.

udy3fburqdpzzxs4gvyhgdt5xlmgat3x.jpg

Kamalbhai runs an auto and metal fabrication workshop near the slums of Bhudarpura. About 15 years ago, he saw a small group of students near his shop who were returning from their municipality school after their annual exam.

When Kamalbhai inquired, he was shocked to see that none of them knew how to read and write and even as they were in Std 8. After the incident, he conducted a student survey in his area and discovered that only five of them were literate. It was right then he decided to start a free evening coaching program.

Every day after school, he conducts four-hour evening classroom sessions from 5.30 pm where he teaches everything from alphabets to tips for cracking competitive exams. After this session, the school offers free dinner to everyone. The classroom, which started with self-made desks and boards, has now grown from 10 to more than 150 students to this day.

My greatest reward is when my students can stand up with confidence to those from privileged families : Kamal Parmar

His noble act brought him global attention. Recently, students of Lycee International St. Germain en Laye (France) volunteered to teach these children. Kamalbhai Parmar was awarded with Dharati Ratna in 2009 for this unique initiative. More power to you!

 

आईआईटी-दिल्ली से ग्रेजुएट और आईआईएम-अहमदाबाद से निकले त्रिलोचन शास्त्री उन नेताओं के बड़े आलोचक हैं जिन्होंने देश की स्थिति को लेकर हताश किया है l उनके द्वारा सार्वजनिक जीवन के मानक के लिए जो PIL दाखिल किया गया है उस सरल और साहसिक कारनामे के लिए हम उनके शुक्रगुज़ार है l वे एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म (ADR) के कर्ता-धर्ता हैं l भारतीय राजनीति में पारदर्शिता और जवाबदेही लाना और चुनाव के समय उपयोग में आने वाले रुपयों और बाहुबल का प्रभाव कम करना ही ADR का लक्ष्य हैl 

vldayqcps547slwnenahnymj6z2ddr97.jpg

त्रिलोचन का बचपन भारत की राजधानी दिल्ली में बीता l उनकी कोई महत्वाकांक्षा नहीं थी l अपनी हाई स्कूल की शिक्षा प्राप्त करने के बाद वे आईआईटी दिल्ली पढ़ने चले गए l उनका समय यहाँ अच्छा बीता l 1981 में वे मैनेजमेंट की पढ़ाई के लिए आईआईएम अहमदाबाद को चुना l आईआईएम अहमदाबाद के पहले साल के समर प्रोजेक्ट के लिए उन्होंने एक एनजीओ ज्वाइन किया जिसका नाम सेवा मंदिर था l उन्होंने ये दो महीने राजस्थान में गुजारे जो उनके लिए आँखे खोल देने वाला दौर साबित हुआ l त्रिलोचन ने देश के सबसे पिछड़े ब्लॉक खेरवाड़ा में प्रोजेक्ट लेने का तय किया l उन्होंने सरकारी विभागों का सर्वेक्षण किया और जो कुछ उन्होंने पाया वह उनके लिए बहुत बड़ा धक्का था l उन्होंने यह महसूस किया कि सरकारी विभागों में काम नहीं के बराबर होते हैं l 

अपने कैंपस वापस आने के बाद त्रिलोचन अपनी पढ़ाई में लग गए l जब प्लेसमेंट का समय आया तब वे नौकरी के लिए विशेष रूप से इच्छुक नहीं लगे l पर वे कुछ करना चाहते थे l तब उन्होंने एक एनजीओ में शामिल होने होने के लिए पता लगाना शुरू किया, पर यह काम नहीं आया l उनके मन में दूसरा विचार आया कि देश की सेवा के लिए पब्लिक सेक्टर ज्वाइन कर लेंl एक साल ओएनजीसी में काम करने के बाद उनके लगा कि यह गलत निर्णय था l उसी समय उनके साथ एक दुःखद घटना घटी, उनके पिता का देहावसान हो गया l त्रिलोचन ने तब विश्व की सबसे अच्छी यूनिवर्सिटी MIT में जाने का  निर्णय लिया l वहाँ से अपनी पीचडी करने के बाद वे भारत लौट आये और आईआईएम अहमदाबाद में  प्रोफेसर के रूप में ज्वाइन कर लिया l खाली समय में वह एनजीओ के बारे में नेटवर्किंग करते और यह पता करते कि  तब क्या चल रहा है l 

धीरे से त्रिलोचन ने अपने आप को एक ठोस वजह के लिए तैयार किया l सभी मध्यम वर्गीय लोगों की तरह वह भी सोचते हैं कि देश में जो भी गड़बड़ियाँ फैली है वह सब राजनेताओं के द्वारा है l जब प्रधानमंत्री पर भी आपराधिक मामलों के आरोप लग रहे थे l  जो बहुत ही अच्छे पोजीशन में हैं ऐसे लोग खुले आम देश को लूट रहे हैं l त्रिलोचन ने तब यह तय किया कि वे एक PIL दाख़िल करेंगेl उन्हें यह विश्वास था कि पब्लिक इंटरेस्ट लिटिगेशन राजनेताओं से उनके आपराधिक रिकार्ड्स की जानकारी लेंगे इस तरह एक नया रास्ता खुलेगा l दोस्त और उनके सहकर्मी उनके इस कदम को मूर्खता पूर्ण मान रहे थे पर वे फिर भी सोचते थे कि यही अच्छा तरीका है l वे वकील से मिले सभी उन्हें कह रहे थे कि PIL सुप्रीम कोर्ट में दाख़िल किया जाये और यह संगठन की ओर से किया जाए न की व्यक्तिगत l आखिर में उन्होंने और नौ लोगों के साथ मिलकर एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म(ADR) की स्थापना कीl दिसंबर 1999 में  PILदाख़िल किया गया l भाग्य ने साथ दिया और वे दिल्ली हाई कोर्ट से जीत गए l मई 2002 में सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि उम्मीदवार अपनी आमदनी, शिक्षा और आपराधिक रिकार्ड्स घोषित करें l

ADR अभी नैतिक और प्रेरक भूमिका निभा रहे हैं l हर राज्य में जाकर वे ज़मीनी स्तर पर काम कर रहे हैं l दूसरा काम उन्होंने राजनेताओं को निगरानी में रखने का, वह भी न केवल चुनाव के समय बल्कि वे कितने बार संसद गए, बहस में हिस्सा ले रहे हैं की नहीं, दिए गए फंड का कैसा उपयोग कर रहे हैं आदि जानकारियाँ भी इकट्ठी करते l 

उनकी सतर्कता का असर कि राजनेता धीरे-धीरे ही सही पर देश के लिए जवाबदेही दिखाने लगे हैं l त्रिलोचन शास्त्री अपनी तार्किकता, हिम्मत और सिस्टम के साथ उलझने के दुस्साहस के बल-बूते अपने देश को  सही दिशा में  बढ़ने के लिए कृत्संकल्प हैं l 

... or jump to: 2018
Info
Organization Name:
KenFolios
Category:
Membership

Administrator

My Posts