Profile Feed

Enter a temple, mosque, gurudwara or church in India and the first thing you’ll probably notice is the abundance of flowers at the place of worship. Ever wonder what happens to those sacred flowers once we are done with our prayers?

According to many religious beliefs, flowers that are offered during prayers are sacrosanct and cannot be dumped into the garbage once they’ve wilted. This is one of the reasons why people prefer to discard them in rivers, lakes and other water bodies, thus creating a major avoidable pollution. However,Yash Bhatt and Arjun Thakkar have come up with a revolutionary idea to put this waste into use.

Tackling an age-old problem

Shortly after graduating from Silver Oak Engineering College in Ahmedabad, Yash and Arjun attended a lecture at the GTU Innovation Council earlier this year. The theme of the lecture was to instigate young minds to come up with solutions of problems that we face in our everyday lives.

dus7gruyrvcy3xrq9zszbfnbbtt4jsvv.jpg

During brainstorming discussions, the duo realized that disposal of flowers, leaves and coconuts was a major issue as religious sentiments were attached to them. Also, dumping them in river bodies and public bins significantly contributed to pollution that could be easily avoided.

To solve this unnecessary menace, Yash and Arjun initially started using several composting machines that were readily available in the market. But those machines were not efficient enough. But after pitching their idea to the GTU Innovation Council, they received a grant of Rs 95,000. Additionally, the Ahmedabad Municipal Corporation also came to their aid.

“Corporation officials, including Mayor Bijal Patel, helped us in the project. We have been given the project for Bodakdev, Thaltej, Ghatlodia, Naranpura, and Navrangpura wards of the corporation. As a part of the project, we gave individual bins to the temples.” Arjun said.

Earning through waste

nwkcuvx2tqqhyswuxu6etrjxpqznvdus.jpeg

The duo is presently collecting the disposed flowers from 22 temples. They have also developed a machine of their own that churns 300 kg of organic waste from temples into 100 kg of manure every day, which is sold at Rs 60 per kg. They are also considering involving Sakhi mandals for the sale of the products. Once the project extends to the entire city, they plan to make incense sticks and rose water, and turn coconuts into cocopits, and sell them under a registered brand name.

While most of us leave it to the gods to take care of the flowers we offer up in places of worship, Yash and Arjun have shown how an age-old problem can be solved easily. Not only have they turned the problem into a decent source of income, their products are cheap, eco-friendly and add to the class of organic fertilizers.

दुनिया के नक्‍शे में आज चाइना, जापान, अमेरिका के अलावा भारत एक ऐसा देश ऊभर कर सामने आया है जो सबसे तेजी से तकनीकी विकास की राह में आगे बढ़ रहा है। इसका श्रेय उन तमाम भारतीयों को जाता है जिन्होंने सूचना और प्रोद्योगिकी के क्षेत्र में सिर्फ देश के भीतर ही नहीं बल्कि विदेशों में भी अपना परचम लहराया। माइक्रोसॉफ्ट में सत्‍या नडेला और गूगल में सुंदर पिचाई की भूमिका से तो हर भारतीय वाक़िफ़ है लेकिन इनके अलावा भी कई ऐसे भारतीय हैं जिन्होंने अपनी काबिलियत से पूरी दुनिया में नाम कमाया।

आज हम ऐसे ही एक भारतीय की कहानी लेकर आए हैं जो वर्तमान में 85,000 करोड़ रूपये की एक अंतराष्ट्रीय कंपनी के कर्ता-धर्ता हैं। ताज्जुब की बात है कि इनके द्वारा संचालित कंपनी के प्रोडक्ट्स से पूरा भारत वाक़िफ़ है लेकिन हम इन्हें नहीं जानते हैं।

zyte2yl9f2xdezwvctznmt5urxwrecje.jpg

सॉफ़्टवेयर क्षेत्र की दुनिया की अग्रणी कंपनी अडोबी सिस्टम्स के सीईओ शांतनु नारायण की गिनती आज दुनिया के सबसे सफल व्यवसायिक अधिकारी के रूप में होती है। हैदराबाद में जन्में और पले-बढ़े शांतनु ने इलेट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में अपनी स्नातक डिग्री हैदराबाद के उस्मानिया विश्वविद्यालय से हासिल की और इसके बाद उन्होंने बर्कली में कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के हास स्कूल ऑफ बिज़नेस से सफलतापूर्वक एमबीए किया।

सॉफ्टवेयर और इंटरनेट क्षेत्र में शुमार करने वाले ज्यादातर नामचीन हस्तियों की तरह शांतनु नारायण ने भी अपना कैरियर ऐप्पल से शुरू किया। कुछ सालों तक यहाँ काम करते हुए उन्होंने बिज़नेस और मैनेजमेंट के गुर सीखे और फोटो शेयरिंग कंसेप्ट को लाने वाली एक कंपनी पिक्ट्रा की स्थापना की। यह दुनिया की पहली इंटरनेट फोटो शेयरिंग कंपनियों में से एक थी। इस कंपनी को सफलतापूर्वक चलाते हुए शांतनु ने सॉफ्टवेयर की दुनिया में अपनी एक पहचान बनाई। फोटो शेयरिंग क्षेत्र में इनकी कोशिश ने उन्हें साल 1998 में अडोबी सिस्टम्स से जुड़ने का मौका दिया। एडोबी में वैश्विक उत्पाद शोध के लिए उन्होंने बतौर सीनियर वाइस प्रेसिडेंट ज्वाइन किया। यहाँ काम करते हुए उन्होंने अपने प्रदर्शन से जल्द ही ऊँची छलांग लगाई और सिर्फ दस वर्षों के अंतराल के भीतर ही कंपनी के सीईओ बन बैठे।

सीईओ बनने के बाद शांतनु ने बीबीसी को दिए एक इंटरव्यू में कुछ इस तरह प्रतिक्रिया दी थी “मैं अडोबी का नेतृत्व पाकर ख़ुद को गौरवान्वित महसूस कर रहा हूँ. मैं अडोबी की तकनीकी क्षेत्र में अगुवाई की परंपरा को आगे बढ़ाने के लिए काम करूँगा”

इनके नेतृत्व में एडोब तरक्की के एक नए पायदान पर चढ़ते हुए सचमुच हर जगह फैल गया। आपको यह जानकार हैरानी होगी कि नारायण को कंपनी के लिए पूरे 350 सफल सौदों का श्रेय जाता है। वास्तव में देखें तो वायाकॉम, सीबीएस और पीबीएस जैसी बड़ी मीडिया कंपनियां आज एडोब फ्लैश प्लेयर के साथ वीडियो चलाती हैं और इन सब के लिए नारायण जिम्मेदार हैं।

mq8anz8js4jahupd4kaaiyfq8mq4jdpk.jpg

बतौर सीईओ नारायण को करीबन साढ़े 5 करोड़ का वेतन पैकेज दिया जाता था। साल 2013 में उन्हें कुल $15.7 मिलियन का सकल वेतन भुगतान किया गया, जो उन्हें दुनिया में सबसे ज्यादा वेतन लेने वाले अधिकारियों की सूची में भी शामिल करता है। इतना ही नहीं साल 2011 में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की सुझाव समिति में इन्हें भी शामिल किया गया था।

नारायण ने खुद की काबिलियत से वैश्विक पटल पर अपनी एक पहचान बना पाए। आज नारायण जैसे प्रभावशाली भारतीय पर हमें सिर्फ फक्र ही नहीं होता बल्कि हमारे अंदर एक नई आशा का संचार होता है और हमें भी जिंदगी में कुछ कर गुजरने की प्रेरणा मिलती है। 

Success doesn’t come to those who sit and wait for it. It comes to the people who hustle for it. Being good at something doesn't necessarily guarantee success but only working relentlessly despite failing several time does.

Such is the story of Sophia Amoruso. From doing odd jobs at the age of nine to sustain herself, to being one of the America's richest self-made women, her journey is exceptional. Today, her brand Nasty Gal is one of the fastest growing companies in the world.

Miserable childhood

Born in 1984 in San Diego, California, Sophia was forced to drop out of school after getting diagnosed with depression and Attention Deficit Hyperactivity Disorder. Situations worsened when both her her mother and father lost their job and Sophia had to fend for herself even before she could put her braces on.

nuuwk2n6jp4cpydiswu4tb9maxsvfnqd.png

At a young age of nine, she opened a lemonade shop by herself. By the time she reached 22, Sophia had done 10 different jobs.

Fling with digital

As a young girl, Sophia lived a nomadic lifestyle, hitchhiking on the west coast, dumpster diving, and stealing. In 2003, she was caught stealing and was handed a fine, following which she quit living such lifestyle. She relocated herself to San Francisco and tried her luck in a community college.

It was during this time that she opened an eBay store. She named it Nasty Gal Vintage, after the 1975 album by Betty Davis, a funk singer and style icon.

Sophia would raid charity shops for items of clothing, and then sell those clothes at an up-scaled price. One Chanel jacket that she had purchased for $8 (Rs 515) was sold for $1,000 (Rs 64,395). Sophia would style, photograph, caption, and ship the products all by herself, using the knowledge she had gained from a photography classes she had attended.

dzfvrkpgugxg6cxecws6ejwzcs2zllly.jpg

Nasty Gal was soon cultivating its own brand identity that comprised vintage clothes for cool and unique young women. Sophia took to MySpace, and subsequently to Facebook, to spread the word about her fashion brand.

But in 2008, her popular account on eBay was suspended for trying to promote her own website. Five whole years of hard work was staring at the sewage.

Shot to fame

However, Sophia was quick to take the decision of moving on from eBay and setting up her own store. She took her employees and started her own retail in Los Angeles. Riding on the reputation that her venture had already acquired, she was soon approached by investors. Funds worth $49 million dollars (Rs 315.2 crore) were raised in equity for Nasty Gal. In the meantime, her reported net worth of $280 million (Rs 1,801.6 crore) inked her name in Forbes Magazine’s 2012 list of America’s Richest Self-Made Women.

Apart from her business, Sophia took the opportunity to debunk myths around female entrepreneurs. With her success in women’s fashion retail, she became the torchbearer of modern day feminism. She encouraged young women to annihilate regressive definitions, particularly ones that were meant to demean women who were assertive or ambitious. Her journey was depicted in the Netflix web series Girlboss, a special that started airing from April 21, 2017.

a3eexpuq4rvqvfuuuh9z4dhpd4g6xynm.jpg

From dumpster-diving to making place in Forbes’ 30 under 30 list, Sophia has depicted what enormous work ethic can achieve.

With her curiosity outweighing her fears, she has shown to the world that one doesn't have to be perfect to be successful. The resolution to succeed without ever giving up is what separates the 1 percent of the world from the rest.

(By Shreshthangsha Sayan Biswas)

Share the story and tell us how it made you feel (box below) because we read every single comment.

अहमदाबाद के भुदारपुर में लोगों को यह अनोखा नजारा देखने को मिलता है l फुटपाथ पर लगभग स्लम के 150 बच्चे कमलभाई परमार के साथ मिलकर हर शाम पढ़ाई करते हैं l फुटपाथ का यह स्कूल उच्च स्तरीय ज्ञान के साथ रात का भोजन भी कराता और यह सिलसिला चल रहा है लगातार 15 वर्षों से l इस प्रयास के लिए हमें कमल भाई परमार जी का शुक्रिया अदा करना चाहिए जो भले ही खुद अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर सके, परंतु आज वो स्लम के बच्चों को सही रास्ता दिखाने की पूरजोर कोशिश कर रहे हैं l

y9yyurg4ki7vfcc9797nfhph8sfyrkis.jpg

कमलभाई ऑटो भी चलाते हैं और पास के मेटल फैब्रिकेशन वर्क्स में भी काम करते हैं l 15 साल पहले उन्होंने पास के नगरपालिका के स्कूल से वार्षिक परीक्षा के बाद लौटते हुए कुछ बच्चों को देखा l जब कमलभाई ने उन्हें परीक्षा के विषय में पूछा तो वे आश्चर्य में पड़ गए; क्योंकि उनमें से किसी भी बच्चे को पढ़ना-लिखना नहीं आता था l उनमें कुछ तो आठवीं कक्षा के छात्र थे l इस घटना के बाद उन्होंने वहां के बच्चों के बारे में और भी जानकारी इकट्ठा की तो पता चला की वहां केवल चार-पांच लोग ही पढ़े लिखे थे l तब ही उन्होंने यह फैसला कर लिया कि वे इन बच्चों को मुफ्त-शिक्षा देंगे l

स्कूल के बाद रोज शाम साढ़े पांच से उन्होंने बच्चों को पढ़ाना शुरू किया, वे चार से पांच घंटे रोज पढ़ाते l उस दौरान वे अक्षर ज्ञान से लेकर, प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी तक का समावेश रखते थे l पढ़ाई ख़त्म होने के बाद सभी को भोजन भी कराते l उन्होंने शुरुआत में अपनी खुद की बनाई डेस्क व ब्लैक बोर्ड से काम चलाया l 10 से 15 बच्चों से फुटपाथ पर हुई शुरुआत आज 150 विद्यार्थियों से गुलज़ार है l

“मेरा सबसे बड़ा पुरस्कार यही है कि मेरे विद्यार्थी आत्मविश्वास के साथ खड़े होकर उन लोगों  की बराबरी कर सकें जिन्हें हर सुविधा मिली हुई है”

mt4ky7pgcbqm86u9pnpsmm7zpvadfyfs.jpg

अपने महान काम से उन्होंने दुनिया भर के लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया है l अभी-अभी लीसे इंटरनेशनल सेंट जर्मैन एन लाये (फ्रांस ) ने बच्चों को स्वेच्छा से पढ़ाना शुरू किया है l कमलभाई परमार को उनके इस अनोखे काम के लिए 2009 में धरती रत्न से भी नवाजा गया l उनके इस अनोखे कदम के लिए उन्हें दिल से सलाम है l

On a call today, I heard a woman so calm and compassionate yet fierce and outspoken in her own ways, especially when it comes to social justice and child rights. She is a professor, an activist, and founder of Mamidipudi Venkatarangaiya Foundation (MVF). She has been working tirelessly for the betterment of children of our country. She has spent over 30 years working to end child labor and fighting for children’s rights.

In a conversation with KenFolios, Padma Shri awardee Shantha Sinha talks about the journey of her life and how she is winning the fight against child oppression and bondage.

Born on January 7, 1950, in Nellore of Andhra Pradesh, Shantha was the only girl among seven siblings. Her upper caste Brahmin family made sure that their children did not grow up with privilege. Shantha spent the first 20 years of her life in Hyderabad, where she got a master’s degree in political science from Osmania University. Later, she went to the Jawaharlal Nehru University, in New Delhi, to pursue PhD in Naxalite Movement in Andhra Pradesh.

While studying in JNU, she got married to her classmate, in the year 1972. “I had my first daughter before I could finish my PhD. I had to leave her with my parents while I tried to finish my studies faster in Delhi,” she says. It is a very tough choice for a mother but Shantha knew she had to focus on her education then, as it was also her passion.

xiupe6pgpxgfkw4xcy7w3zvvpjwddrcz.jpg

After coming back, Shantha joined the Osmania University as a lecturer and had her second daughter. In the early 1979, she joined the Department of Political Science in the University of Hyderabad. Life was much calmer and settled now. After years of hard work, she was with her family and could enjoy the fruits of her labour. But a lightning struck when she lost her husband to cerebral haemorrhage.

“Since I had two daughters, I kept working and my parents took care of us. In 1984, I had to do a course on rural politics in India in the university. I thought of visiting a village before talking about the subject,” she tells. Shantha started going to the villages around the University of Hyderabad. She wanted to make it a part of their university project, as well and applied for a program called Shramik Vidyapeeth by the central government.

It was a Worker’s Education Program and for the first time in the country, there was a rural worker’s education program.

“I started visiting the villages every evening blindly, without knowing what I was doing. There I met Dalit families and bonded laborer’s family. Every night, I would stay there go to the university next day,” she unfolds. Her parents encouraged her as they thought that she was finding her way. In the process, Shantha found out the Bonded Labor System (Abolition) Act and realized that those people had to be released from bondage.

“There was a friend of mine who was working on that issue in a nearby district. I saw her program, sought her help and started mobilizing them to get out of bondage. I was teaching and slowly getting drawn into organizing and empowering them to assert their rights,” she says.

Through Shramik Vidyapeeth, Shantha started organizing them and started making an appeal to the government for the release of bond. She was taking them to the labor court, calculating how much of wage they should have actually got, getting compensation for the farmers, organizing women for bare minimum wages. “I was gradually doing a kind of union work without calling them a union. While I was continuing to teach and continuing to do this in the name of Shramik Vidyapeeth, my term there got over,” she says.

fk7bunr9atx8uzdywxe6fvdnfv4zphxn.jpg

Shantha saw that 40 percent of bonded people were children and they had no voice. She wanted to eradicate the system of abuse and manipulation and wanted to give a future to these children with ace to quality education and free from slave labor.

That was when Shantha started her family trust Mamidipudi Venkatarangaiya Foundation (MVF) which was working for the welfare of poor children with scholarships for higher education. She joined with the focus on children and bonded labor children. “In those areas, there was a lot of confrontation and tension. If you are working for children, you have to be a lot more careful as they can not be subjected to so much tension,” says Shantha.

They started working out on new framework of actions where children were not subjected to risk. They changed the entire style of functioning and decided to work on convincing everybody in the village in support of children. And not take it up a caste or class issue but make it a children’s issue. “We also made them understand that if a child is out of the school then the child is a child laborer.”

Even after rescuing the children, they found that the children had no place to go, as when they were admitted STD 1, they were too old to be in that class. The started residential programs to prepare them for a class appropriate for their age, calling it a bridge course class. Over the period of 20 years in MVF, there have been at least 60,000 students who got into the mainstream education through this camp. There were teachers who were insensitive about these children but today, MVF has around 3,000 school teachers working with them.

On November 14th, MVF collected all the employers who employ children and conducted a Vidya Daan Ceremony where the employers gave pencil and school bags to the children who they had employed as bonded laborers and the children in turn garlanded them for leaving them.

As of 2017, MVF has around 86,000 volunteers. Over 1 million children have been freed from indentured labor and have been enrolled in school. Also, 168 villages are now child labor free.

ypjbudym6iicd4agkamhcmysykxumkc9.jpg

Shantha says that bringing every child to school was a part of the conflict but they learnt to resolve the conflict without polarizing the village. “When we withdrew 10 lakh people from the work, we resolved 10 lakh conflicts, as there is conflict in everything. Its only when there is a conflict, there is a dialogue, discussion, consensus that children have to go to school,” she adds.

For her years old dedication and hard work, Shantha was awarded the Padma Shri, in 1998. She was also given the Albert Shanker International Award from Education International and the Magsayay Award in 2003. Due to her influence, Indian parliament passed the Commission for Protection of Child Rights Act in December 2005, which created the National Commission for Protection of Child Rights (NCPCR). Professor Sinha was chosen to act a its first chairperson and served for two consecutive three-year terms.

As she signs off, Shantha delivers a very strong message. She says, “Everybody must understand that children are no less than adults. Infact, they more important as they are vulnerable. If we don’t tolerate adult beating another adult, why should we tolerate an adult beating or punishing any child?” She adds, “Give respect to children. Those who are employing children as domestic workers are not doing them any favor. It is the child who is doing a favor on you.”

“Your life is dependent on children’s life. Your roti, kapda, makaan is completely dependent on child labor. At least feel conscious that they form your blood and bones by shedding their blood and bones. Their life and your lives are interdependent,” she concludes.

Professor Shantha Sinha has saved so many lives by her Gandhian approach. Her work in the field of social service and education is incredible. We salute her efforts.

By Shubha Shrivastava

गम हो या खुशी के पल हो फूल हर अंदाज को बयां करने का सबसे आसान और खुबसूरत जरिया होते हैं। ताजे फूलों में खुशी को दोगुना और गम को हल्का करने की ताकत होती है। इन्हीं फूलों के छोटे से गुलदस्ते में कारोबारी संभावनाओं को देखा बिहार के विकास गुटगुटिया ने। महज 5 हज़ार रूपये की रकम से शुरुआत कर देश के फ्लोरिकल्चर इंडस्ट्री में क्रांति लाते हुए अंतराष्ट्रीय स्तर की एक नामचीन ब्रांड स्थापित करने वाले विकास आज हजारों लोगों के लिए प्रेरणास्रोत हैं।

कायदे से देखें तो भारत की फ्लोरिकल्चर इंडस्ट्री की सालाना कुल ग्रोथ 30 फीसदी की रफ्तार से भी तेज हो रही है। वहीं इंडस्ट्री बॉडी एसोचैम की माने तो आने वाले कुछ वर्षों में इस इंडस्ट्री का मार्केट कैप 10,000 करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगी। ऐसे स्थिति में इस क्षेत्र में कारोबार की बड़ी संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता।

dyybddu6jbh45sl69tcxygiibjsxsytb.jpg

आज हम बात कर रहे हैं एक छोटे फ्लोरिस्ट से अंतरराष्ट्रीय बाजार में में पहचान बना चुके बड़े ब्रांड फर्न्स एन पेटल्स की आधारशिला रखने वाले विकास गुटगुटिया की सफलता के बारे में। पूर्वी बिहार के एक छोटे से गांव विद्यासागर में एक मध्यम-वर्गीय परिवार में जन्मे विकास ने स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के बाद ग्रेजुएशन की पढ़ाई पश्चिम बंगाल से की। पढ़ाई के दौरान विकास अपने चाचा के फूलों की दुकान पर मदद भी किया करते थे और यहीं से उन्होंने व्यापार करने की बारीकियों को सीखा।

पढ़ाई खत्म होने के बाद दो साल उन्होंने मुंबई व दिल्ली में रोजगार व व्यापार की संभावना खोजी और फिर साल 1994 में 5 हजार रूपये की शुरूआती पूंजी से साउथ एक्सटेंशन दिल्ली में पहली बार फूलों की एयर कंडीशन शॉप खोली। हालांकि उस दौर में देश के भीतर फूलों से संबंधित व्यापार में ज्यादा तरक्की के आसार नहीं थे लेकिन फिर भी विकास ने अपना सफ़र जारी रखा। संयोग से उन्हें एक भागीदार मिल गया जिसने इस बिजनेस में 2.5 लाख रुपए निवेश किए। भागीदारी लंबी नहीं चली और 9 साल तक उन्हें मुनाफ़े का इंतजार करना पड़ा। इस दौरान फूलों का निर्यात करके उन्होंने रिटेलिंग को किसी तरह जारी रखी।

इस असंगठित सेक्टर में जितने भी फ्लोरिस्ट मौजूद थे उनसे हटकर बेहतर सर्विस, फूलों की वेराइटी और आकर्षक फूलों की सजावट पर विकास ने जोर दिया। और विकास का गुणवत्ता पर ज्यादा ध्यान देने की उनकी कोशिश कामयाब हुई। इसी दौरान ताज पैलेस होटल में एक भव्य शादी के लिए उन्हें फूलों की सप्लाय का ऑर्डर मिला और इस तरह बिज़नेस के एक नए रास्ते खुले। साथ ही विकास ने कारोबार में नयापन लाने हेतु फुलों के गुलदस्ते के अलावा फुलों के साथ चॉकलेट्स, सॉफ्ट टॉइज, केक्स, गिफ्ट हैंपर्स जैसे प्रोडक्ट के साथ अपनी रेंज बढ़ाते गये।

करीबन 7 साल तक कारोबार को चलाने के बाद उन्होंने अपने रिटेल व्यापार को देशव्यापी बनाने की योजना बनाई और फर्न्स एन पेटल्स बुटीक्स की फ्रेंचाइजी देना शुरू किया। फ्रेंचाइजी के लिए उन्होंने 10-12 लाख रुपये के निवेश और शोरूम के लिए 200-300 वर्गफीट की जगह का न्यूनतम मापदंड रखा। इस निवेश में कंपनी ब्रैंड नेम, इंफ्रास्ट्रक्चरल सपोर्ट, डिजाइन और तकनीकी जानकारियां, फूलों के सजावट की ट्रेनिंग के साथ स्टोर चलाने के लिए लगने वाली इंवेटरीज जैसे फूल, एक्सेसरीज और गिफ्ट आइटम मुहैया करवाती है।

j3h4ntjbpuvh99czqzzqkh7g5lhfkrgj.jpg

आज फर्न्स एन पेटल्स की चेन्नई, बैंगलोर, दिल्ली, मुंबई, कोयंबटूर, आगरा, इलाहाबाद सहित देश के 93 शहरों में 240 फ्रेंचाइज स्टोर फैली हुई है। इतना ही नहीं फर्न्स एन पेटल्स आज भारत में सबसे बड़ा फूल और उपहार खरीदने वाली श्रृंखला है जिसका सालाना टर्नओवर 200 करोड़ के पार है। आज यह सिर्फ भारत में ही कारोबार नहीं कर रही बल्कि एक वैश्विक ब्रांड बन चुकी है।  

फूलों के संगठित रिटेल व्यापार में सबसे बड़े उद्यमी के रूप में जाना जाने वाले विकास की सफलता से हमें काफी कुछ सीखने को मिलता है। विकास जब फूलों का कारोबार शुरू किये थे तो उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि एक दिन वे देश के सफल कारोबारियों की सूची में शुमार करेंगें। अपने आइडिया के साथ आगे बढ़ते हुए उन्होंने हमेशा कुछ नया करने को सोचा और सफल हुए। 

Money has long given us the illusion of bringing happiness to people but we still haven't learned from all those millionaires who die rich yet sorrowful. Money is just a medium in this modern world to fulfil our necessities. If we extend this channel to help others it can add a lot of relief and joy to the world. Philanthropy is one way to do it and this news fills our heart with admiration for Wipro Chairman Azim Premji for earmarking 34 percent of Wipro shares (that is worth Rs 52,750 crore or $7.5 billion) for his philanthropic activities.

"Azim Premji has increased his commitment to philanthropy, by irrevocably renouncing more of his personal assets and earmarking them to the endowment, which supports Azim Premji Foundation's philanthropic activities," said a statement.

IANS reports, with his new commitment, Azim Premji's total contribution to the philanthropic endowment corpus is Rs 145,000 crore ($21 billion), which includes 67 per cent of economic ownership of Wipro Ltd.

6vahpyxia7ph5jxs45nvcjyv9khn7suq.png

The Azim Premji Foundation works in the education sector, aiming to improve the quality of public schooling system, and supports other non-profit organisations working in the field through multi-year financial grants.

"Currently the field work in education is spread across Karnataka, Uttarakhand, Rajasthan, Chhattisgarh, Puducherry, Telangana and Madhya Pradesh, along with some work in the northeastern states," the statement said.

As many as 150 not-for-profit organisations working for the marginalised sections across the country have received the grants from the Foundation over the past five years.

"Over the coming years, the Foundation's activities are expected to scale up significantly. The team driving the field work in education is expected to grow significantly from the current 1,600 people," it added.

gelygmdsfvpyiaf72wtugft33dhhma6h.png

The Foundation, which also runs the Azim Premji University in Bengaluru which offers undergraduate, graduate and postgraduate courses in education and human development, will also expand, it said in the statement.

"The university will expand to have 5,000 students with 400 faculty members across multiple programmes. Thereafter, another university in the northern part of India may be set up," it said.

The expansion aims to contribute to developing a more just, equitable, humane and sustainable society in India, it added.

सपनों का पीछा करने में कठिनाई है, लेकिन ऐसा बिलकुल ना करना सबसे बड़ी मुर्खता है। बहुत सारे सपने इसलिए बिखर जाते हैं क्योंकि लोग या तो सपनों के लिए सही समय का इंतजार करते हैं और अपने आप को साबित करने का अवसर ढूंढ़ते रहते हैं। लेकिन वहीं दूसरी तरफ सिद्धांत वत्स जैसे लोग हैं जो यह विश्वास करते हैं कि बिना कुछ किये आपको कुछ भी खास हासिल नहीं हो सकता और अपनी सफलता की कहानी आपको खुद ही लिखनी पड़ती है। इस लड़के ने एक उद्देश्य को सिद्ध करने के लिए अपनी हाई स्कूल की पढ़ाई छोड़ दी और अपने गेम के ज़रिये एप्पल, सैमसंग, नोकिया और दूसरे बड़े स्मार्ट फोन को भी परास्त किया।

यूँ तो इस युवा व्यक्ति के नाम बहुत सी उपलब्धियां दर्ज़ है। क्या वजह है जिससे वह हम सबसे अलग है और अपने जुनून पर सामाजिक उम्मीदों को कभी हावी नहीं होने देते। उनका जन्म और पालन-पोषण दोनों ही बिहार की माटी में हुआ। 19 साल की कम उम्र में सिद्धांत ने अपने तीन दोस्तों के साथ मिलकर विश्व का पहला एनड्रॉइड स्मार्टवाच बनाया। उनके इस नए प्रयोग ने पूरी दुनिया में तहलका मचा दिया, खासकर विदेशों में तो इसे लाखों लोगों ने हाथों-हाथ ख़रीदा। इनके स्मार्टवॉच के बारे में ढेर सारे आर्टिकल लिखे गए। यह स्मार्टवॉच स्मार्टफोन, कंप्यूटर और एक जीपीएस डिवाइस का सम्मिलित रूप है।

resm2fqrrbfnwsdaufbdmeypwp4tpgz3.jpg

यह बहुत ही असाधारण बात है कि जब दिग्गज गूगल और एप्पल ने अपने स्वयं के स्मार्टवॉच को विकसित करने की घोषणा की उसके एक हफ्ते के अंदर ही सिद्धांत ने अपना स्मार्टवॉच लांच कर दिया। बिना ज्यादा खर्च किये इनकी तीन दोस्तों की टीम ने यह कारनामा कर दिखाया। सिद्धांत की उपलब्धियों को देखकर यह स्पष्ट हो जाता है कि अपनी रूचि और जुनून के बल पर व्यक्ति सब कुछ हासिल कर सकता है उसके लिए कोई पारंपरिक शिक्षा की जरुरत नहीं होती। जब उन्होंने स्कूल छोड़ने का निश्चय किया तब उनके माता-पिता इसके लिए बिलकुल तैयार नहीं थे। लेकिन बाद में उन्होंने महसूस किया कि सिद्धांत का विश्वास पूरी तरह से मजबूत है और कोई भी नई टेक्नोलॉजी के लिए इंतजार करना सही नहीं है शिक्षा तो बाद में भी ली जा सकती है।

“बहुत लंबे समय तक एक ही काम करने से मुझे ख़ुशी नहीं मिलती। मैं अपने सपनों का पीछा करना चाहता हूँ। मेरे मन में जो कुछ भी आता है मैं उसे करना चाहता हूँ”

सिद्धांत और उनके तीन दोस्तों ने जो स्मार्टवॉच बनाया है उसमें फोटो लेने के लिए दो मेगा पिक्सेल का कैमरा भी है। इस डिवाइस में ब्लूटूथ, अच्छी मेमोरी, अच्छी इन्टरनेट कनेक्टिविटी और ढेर सारे ऐप भी डाऊनलोड कर सकते है।

यह उम्र होती है जब बच्चे सारा दिन खेल के मैदानों में ही गुजार देते हैं लेकिन सिद्धांत अपनी माता के द्वारा चलाये जा रहे एनजीओ में गरीब बच्चों को कम्प्यूटर, इंग्लिश और गणित पढ़ाते हैं। वत्स वर्तमान में लंदन में पढ़ाई कर रहे हैं और अपने उत्साह और ज्ञान के द्वारा वाट लाओ समुदाय के लोगों में भी प्रसिद्धी हासिल कर चुके हैं। ये बोध गया में एक अन्तराष्ट्रीय मठ भी बनाना चाहते हैं। इससे न केवल फॉरेन इन्वेस्टमेंट बढ़ेगा बल्कि बिहार टूरिज्म को भी फायदा होगा। 

सिद्धांत को 2015 में प्रतिष्ठित लार्ड बेडेन पॉवेल नेशनल अवार्ड से सम्मानित किया गया है। यह TEDx स्पीकर भी रह चुके हैं जिसमें इन्होंने बेलफ़ास्ट में भारत का प्रतिनिधित्व किया था। आयरलैंड में होरासिस ग्लोबल बिज़नेस मीट में यह सबसे कम उम्र के स्पीकर थे।

इतनी कम उम्र में इतनी ऊँचाई हासिल करने वाले सिद्धांत न केवल प्रेरणा के स्रोत हैं बल्कि युवा शक्ति के लिए मिसाल बन चुके हैं। सिद्धांत जैसी सोच रखने वाले बच्चों के भीतर ही देश को अंतरराष्ट्रीय पहचान दिलाने की असली खूबी है। 

“कोई भी लक्ष्य मनुष्य के साहस से बड़ा नहीं, हारा वही है जिसमें लड़ने का साहस नहीं“

वह देख नहीं सकती तो क्या हुआ उसकी आंखों की अक्षमता में इतनी हिम्मत नहीं कि उसे सपने देखने से रोक सकें। वो सपने देखती है और अपने सपनों को हकीकत में बदलने का इरादा रखती है। उसने सिर्फ अपनी जिंदगी में ही नहीं बल्कि उन लोगों के जीवन में भी उम्मीद का उजाला लाया है जो आंखें होते हुए भी निराशा के अंधकार में डूब रहे हैं।हिम्मत, हौसले और पहाड़ जैसे अडिग इरादों का जीता जागता उदाहरण है महाराष्ट्र के उल्हासनगर की रहने वाली प्रांजल पाटिल।

अपने आँखो की अक्षमता से जीवन में छाए अंधेरे को प्रांजल ने रास्ते की अड़चन नहीं बनने दिया और पहले ही प्रयास में देश की सबसे कठिन मानी जाने वाली यूपीएससी की सिविस सेवा परीक्षा में राष्ट्रीय स्तर पर 773वां रैंक हासिल कर आईएएस अधिकारी बनने की ओर कदम बढ़ा दिया। प्रांजल की सफलता इसलिए भी बड़ी है कि यूपीएससी परीक्षा पास करने के लिए उसने किसी कोचिंग की मदद नहीं ली।

em3gqci7y7k2avniriaygk6c6qgewndy.jpg

प्रांजल कहती हैं कि “पढ़ाई को वे एंज्वॉय करती हैं। जापान के बौद्ध फिलॉस्फर डाईसाकू इगेडा के लेखन को पढ़कर मेरी हर दिन की शुरुआत होती है। इससे मुझे यह प्रेरणा मिलती है कि जिंदगी में कुछ भी असंभव नहीं है।”

परीक्षा में पास होने के बाद भी सफलता का सफर काँटों भरा था। यूपीएससी में सफल होने के बाद प्रांजल को भारतीय रेलवे में आई.आर.एस के पद पर कार्य करने का अवसर दिया गया। प्रांजल ने उत्साह के साथ अपनी ट्रेनिंग में भाग लिया लेकिन जब रेलवे की तरफ से चयनित विद्यार्थियों को स्थान देने की घोषणा होने लगी तब प्रांजल भी अपनी मेहनत से मिले पद को प्राप्त करके समाज को नई दिशा देना चाहती थी, लेकिन बहुत समय बीत जाने पर भी जब प्रांजल को पद और स्थान आवंटित नहीं हुआ तो प्रांजल ने अपने उच्च अधिकारियों से इसका कारण जानना चाहा। तब प्रांजल को जो कारण बताया गया उसे यदि इतने बड़े डिपार्टमेंट की अतार्किक सोच कहा जाए तो बड़ी बात नहीं होगी।

रेलवे का जवाब था कि प्रांजल सौ फीसदी दृष्टि बाधित है, अतः वह आई.आर.एस पद के लिए अयोग्य है। अब रेलवे को कौन बताए कि प्रांजल में दृष्टिबाधित होने पर भी कुछ तो प्रतिभा रही होगी तभी तो वह यूपीएससी की परीक्षा को प्रथम प्रयास में पास कर ली। रेलवे विभाग के बताये कारण से प्रांजल असंतुष्ट जरूर थी लेकिन उसने हार नहीं मानी क्योंकि वो हारना जानती ही नहीं थी। जीवन ने उसके आगे समय-समय पर मुसीबतों के पहाड़ खड़े किये है लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी। उसे हारना ही होता तो तब ही हार मान लेती जब वो 6 साल की थी और एक दिन स्कूल में बच्चे के हाथ से उसकी एक आंख में पेंसिल चुभ गई। उस हादसे ने प्रांजल की एक आंख छीन ली, अभी वो तकलीफ़ कम भी नहीं हुई थी कि साल भर बाद साइड इफेक्ट ने दूसरी आंख की भी रौशनी खत्म ही गई। 

7 साल की उस छोटी सी बच्ची के पास मायूसी और निराशा भरा जीवन जीने की लाखों वजह थी। वो छोटी जरूर थी पर कमजोर नहीं थी। उसकी हिम्मत देखिए कि जिंदगी भर की अक्षमता को दरकिनार करते हुए वो आगे बढ़ती गयी। प्रांजल के पिता ने उन्हें मुबंई के दादर स्थित श्रीमति कमला मेहता स्कूल में दाखिल कराया। यह स्कूल प्रांजल जैसे खास बच्चों के लिए था, जहाँ ब्रेल लिपि के माध्यम से पढ़ाई होती थी। प्रांजल ने वहाँ से 10वीं तक की पढ़ाई पूरी की और फिर चंदाबाई कॉलेज से आर्ट्स में 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण की जिसमें प्रांजल ने 85 फीसदी अंक प्राप्त किये। उसके बाद उत्साह के साथ बीए की पढ़ाई के लिए उन्होंने मुंबई के सेंट जेवियर कॉलेज का रुख किया।

प्रांजल कहती है कि “रोजाना उल्हासनगर से सीएसटी तक का सफर करती थीं। हर बार कुछ लोग मेरी मदद करते थे। वे सड़क पार कराते थे, तो कभी ट्रेन में बिठा देते थे। लेकिन कुछ लोग ऐसे भी थे जो कई तरह के सवाल करते थे। वे कहते थे कि रोज इतनी दूर पढ़ने के लिए क्यों आती हो? उल्हासनगर में ही क्यों नहीं पढ़ती हो? लेकिन मैं उन लोगों से कह देती कि मैं पढूंगी तो इसी कॉलेज में और इसके लिए मैं हर मुश्किल के लिए कमर कस चुकी हूँ।”

ग्रेजुएशन के दौरान प्रांजल और उनके एक दोस्त ने पहली बार UPSC सिविस सर्विस के बारे में एक लेख पढ़ा। बस फिर क्या था प्रांजल ने यूपीएससी की परीक्षा से संबंधित जानकारियां जुटानी शुरू कर दी। उस वक्त प्रांजल ने किसी से यह बात जाहिर नहीं की, लेकिन मन ही मन आई.ए.एस बनने का प्रबल इरादा कर लिया। बीए करने के बाद वह दिल्ली पहुंची और जेएनयू से एम.ए किया। इस दौरान ही प्रांजल ने आंखों से अक्षम लोगों की पढ़ाई के लिए बने एक खास सॉफ्टवेयर जॉब ऐक्सेस विद स्पीच की मदद लेना शुरू किया और अब प्रांजल को एक ऐसे लिखने वाले की जरूरत थी जो उसकी रफ्तार के साथ लिख सके। और इस विकल्प की खोज समाप्त हुई विदुषी पर जाकर। प्रांजल विदुषी के बारे में बात करते हुए कहती है “परीक्षा के दौरान विदुषी ने मेरा बखूबी साथ दिया। मैं उत्तर बोलती थी और विदुषी कागज पर तुरंत उत्तर लिख देती थी। और जब कभी मैं थोड़ा स्लो होती थीं तो विदुषी मुझे डांट भी दिया करती थी।“ 

उसने साल 2015 में तैयारी शुरू की। साथ–साथ एम.फिल भी चल रही थी। इसी दौरान उसकी शादी ओझारखेड़ा में रहने वाले पेशे से एक केबल ऑपरेटर कोमल सिंह पाटिल से हुई। लेकिन प्रांजल की शर्त थी कि वो शादी के बाद भी अपनी पढ़ाई लगातार जारी रखेंगी और इस शर्त को उनके पति ने केवल स्वीकार ही नहीं किया अपितु प्रांजल की पढ़ाई में हर प्रकार से सहयोग भी किया। माता-पिता, पति और दोस्तों के सहयोग से प्रांजल यूपीएससी की परीक्षा को प्रथम प्रयास में ही उत्तीर्ण कर ली।
प्रांजल कहती हैं कि “सफलता आपको प्रेरणा नहीं देती है बल्कि सफलता के लिए किए गए संघर्ष से आपको प्रेरणा मिलती है। लेकिन सफलता जरूरी है क्योंकि तभी दुनिया आपके संघर्ष को तरजीह देती है। आपका नजरिया और ललक आपको आगे ले जाती है और हर किसी में यह क्षमता होती है कि वो एक सुंदर समाज का निर्माण कर सके।“

ta6pqifamcdxgkjbhfvhwccnhkbr5jzr.jpg

प्रांजल के फौलादी इरादों से प्रभावित होकर समर कुमार दत्ता नाम के शख्स ने उन्हें अपनी एक आंख देने का भी फैसला किया लेकिन प्रांजल की आंखें इस लायक नहीं हैं कि ट्रांसप्लांट के जरिए उन्हें फिर से रौशनी मिल सके। फिर भी 66 वर्षीय समर के इस त्याग भाव ने प्रांजल की आंखों को नम जरूर कर दिया। प्रांजल ने फिर से अपनी मेहनत और हिम्मत से दोबारा यूपीएससी की परीक्षा दी और दूसरे प्रयास में पहले से भी अच्छे अंक प्राप्त कर दिव्यांगता को कमी बताकर ठुकराने वालों को यूपीएससी परीक्षा में 124 रैंक हासिल कर करारा जवाब दिया है। साथ ही प्रांजल ने दिव्यांग वर्ग में भी टॉप किया है।

अपनी मां को अपनी प्रेरणा मानने वाली प्रांजल आत्मविश्वास के साथ यह कहती है कि “यूपीएससी परीक्षा 2015 में 773 रैंक लाने के बाद भी रेलवे मंत्रालय ने मुझे नौकरी देने से इनकार कर दिया। क्योंकि उन्होंने मेरी आंखों की सौ फीसदी नेत्रहीनता को कमी का आधार बनाया था। मैं उन लोगों को यह दिखाना चाहती थी कि मैं दिव्यांग नहीं थी बल्कि उनकी सोच दिव्यांग थी। उन्होंने केवल मेरी अक्षमता को देखा, मेरे जज्बे को नहीं समझा। बेशक मैं आंखों की रोशनी नहीं होने के कारण इस दुनिया के रंगों को देख नहीं सकती लेकिन अनुभव कर सकती हूँ।

वाकई में मुश्किल हालातों से निकल कर अपने आई.ए.एस बनने के सपने को साकार करने वाली प्रांजल पाटिल के हौसले को सलाम है। एक ऐसा हौसला जो ना जाने कितने लोगों के लिए प्रेरणास्रोत बनकर सफलता की कहानी लिखेगा। 

We wake up every day to find stories of sexual harassment, molestation, and rape. Everywhere from a glimmering corporate house to a dingy state transport bus, women are not safe. A few days back, social media flooded with women (and men) sharing their stories of sexual assault with , followed by . But does that provide a solution? No.

Meet Dipesh Tank who is doing his bit to make this society a safer place for women. In six months, he has helped catch 140 sexual harassers in Mumbai locals by recording the act.

Unlike may of you reading this story, Dipesh grew up in a slum in Mumbai. Since his childhood, he saw his mother working hard to take care of the family, as his father suffered with health problems. His mother started her own catering business and worked for 12 hours a day to ensure a life of dignity for her children. People in the slum bad-mouthed her, as she came back home late from work. But that only increased her stature for Dipesh.

evtdkpwmdm3b7sy8jhywphlfeabj99nr.jpg

He gave up his education when he was 16 and started working as an office boy to offer some respite to his mother. He worked hard to sustain his family financially and dedicatedly became the first person to reach office and the last one to leave. He forged ahead within a few years and got employment with a reputed ad agency.

Like most Mumbaikars, Dipesh would commuted through Mumbai locals. One day, while he was passing through a station, he witnessed something that changed his life. He saw a group of men harassing women who were trying to get into the ladies compartment. He went to the cops for help, as he could not fight them alone. The cops tried to dismiss him but Dipesh kept persuading. After sometime, one of the officers went with him but by that time, those men had left. Dipesh was very saddened by that incident.

He kept on thinking about his mother who used to return home late after work. He did not want to let that incident go and decided to do something about this widespread problem. Dipesh and his friend started researching and monitoring multiple train stations. They realized there were hundreds of such harassers everywhere; and over 85 percent of women had been harassed or felt scared while travelling. He wanted to bring in a change.

Dipesh invested in a pair of sunglasses with a built in HD camera. He used to stand at the end of the women’s compartment and record everything within his sight. He felt horrible after witnessing the situation of women who faced harassment every day. After collecting all evidences, he went to the police station to show the magnitude of the problem. Fortunately, the police understood the gravity of the issue and a team of 40 police officers began working with Dipesh and his friends.

mblpbcpbjjup3t9wyn5aq4np6nwwb6sx.jpg

“People do not fight because they fear that the same thing will happen to them. They need to understand that galat karne waale ko darr zyada lagta hai (the person who has wronged is more scared).” — Dipesh to KenFolios.

The cops would stand in between two stations with Dipesh. The live feed of his recordings would catch the offenders on camera. By the time the harassers reached the station, the officers were there waiting for them. Within three to four years, the team caught hold of 150 offenders and sent them behind bars.

Dipesh says the fight continues as there is so much more to do. He has started taking up personal cases of domestic abuse to help women who feel unsafe. He says he felt responsible for the men who were behaving like beasts. All men are looked at in a poor light because of a few hundreds who create the chaos; he is hoping to restore the balance.

Dipesh is an honourable human being who knows how to respect women. Instead of ignoring and looking away, he has tried to reach the root of the problem and come up with a solution. He is giving hope to so many women who have lost trust in men and feel scared at every point in their life. This man has tremendous respect for women, especially his mother. He sends out a message to everyone, “Raise better boys at home, and the world will know fewer disrespectful men.”

(By Shubha Shrivastava)

साल 1988 में एक दुःख और गरीबी से संक्रमित घर में दीपक भट्ट का जन्म हुआ। राजस्थान से पलायन कर इनके पिता मुम्बई आ गए, जहाँ वे शादियों में गाना गाते और मूर्तियां बनाने का धंधा किया करते थे। जब दीपक सात वर्ष के थे तब उनके पिता उन्हें अपनी साईकिल में बिठा कर शहर में घूमा करते थे। जहाँ कहीं साज-सज्जा और उत्सव होता देखते, वह तेज आवाज़ में गाना गाने लग जाते ताकि लोग उन्हें गाने के लिए बुला लें। जब वे दस वर्ष के थे तब जुहू-चौपाटी पर वह गाना गाते हुए तोरण बेचते थे। उन कठिन दिनों में केवल संगीत ही था जो उनके जीने का सहारा था। जहाँ दूसरे लोग उनके गरीबी में पैदा होने को दुर्भाग्य समझते थे वहीं दीपक इसे अपनी किस्मत समझते थे कि वह संगीत की चादर में लिपटे हुए पैदा हुए। बहुत ही कम उम्र में दीपक ने ढोल की थाप समझना शुरू कर दिया था। किशोर अवस्था तक पहुँचते ही दीपक ने शादी, उत्सव और यहाँ तक कि मुम्बई की लोकल ट्रेन्स में भी ढोलक बजाना शुरू कर दिया था। 

fzyzeemmjj7cmu4ndxcuhp7stelkfm6u.jpg

एक दिन जब वह लोकल ट्रेन में संगीत में डूबे हुए थे तब किसी ने उनके इस टैलेंट और क्षमता को पहचाना। दीपक के लिए यह किस्मत की बात थी कि वे भले-मानस उस्ताद तौफ़ीक़ कुरैशी को जानते थे, जो मशहूर तबला वादक और संगीतकार थे। प्रसिद्ध तबला वादक उस्ताद अल्ला रखा के पुत्र और उस्ताद ज़ाकिर हुसैन के भाई तौफ़ीक़ ने दीपक के टैलेंट को निखारने के लिए उन्हें तालीम देने का निश्चय किया। उस समय दीपक केवल 14 वर्ष के थे परन्तु वह जल्दी सीखने वाले विद्यार्थी थे और जल्द ही वे उनके चहेते विद्यार्थी बन गए। परंतु लोग तब भी उनका मज़ाक उड़ाया करते थे। इन सब चीजों पर वह ध्यान नहीं देते थे और नकारात्मकता को अपने पर हावी होने नहीं देते। वह सिर्फ अपने हुनर को तराशने में लगे रहते थे। आज यह लड़का संगीत से विश्व में अपना नाम बना चुका है। एक दिन उनके किसी दोस्त ने बताया कि शंकर-एहसान-लॉय अपने बैंड के लिए एक ढोल बजाने वाला तलाश रहे हैं। वहाँ ऑडिशन में सभी उनके प्रदर्शन से प्रभावित हुए और उन्हें बैंड में जगह मिल गयी। और उन्हें समझ आ गया कि उनकी सफलता की यात्रा शुरू हो गयी है। 

“आज मेरे माता-पिता दोनों मुझे देखकर बहुत खुश होते हैं, विशेष कर मेरी माँ। वह बहुत गर्व महसूस करती है। पर अभी मुझे बहुत कुछ करना है अभी तो यह सिर्फ शुरुआत है l” — दीपक

आज तक दीपक ने बहुत बड़े-बड़े नामी-गिरामी लोगों के साथ परफॉर्म किया है जैसे ज़ाकिर हुसैन, एआर रहमान, शंकर-एहसान-लॉय, अमित त्रिवेदी, स्टीव स्मिथ और विशाल-शेखर। वह पूरा विश्व घूम चुके हैं और इन्होंने प्रीतम, सलीम-सुलेमान, शंकर महादेवन के साथ स्टेज भी शेयर किया है।दीपक ने ग्रैमी अवार्ड जीतने वाले वर्ल्ड म्यूजिक एल्बम 2009 के लिए ग्लोबल ड्रम प्रोजेक्ट में भी हिस्सा लिया था। जर्मनी में इंडियन सर्कस ए आर रहमान के बैंड में इन्होंने हिस्सा लिया था। बहुत फिल्मों में भी इनका योगदान रहा है जैसे धूम-2 ,भूल-भुलैया, 2-स्टेट्स, लाइफ इन अ मेट्रो।

tmiyg3dbjs4fmmurfftf2jrqu4a2bstp.jpg

 दीपक ने आज यह दिखा दिया कि कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कहाँ के हो, अगर आप अपने काम से प्यार करते हैं और अपना सब कुछ दांव पे लगा देते हैं तब निश्चय ही आप हीरक बन कर चमकेंगे। दीपक यह मानते हैं कि उन्हें अपने सपनों से भी कहीं ज्यादा मिला है। और यह केवल तभी संभव हो पाया है जब दीपक ने अपने जुनून को जिन्दा रखा और हमेशा सकारात्मक सोच के साथ चले वे आज उस मुक़ाम पर आ खड़े हैं जहाँ एक पूरी युवा पीढ़ी उनसे प्रेरणा ले सकती है।

 

Failure is a part of life but, a perspective of moving on and trying to improve is thoroughly achieved by believing in oneself. This is a story of Rishabh Lawania who failed in STD 12 but but he didn’t back down. His journey will truly amaze you.

At the age of 17 when most of the teenagers are trying to figure out their colleges and universities after choosing their field of interest to build career, Rishabh launched his first start-up. He was inspired by greats like Steve Jobs and Bill Gates.

He wanted to do something beyond ordinary. Unlike other students, taking some entrance exams for engineering colleges, he launched his first venture the very year he flunked in STD 12.

Since he came from a non-business family, nobody was there to guide or support him. “Nobody expected that I would start a business, much less a technology start-up because I have no technical background what so ever,” recalls Rishabh.

During the gap year, just after his STD 12 board exams he launched his own management company - Red Carpet Events. The company helped organized/ co-organized 70 plus promotional, corporate events across Delhi, NCR, Jaipur. This venture made him realize the power of networking.

“The inspiration to launch a tech start-up came to me during my early years as an independent event organiser. During this phase of my life, I understood the power of networking. At the time, my focus was on connecting with as many entrepreneurs, VCs and investors as I could and understanding from them how to start a business,” Rishabh explained.

Series of unsuccessful attempts

syu3ypkty7nyzsrqyankdfc24ggejsmb.jpg

In 2013, he started JusGetIT, a logistic start-up which specialized in delivering groceries. This start-up partnered with more than 30 vendors and shopkeepers and helped them maximize their revenues by offering its tech solutions. the venture, however failed. “This start-up was operational for six to seven months and failed to grow in a way it was envisioned mainly because of lack of understanding of the market & insufficient funds” says Rishabh.

He further added,"Although funding was available to Indian start-up at the time, we were not able to figure out the way to do it. However, we learned a lot. We had reached out to a lot of investors and through that, eventually, learned how to raise funding. That was the time when the entire hyperlocal thing was just starting up in India. Back in 2013-14, Grofers and Bigbasket were at a pretty nascent stage. We figured out that we did not have a cost-effective model," explains Rishabh.

The failure of JusGetIT didn’t stop Rishabh, instead he focused on creating a sustainable business to business tech platform which is also scalable. In 2015, He went to US where he teamed up with techie Keshu Dubey to launch XELER8, his most famous and successful venture.

Xeler8 is a deal sourcing and start-up research platform. Their database acts as a start-up tracker for the global investing community looking to invest in high potential start-ups. Rishabh says, the idea behind Xeler8 came to him when he tried to learn more about his competitors.

“Back then, there was Bloomberg & similar platforms, which had databases of big companies. However, there were not many platforms that focused on start-ups. Even the ones that existed, did not have good coverage when it came to start-ups. This was pretty much a good product market fit,” says Rishabh.

Convinced of the product’s marketability, the Xeler8 team in the US built a beta product and launched it exclusively for certain invite-only angel investors, start-ups and VCs. Within months, the company launched its first product in India.

Xeler8 didn’t just provided basic details such as name of the start-up, founders and investors, but also an estimated valuation of the company. According to Rishabh, this was very tricky as the entire process of evaluation was based on around 16 to 17 parameters and Xeler8 hired a separate team of analysts specifically for this job.

 Just after a year Xeler8 commenced its operations, it was acquired by ZDream Ventures, while it was still at the development stage. ZDream Ventures is a Chinese accelerator and venture fund with a start-up incubator in Gurugram.

Many may argue why anyone would sell a start-up so fresh and innovative.

Rishabh on the decision of selling says “With Xeler8, I was a third-time entrepreneur. It should be noted that the start-up was bootstrapped since its launch. From the very beginning, we knew that we had to face the reality that Xeler8 was never going to be a $100 Mn company. We knew the upper cap that we could go to. But, I was aware that I needed to exit from it at the right time.”

Entrepreneur to investor

Following the acquisition of Xeler8, Rishabh joined ZDream venture as COO and the Head of Investment. This was the beginning of his journey as an investor. It was during his role as the COO OF ZDream venture that Rishabh gained a strong understanding of start-up ecosystem across India, japan, and the USA along with the challenges and opportunities. During his short stint at Xeler8, he invested in a small portfolio of Indian companies.

4tbdeuq7tsubfrawfdsmepzbdubrtpa5.jpg

Rishabh stepped down from his job within one year to start another venture with his long-time partner Keshu Dubey and Nayantara Jha in emerging land of Africa.

Latest venture in Africa

Wee Tracker is Rishabh’s latest venture. It’s a global Tech media which specializes in African ecosystem. It aims to nurture start-ups in the continent in a three-way holistic fashion: inform, educate and invest. The start-up will serve as a platform that strives to bridge the gap that currently exists between emerging markets like Africa and developed ecosystems across the world.

As part of the skill development programme, Lawania and his partners are planning to take a group of African entrepreneurs to China and another batch to India in June of this year.The company is looking to back start-ups that are post-proof of concept and are trying to solve a local problem with immediate social impact.WeeTracker already has up to 75 entrepreneurs, mentors and product manager across diverse sectors, andis currently said to be in the process of raising a $20 Mn fund.

Inspiration to young generation

Dreams play a significant role in one’s life. Dreams not only helps in survival but also in blooming.

Grads from IIT, IIM have been treated as the holy grail across India and more so are known for their start-up ecosystem. They are considered like exclusive club for start-up. Our generation is condemned for its vanity, lack of focus but some gem overwhelms us in all ages with their determination and focus. Rishabh Lawania is one such name, from flunking in STD 12 to dropping out of MBA to becoming a millionaire at just 24. His extraordinary story is truly inspirational.

... or jump to: 2018