Feed Item

किसी भी बिजनेस को स्टार्ट करने के लिए पुँजी निवेश की आवश्यकता होती है। कागजों पर तो बिजनेस का हर आईडीया या माॅडल बहूत आकर्षक लगता है। परंतु वास्तविक धरातल पर काफी कठानाईयों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में निवेशक न्युनतम रिस्क लेना चाहते हैं। ऐसे हालात में यदि कोई स्टार्ट अप पहले अपने को साबित करतें हैं तो निवेशक के लिए भी पुँजी निवेश का राह आसान हो जाता है।

इसी नीति पर अमित जैन और अनुराग जैन ने अपने स्टार्ट अप कारदेखो.काॅम की शुरुआत की। 'कारदेखो' की शुरुआत में इन्होंने खास स्ट्रैटजी अपनाते हुए मार्केट से फंड जुगाड़ नहीं किया क्योंकि ऐसे में प्रमोटरों की इक्विटी बहूत जल्दी डायल्यूट हो जाती है। आज उनकी कंपनी 400 मिलियन डाॅलर की बन गई है। उन्होंने पहले अपना रेवेन्यू स्ट्रीम तैयार किया और फिर निवेशकों को पुँजी निवेश के लिए आमंत्रित किया। अपने प्रोजेक्ट को स्टार्ट करने के लिए इनके पास पुँजी थी लेकिन एक बड़े ब्रैण्ड के तौर पर उसे स्थापित करने के लिए और मार्केंटिग करने के लिए निवेश को जुटाया। 'कारदेखो' की शुरुआत के 5 सालों के बाद 2013 में उन्हें पहला पुँजी निवेश मिला। इसके बाद कई निवेशकों ने इनकी कंपनीयों में विश्वास किया और तब से रतन टाटा, शिक्योया कैपिटल, गुगल कैपिटल, हाऊसहिल कैपिटल, टाईबोर्न कैपिटल, टाईम्स इन्टरनेट, एच.डी.एफ.सी. बैक से 80 मिलियन डाॅलर का निवेश प्राप्त किया है। 

IIT दिल्ली से ग्रेज्युएट दोनो भाई अमित जैन और अनुराग जैन ने अलग अलग कंपनी में काम किया। अमित 'ट्रीलाॅजी' में 7 वर्ष और अनुराग ने 'साबरे हाॅलिडेज' में 5 साल काम किया। पिता के स्वास्थ्य कारणों से दोनो काम छोड़ कर वापस अपने घर जयपुर आ गये। परंतु अपने ज्वेलरी के परिवारिक व्यवसाय को छोड़ कर दोनो ने अपना नया बिजनेस करने का मन बनाया । दोनो भाईयों ने मिलकर 'गिरनारसाॅफ्ट' एक सुचना प्रौद्योगिकी आउटसोर्सिंग कंपनी की स्थापना की। प्रारंभ में उनका आॅफिस उनका बेडरुम था। काफी मेहनत मश्क्कत के बाद उन्हें अपना पहला ग्राहक मिला और 50,000 की डील फाईनल हुई। हांलाकि यह स्टैण्डर्ड प्राईसिंग से काफी कम था। फिर भी उन्होंने काम किया और फिर धीरे धीरे एक ग्राहक से दूसरे ग्राहक जुड़ते चले गये। 1 अप्रैल 2007 को उन्होंने अपने लिए पहला कर्मचारी रखा और एक साल के अन्दर ही 40 सदस्यों का एक मजबूत सदस्यों का टीम बन गया। अब इनके पास इतनी जमा पुँजी हो गई थी की वह एक और नई शुरुआत कर सकते थे।

कई सारे विचार विमर्श और सोच के बीच ही 2008 में में दोनो भाई दिल्ली आॅटो कार एक्सपो-2008 देखने गये और वहाँ से 'कारदेखो' की राह चल पड़ी। दोनो ने एक ऐसा प्लेटफार्म तैयार करने का मन बनाया जहाँ से कार खरिदना आसान हो। दोनो भाईयों ने वहाँ से सभी कारों की विवरण पुस्तिकाएं इक्कठा की और वेबसाईट 'कारदेखो' की शुरुआत 2008 में की। 'कारदेखो' मूलतः एक ऐसी वेबसाईट है जहाँ से उपयोगकर्ता को कार के मूल्य, उसके उत्पादक, माॅडल और उसकी विशिष्टताओं की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इसमें एक साथ चार कारों की आपसी तुलना की जा सकती है। इसके साथ ही साथ विडियो, तस्वीरों और 360 डिग्री पर अलग अलग कोण से विस्तृत रुप से कार के आंतरिक और वाह्य आवरण को देखा जा सकता है। 'कारदेखो' पर यह सभी जानकारीयाँ कार और गाड़ीयों के विशेषज्ञों द्वारा उपलब्ध कराई जाती है। 

शुरुआत में अमित और अनुराग को काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ा। कार व्यवसाइयों को राजी करना इतना आसान नहीं था। उस समय कार डिलर अपने परंपरागत प्रचार माध्यमों का ही इस्तेमाल किया करते थे उन्हें डिजिटल माध्यम की क्षमताओं को समझा पाना कठिन था। परंतु जब कार डिलरों ने देखा की 'कारदेखो' से जुड़ने के बाद उनके शोरुम में ग्राहकों की आवाजाही बढ़ी है तो और भी कई लोग अमित और अनुराग के इस माध्यम में जुड़ते चले गये। 'कारदेखो' बिना किसी शुरुआती वाह्य निवेश के एक प्रमुख कार पोर्टल बन गई। यह जैन बंधुओं की एक बहूत बड़ी सफलता साबित हुई। 

'कारदेखो' 'गिरनारसाॅफ्ट' की प्राथमिक ईकाई है। इसके साथ 'बाईकदेखो', प्राईसदेखो', 'टायरदेखो', 'काॅलेजदेखो' जैसी सफल ई-काॅमर्स ईकाईयों की शुरुआत जैन बंधुओं ने की। जयपुर की इस कंपनी के भारत में 7 शहरों में कार्यालय है। 2000 कर्मचारीयों वाली इस कंपनी में प्रत्येक माह 3.5 करोड़ उपभोक्ता देखते हैं। अपनी इस कंपनी को अन्तराष्ट्रीय स्तर देने के लिए 'कारदेखो' विदेशों में भी अपनी शाखाएँ शुरु की है। 2015 में 'कारबे.माई' की स्थापना मलेशिया और थाईलैण्ड के ग्राहकों के लिए की गई है। अमित जैन और अनुराग जैन के इस उपक्रम को डिजिटल इम्पावरमेंट फाउण्डेशन नें बिजनेस एण्ड कामर्स की श्रेणी में 2016 के लिए इसे सबसे बेहतरीन कंपनी चुना है। अनुराग कहते हैं कि वे इस अपनी कंपनी को कार खरिदने के पुर्व और बाद की सेवाओं का पर्याय बनाना चाहते हैं।

"दुनिया आपकी राय से नहीं बल्कि आपके उदाहरणों से बदलेगी"

अमित जैन और अनुराग जैन ने ऐसा उदाहरण प्रस्तुत किया जिसके कौशल से सबमें विश्वास जगा और पुँजी निवेश के लिए मार्ग प्रशस्त किया। एक स्टार्ट अप को चाहिए कि वह धीरे-धीरे शुरुआत करें और अपने आय के माॅडल को वास्तविक रुप में दृढ़ बनाये। सफलता के आगे हर राह आसान होती है। अावश्यकता है धैर्य और आत्म विश्वास की।